विजन लाइव /गाजियाबाद
जनपद गाजियाबाद में तैनात संयुक्त निदेशक अभियोजन दयाशंकर राम त्रिपाठी सेवानिवृत्त हो गए है। श्री त्रिपाठी का विदाई समारोह जनपद गाजियाबाद कलेक्ट्रेट परिसर स्थित अभियोजन कार्यालय में आयोजित किया गया। इस आयोजन में जनपद गाजियाबाद के अभियोजन विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों के अतिरिक्त बाहर से आए हुए अभियोजन विभाग के अधिकारी भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम की अध्यक्षता मेरठ/सहारनपुर मण्डल के अपर निदेशक अभियोजन  चन्द्रशेखर त्रिपाठी ने की। विशिष्ट अतिथि के रूप में अलीगढ़ और कानपुर मण्डल के अपर निदेशक अभियोजन एस.के. वर्मा तथा केन्द्रीय सतर्कता आयोग के पूर्व संयुक्त निदेशक नागेन्द्र दुबे उपस्थित थे। अन्य उपस्थित वरिष्ठ अधिकारियों में राजेश मिश्रा संयुक्त निदेशक अभियोजन बुलन्दशहर,  कमलेश संयुक्त निदेशक अभियोजन बागपत, उमेश चंद्र त्रिपाठी संयुक्त निदेशक अभियोजन गौतमबुद्धनगर,  ललित मुद्गल संयुक्त निदेशक अभियोजन मा.उच्च न्यायालय खण्डपीठ लखनऊ,  छवि रंजन द्विवेदी एस.पी.ओ. गौतमबुद्धनगर,  एच.एस. एस एस.पी.ओ. बागपत,  अजय मिश्रा एस.पी.ओ. पुलिस अकादमी मुरादाबाद,  राकेश चौहान सहायक निदेशक सूचना गाजियाबाद,  जे.पी. चन्द, जिला मनोरंजन कर अधिकारी गाजियाबाद, पूर्व अपर निदेशक अभियोजन सहारनपुर मण्डल  जे. डी. मिश्रा, पूर्व संयुक्त निदेशक अभियोजन हापुड़  डी.सी. श्रीवास्तव, पूर्व एस.पी.ओ. गाजियाबाद  अभिमन्यु मिश्रा उपस्थित रहे।अन्य उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों में  रामेश्वरम चौधरी, एन.सी.आर.अध्यक्ष भारतीय किसान यूनियन (भानू),  रणवीर नागर एडवोकेट,  राजीव प्रधान एडवोकेट,  अमित कुमार राना एडवोकेट के साथ गौतमबुद्धनगर और गाजियाबाद के अधिवक्तागण और पुलिस के अधिकारी/ कर्मचारी विशेष रूप से उपस्थित रहे। कार्यक्रम के प्रारंभ में श्री त्रिपाठी का शाल ओढ़ाकर और फूल मालाएं गले में डालकर सम्मान किया गया। सभी उपस्थित अतिथियों ने  त्रिपाठी  से सम्बन्धित अपने अपने अनुभव साझा करते हुए उन्हें साहसी, सहयोगी, कर्मठ और प्रतिकूल परिस्थितियों में भी विचलित न होने वाला अधिकारी बताया तथा सेवानिवृत्ति के बाद  उनके अच्छे स्वास्थ्य और खुशहाल जीवन की कामना की। श्री दयाशंकर राम त्रिपाठी ने अपने भावपूर्ण उदबोधन में समारोह में उपस्थित आए सभी लोगों को व्यक्तिगत रुप से धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम का सफल संचालन गाजियाबाद की अभियोजन अधिकारी श्रीमती शैली भारद्वाज ने सहायक अभियोजन अधिकारी श्रीमती प्रेमलता, कु. सोनिया और श्री स्वदेश कुमार शर्मा के सहयोग से किया।