16वां भारतीय फैशन जूलरी और एक्सेसरीज मेला (आईएफजेएएस) 2022

विजन लाइव/ ग्रेटर नोएडा
पीयूष गोयल, माननीय केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता मामलों, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण और वस्त्र मंत्री, भारत सरकार ने 16वें भारतीय फैशन जूलरी एवं एक्सेसरीज शो का उद्घाटन किया.  गौतमबुद्धनगर से सांसद डॉ. महेश शर्मा गेस्ट ऑफ ऑनर थे.

 20 जून 2022- माननीय केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता मामलों, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण और वस्त्र मंत्री श्री पीयूष गोयल ने एक रंगारंग कार्यक्रम के दौरान 16वें भारतीय फैशन जूलरी एवं एक्सेसरीज शो का संयुक्त रूप से उद्घाटन किया जो 67वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय गारमेंट मेले के साथ-साथ आयोजित किया जा रहा है. ये मेले एनसीआर दिल्ली के ग्रेटर नोएडा स्थित इंडिया एक्सपो सेंटर ऐंड मार्ट में आयोजित किए जा रहे हैं. आईएफजेएएस का आयोजन हस्तशिल्प निर्यात संवर्धन परिषद (ईपीसीएच) करती है जबकि आईआईजीएफ परिधान निर्यात संवर्धन परिषद (एईपीसी) द्वारा किया जाता है. इस अवसर पर गौतमबुद्धनगर के सांसद डॉ. महेश शर्मा उपस्थित थे.

उपरोक्त गणमान्य व्यक्तियों के अलावा, अनिल अग्रवाल, संसद सदस्य (राज्य सभा), धर्मेश एस तोमर, विधायक-उत्तर प्रदेश, डॉ ए शक्तिवेल अध्यक्ष, फियो, ललित ठुकराल, अध्यक्ष, भारत अंतर्राष्ट्रीय परिधान मेला (आईजीएफए), नरेन गोयनका, अध्यक्ष, एईपीसी, संदीप छाबड़ा, अध्यक्ष - रिसेप्शन समिति, आईएफजेएएस 2022; ईपीसीएच और एईपीसी दोनों के समिति सदस्य उद्घाटन समारोह के दौरान उपस्थित थे, राकेश कुमार, महानिदेशक, ईपीसीएच और अध्यक्ष, इंडिया एक्सपोज़िशन मार्ट लिमिटेड ने बताया।

अपने उद्घाटन भाषण में, पीयूष गोयल, माननीय केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री, उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण और कपड़ा, भारत सरकार ने कपड़ा और हस्तशिल्प क्षेत्र की सराहना की। उन्होंने इंडिया एक्सपो सेंटर एंड मार्ट को असाधारण और स्वतंत्र रूप से लाभ कमाने वाला प्रदर्शनी केंद्र कहा। उन्होंने भारत के विकास और विकास में योगदान देने में इस क्षेत्र के महत्व पर जोर दिया, अगले पांच से छह वर्षों में उत्पादन को दोगुना करने और निर्यात को तीन गुना करने की उम्मीद की। उन्होंने भारत और यूरोपीय संघ, स्विट्ज़रलैंड, यूके, कनाडा, इज़राइल, एलएसी देशों और मध्य पूर्व के बीच बातचीत और काम किए जा रहे कई व्यापार समझौतों पर व्यापार का भी मूल्यांकन किया। उन्होंने साझा किया कि दुनिया भारत को एक विशाल क्षमता और अपार संभावनाओं वाले राष्ट्र के रूप में देख रही है। उन्होंने इस क्षेत्र को क्लस्टर-आधारित विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहित किया क्योंकि यह समग्र, लागत प्रभावी और टिकाऊ है। उन्होंने MICE सेक्टर के साथ-साथ टेक्सटाइल, फैशन ज्वैलरी और एक्सेसरीज की सफलता के लिए आयोजकों की सराहना की।

गौतम बुद्ध नगर से सांसद डॉ. महेश शर्मा ने कहा, ' द हैप्पेनिंग प्लेस ' - इंडिया एक्सपो सेंटर और मार्ट में आकर उन्हें बहुत अच्छा लगा और खुशी हुई। उन्होंने बुनियादी ढांचे के विकास और प्रगति को देखते हुए, विशेष रूप से बिजली की उपलब्धता में सुधार और प्रदर्शनी केंद्र के करीब जेवर में आगामी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, उच्च लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए इस क्षेत्र की सराहना की और प्रोत्साहित किया।

ईपीसीएच Director General Mr. Rakesh Kumar ने बताया कि 16वां भारतीय फैशन जूलरी ऐंड एक्सेसरीज शो- आईएफजेएएस 2022 विदेशी खरीदारों, खरीद व सोर्सिंग पेशेवरों के साथ ही बड़ी संख्या में घरेलू खुदरा खरीदारों के लिए भी एक सोच विचार कर तैयार किए गए सेक्टर विशेष शो के रूप में खुला है. देश के विभिन्न हिस्सों से आए 150+ से अधिक प्रदर्शकों ने यहां फैशन जूलरी, सेमी प्रेशस जूलरी, बेल्ट और पर्स, हैंड बैग और पर्स, फैशन एक्सेसरीज, हेड व हेयर एक्सेसरीज, स्टोल एवं स्कार्फ, शॉल, कसीदाकारी, बीड्स ऐंड सीक्विन्ड एक्सेसरीज, फैंसी फुटवियर, कलात्मक परिधान, प्रोटेक्टिव वीयर एक्सेसरीज और अन्य घटक प्रदर्शित किए हैं.

आईएफजेएएस 2022 के दौरान फैशन शो का आयोजन भी किया जाएगा जो खरीदारों के लिए मुख्य आकर्षणों में से रहेंगे, वे फैशन जूलरी एवं एक्सेसरीज के विभिन्न और उत्कृष्ट उत्पादों को इनमें रैंप पर चलते मॉडलों के जरिए देख सकेंगे.

आईएफजेएएस 2022 के स्वागत समिति के अध्यक्ष संदीप छाबड़ा ने कहा कि विभिन्न शिल्प समूहों के कारीगरों के उत्पादों को बढ़ावा देने के ईपीसीएच के प्रयासों के तहत आईएफजेएएस में पूर्वोत्तर, पूर्वी, पश्चिमी, मध्य, उत्तरी और दक्षिणी क्षेत्रों के प्रतिभागियों के साथ एक विशेष क्षेत्रीय डिस्प्ले स्थापित किया गया है. ये खरीदारों के लिए एक और आकर्षण का केंद्र होगा और इस तीन दिवसीय आयोजन के दौरान कारीगरों के इस स्टैंड में उनका आगमन इसमें भाग ले रहे प्राथमिक उत्पादकों को मनोबल को बढ़ाएगा.

आईएफजेएएस सिर से पैर तक फैशन सोर्सिंग, फैशन जूलरी से लेकर परिधानों तक के एक्सेसरीज, के लिए खरीदारों के आकर्षित करने वाला अपने आप में एक अनूठा मेला है. यह ईपीसीएच द्वारा आयोजित किया जाता है, जो मशहूर आईएचजीएफ मेले को साल में दो बार आयोजित करते हैं.

ईपीसीएच दुनिया के विभिन्न स्थानों में भारतीय हस्तशिल्प के निर्यात को बढ़ावा देने और विदेशों में भारत की छवि को उच्च गुणवत्ता वाले हस्तशिल्प उत्पादों और सेवाओं के विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता के रूप में पेश करने वाली एक नोडल एजेंसी है.

डॉ. राकेश कुमार ने बताया कि साल 2021-22 के दौरान हस्तशिल्प निर्यात 33253.00 करोड़ ( 4459.76 मिलियन अमेरिकी डॉलर) रहा, जिसमें बीते वर्ष की तुलना में रुपये के संदर्भ में  29.49% और डॉलर के संदर्भ में 28.90% की वृद्धि हुई. साल 2021-22 के दौरान भारतीय फैशन जूलरी एवं एक्सेसरीज का निर्यात 1908.517 करोड़ रुपये (255.97 मिलियन अमेरिकी डॉलर) रहा जिसमें बीते वर्ष की तुलना में 24.20% वृद्धि दर्ज की गई.