ख्वाजा सैयद अहमद शाह कुतुब सलामी रहमतुल्ला अलैहि खजूर वाले बाबा यमुना एक्सप्रेसवे, स्पोर्ट्स सिटी दनकौर का 39 वां सलाना उर्स मुकद्दस संपन्न

 




विजन लाइव/दनकौर

ख्वाजा सैयद अहमद शाह कुतुब सलामी रहमतुल्ला अलैहि खजूर वाले बाबा यमुना एक्सप्रेसवे, स्पोर्ट्स सिटी, दनकौरी और सूफी बशीर अली चिश्ती समदी साबरी रहमतुल्ला अलैहि दनकौरी की दरगाह पर 39 वां सलाना उर्स मुकद्दस कार्यक्रम की रस्म अदायगी की गई। दूसरे दिन गुरूवार को कुल शरीफ संपन्न हुआ और जिसमें मुल्क की तरक्की, खुशहाली और कोरोना जैसी महामारी को दूर किए जाने की भी दुआ मांगी गईं। जंहागीरपुर से आए समीर जमीर साबरी कव्वाल ने घुंघरूओं की आवाज मुंह से निकाली और साथ ही कांच बजा कर सुर और ताल की धुन से महफिल मेंं शमा बाध दिया और कलाम पेश किया। दूसरे दिन गुरूवार को रंग पेश किया गया और कुलशरीफ संपन्न हुआ। कुल शरीफ के मौके पर ख्वाजा सैयद अहमद शाह कुतुब सलामी रहमतुल्ला अलैहि खजूर वाले बाबा यमुना एक्सप्रेसवे, स्पोर्ट्स सिटी दनकौरी और सूफी बशीर अली चिश्ती समदी साबरी रहमतुल्ला अलैहि दनकौरी की दरगाह के सज्जादानशीन सूफी गुलाम चिश्ती बशीरी समादिया चिश्तिया साबरी दनकौरी, चिश्तिया लुत्फिया दरगाह के सज्जादानशीन फजलुरहमान लुत्फी चिश्ति हमीदी दनकौरी, आजम तारा बाबा दरगाह दनकौर के सज्जादानशीन मौहम्मद आरिफ मलिक दनकौरी, तहसील वाली दरगाह बल्लभगढ़ हरियाणा के सज्जादानशीन अब्दुल गफ्फार गफ्फारी, सूफी मुंशी गफ्फार जेवरी के खलीफा रियासत अली गफ्फारी, अव्वल खलीफा वजीर भाई गफ्फारी दनकौरी, खलीफा याकूब अली सैफी गफ्फारी खोड़ा कॉलोनी, खलीफा आस मौहम्मद सैफी इकबाली दनकौरी, सूफी हाजी सलीम सैफी गफ्फारी खोड़ा कॉलोनी,गुड्डू राइन गफ्फारी दनकौरी, डॉक्टर रहमत अली गफ्फारी दनकौरी, इंतजामिया कमेटी के सदर रसूल बख्श मियां उर्फ रसूला मियां, सईद अहमद साबरी, नासिर हुसैन अब्बासी, पेश इमाम मस्जिद भिश्तियान दनकौर मौलाना अब्दुल कलाम,मौहम्मद नफीस कादरी रबूपुरा आदि खुशूसी मेहमान उपस्थित रहे। सज्जादानशीन सूफी गुलाम चिश्ती बशीरी अहमदी समादिया चिश्तिया साबरी दनकौरी और इंतजामिया कमेटी के सदर रसूल बख्श मियां उर्फ रसूला मियां ने ’’विजन लाइव’’ डिजिटल मीडिया को बताया कोरोना जैसी महामारी पूरी दुनियां में फैली और साथ इस मुल्क में न जाने कितनी ही जानें चली गईं। कुल शरीफ में दुआएं की गई हैं कि अब इस कोरोना बवा से मुल्क और पूरी दुनियां को छुटकरा मिलें और साथ ही परवरदिगार तरक्की और खुशहाली अता फरमाए। उन्होंने बताया कि चूंकि यह इस बार 39 वां सालाना उर्स कार्यक्रम था, किंतु सरकार की कोरोना को लेकर गाइड लाइन के मद्देनजर सिर्फ एक कव्वाल को बुलाया गया और उर्स मुकद्दस की रस्म अदायगी ही की गई है। उन्होंने बताया कि पुलिस प्रशासन को कार्यक्रम की इत्तिला देते हुए कोरोना की गाइड का इस कार्यक्रम में पूरी तरह से पालन किया गया है।