दनकौर क्षेत्र के नौरंगपुर गांव से अपहृत किए गए बच्चे को पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया 

 


विजन लाइव/गौतमबुद्धनगर

गौतमबुद्धनगर में अलग अलग स्थानों पर बच्चों के अपहरण किए जाने के मामले प्रकाश में आए हैं। इनमें सूरजपुर क्षेत्र में अपहृत बच्चे की हत्या कर दी है। जब कि दनकौर क्षेत्र के नौरंगपुर गांव से अपहृत किए गए बच्चे को पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया है। गौरतलब है कि दनकौर कोतवाली क्षेत्र के नौरंगपुर गांव से दिनांक 13 फरवरी-2021 को एक बच्चा अचानक लापता हो गया था। नौरंगपुर गांव निवासी सुरेंद्र नागर का पुत्र यश नागर गांव के ही एक पब्लिक स्कूल में चौथी कक्षा का छात्र है। यश नागर घर के बाहर खेल रहा था। बताया गया कि अचानक दो बाइक सवार छात्र को उठाकर ले गए। इस घटना की सूचना पुलिस को दी गई, पुलिस ने बच्चे की सकुशल बरामदगी के लिए 15 टीमों का गठन कर तलाश शुरू कर दी। डीसीपी जोन-3 राजेश कुमार सिंह ने बताया कि रविवार की शाम को पुलिस को सूचना मिली कि अमरपुर गांव के पास इस बच्चे को 02 लोगो द्वारा बाइक पर ले जाते हुए देखा गया है। पुलिस द्वारा तत्काल कार्यवाही करते हुए गांव की घेराबंदी की गई। घेराबंदी को देख बदमाश बच्चे को औरंगपुर गांव के पास पेट्रोल पंप के नीचे कच्ची सड़क पर छोड़ कर भाग गए। पुलिस ने बच्चे को सकुशल बरामद कर परिजनों को सुपर्द कर दिया है। साथ ही अपहरण करने वाले बदमाशों की गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं।

अपहृत बच्चे की बरामदगी में श्रेय लेने की सासंद और विधायक में भी रही होड

 







मौहम्मद इल्यास/ग्रेटर नोएडा

.........................................................

दनकौर क्षेत्र के नौरंगपुर गांव में अपहृत हुए यश नागर की पुलिस ने सकुशल बरामदगी कर ली है। इससे न केवल परिवार और गांव के लोगों ने राहत की सांस ली है बल्कि पूरे क्षेत्र में खुशी की लहर है। किंतु स्थानीय सांसद और विधायक तक बच्चे की बरामदगी को लेकर श्रेय लेने की होड में कतई पीछे नही रहे। पूर्व केंद्रीय मंत्री व सासंद डा0 महेश शर्मा ने ग्रामीणों से मुलाकात कर पुलिस के आला अफसरों को ताकीद किया कि बच्चें की जल्द ही सकुशल बरामदगी की जाए। अब सासंद के समर्थक सोशयल मीडिया पर मैसेज प्रसारित कर सांसद महोदय को ही श्रेय देने की कोशिशों में लगे हुए हैं। सासंद समर्थकों ने नौरंगपुर गांव के कुछ लोगों को सासंद से मिलवाया था। वहीं जेवर के विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह तो श्रेय लेने की होड में और भी एक कदम आगे हो गए। जेवर विधायक ठाकुर धीरेंद्र सिंह बाकायदा पुलिस अधिकारियों के साथ बच्चे को सुपुर्द करने के लिए नौरंगपुर गांव पहुंंचे। परिवार ने विधायक और पुलिस को धन्यवाद दिया। बच्चा घर वापस पहुंचा तो उसकी मां और परिवार के दूसरे सदस्य से लिपटकर खूब रोए। सोशयल मीडिया पर अब जेवर विधायक द्वारा बच्चों को परिजनों को सुपुर्द किए जाने की खबरें जमकर वायरल हो रही हैं। विधायक धीरेंद्र सिंह की ओर से कहा जा रहा है कि बच्चे को बरामद करने के लिए पुलिस ने बेहद तेजी और शानदार ढंग से काम किया। जिस तरह पुलिस ने महज 24 घंटों में बच्चे को बरामद किया है, वह प्रशंसनीय है। मैं इस केस की जांच कर रहे अफसरों और पूरी पुलिस टीम को पुरस्कृत करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखूंगा। पुलिस टीम का नागरिक सम्मान भी किया जाएगा। इनके अलावा बच्चे के लापता होने के मामले में कुछ छुटभैये नेताओं ने भी राजनीति करने की कोशिश की। खासतौर से जेवर विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे नेता सक्रिय हो गए थे। लगातार बच्चे के परिजनों को धरना, प्रदर्शन, पंचायत और रोड जाम करने के लिए उकसाया जा रहा था। इन्हीं लोगों के दबाव में परिजनों ने सोमवार को पंचायत करने का ऐलान किया था। दूसरी ओर परिवार को लगातार मीडिया पर दबाव बनाकर खबरें प्रकाशित करवाने के लिए कहा जा रहा था, जिससे पुलिस और सरकार को बदनाम किया जा सके। वहीं पुलिस लगातार परिजनों को समझा रही थी कि अगर मामले में ज्यादा मीडियाबाजी होगी तो बच्चे की जान को खतरा हो सकता है। पुलिस लगातार परिवार के संपर्क में थी। ऐसी एक दुखद घटना में ग्रेटर नोएडा एक थानाक्षेत्र से गायब बच्चे की हत्या कर दी गई थी।