मुजफ्फरनगर महापंचायत में होगी तीन कृषि कानूनों को वापस कराने की रणनीति तय. राजेश चौहान

 


विजन लाइव/दनकौर

 भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक की दनकौर में स्थित कैंप कार्यालय पर रविवार को पंचायत हुई। पंचायत का संचालन मीडिया प्रभारी सुनील प्रधान ने किया। पंचायत में पहुंचे पूर्व प्रदेश अध्यक्ष राजेश चौहान ने किसानों से कहा कि 5 सितंबर को मुजफ्फरनगर में होने वाली महापंचायत में तीन कृषि कानूनों को वापस कराने की रणनीति तय की जाएगी। इसलिए जिले से अधिक से अधिक संख्या में किसान महापंचायत में पहुंचे। साथ ही मुरादाबाद मंडल प्रभारी पवन खटाना ने कहा कि आने वाली 5 तारीख को मुजफ्फरनगर में महापंचायत होगी और वह महापंचायत ऐतिहासिक होगी क्योंकि बीजेपी सरकार से किसान बहुत दुखी है, पिछले काफी समय से धरने पर बैठे हैं, आने वाले अगले साल में उत्तर प्रदेश में चुनाव है। चुनाव में किसान सरकार को बदलने का काम करेगा और अपने हक की लड़ाई करता रहेगा। एनसीआर अध्यक्ष एवं आगरा मंडल प्रभारी सुभाष चौधरी ने कहा कहा कि पिछले करीब 9 माह से किसान तीन कृषि कानूनों के विरोध में गाजीपुर बॉर्डर पर धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। केंद्र सरकार से किसानों की करीब 11 दौर की वार्ता के बाद भी किसानों की समस्या का समाधान नहीं हुआ है। साथ ही हरियाणा के करनाल में शांति पूर्वक धरना प्रदर्शन कर रहे किसानों पर सरकार द्वारा लाठीचार्ज कर बर्बरता दर्शाई गई है। इसके विरोध में मुजफ्फरनगर में महापंचायत का आयोजन किया जा रहा है। इस महापंचायत में उत्तर प्रदेश समेत हरियाणा, राजस्थान व मध्य प्रदेश आदि से किसान लाखों की संख्या में शामिल होंगे। उन्होंने भाजपा सरकार की नीतियों को किसान विरोधी बताते हुए कहा कि प्रशासनिक अधिकारी किसानों का शोषण कर रहे हैं। इस दौरान अनित कसाना, पवन खटाना, सुभाष चौधरी, सुनील प्रधान, परविंदर अवाना, शमशाद सैफी, विनोद शर्मा, अंकुर शर्मा, मटरू नागर, राजे प्रधान, विकास शर्मा, संजय शर्मा, सुमित,  महेंद्र सिंह,पूरन पहलवान,महेंद्र मुखिया, नरेंद्र नागर, बॉबी नागर,दया प्रधान, जीवन सिंह, ओमप्रकाश प्रधान,दिनेश शर्मा व विभोर शर्मा आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण मौजूद रहे।