BRAKING NEWS

6/recent/ticker-posts

Header Add

देश का सिस्टम गड़बड़ हो रहा, झूठ का झंडा है भारी


   चौधरी  शौकत अली चेची
लगभग 24% मुस्लिम  लेकिन मुस्लिम समाज के महापुरुषों की कुर्बानियों को भूलाकर मुसलमानों के अधिकारों को दबाया जा रहा है। मुस्लिम समाज पर सबसे ज्यादा अत्याचार हो रहा है, क्योंकि मुस्लिमो के ठेकेदार तो बहुत हैं, लीडर नजर नहीं आता है । जबकि मुस्लिम समाज नमाज एक साथ पढ़ सकता है, खाना एक साथ खा सकता है। लेकिन लीडरशिप की बात पर देवबंदी, बरेलवी, शिया, सुन्नी, सैफी , अंसारी, चौधरी,पसमांदा में बट जाता है,  बात कड़वी है मगर सत्य है। लगभग 11% दलित  की नेता मायावती, मल्लिका अर्जुन  खड़गे, 7% यादव  के नेता अखिलेश यादव, तेजस्वी यादव, 3% राजभर  के ओमप्रकाश राजभर, 2% पटेल की नेता अनुप्रया पटेल ,1% मल्लाह  संजय निषाद, 10 % मराठा  के नेता शरद पवार, उद्धव ठाकरे, 6% गुर्जर के नेता सचिन पायलट, 2% सिख के नेता मनमोहन सिंह, कैप्टन अमरिंदर सिंह ,5% जाटों के नेता जयंत चौधरी, जगदीप धनखड़, 7% आदिवासी  के नेता हेमंत सोरेन ,5% तेलगु  के नेता चंद्र बाबू नायडू, चंद्रशेखर राव ,3 % ब्राह्मण की नेता ममता बनर्जी ,14% पंडित, ठाकुर, बनिया,  की पार्टी भाजपा, कांग्रेस, आम आदमी है। 24% मुसलमानो  के नेता अखिलेश, तेजस्वी, ममता, केजरीवाल, मायावती, हेमंत सोरेन, शरद पवार जयंत चौधरी आदि सवाल बड़ा है, मुस्लिम नेता आगे बढ़ना नहीं चाहते या उनको बढ़ने नहीं दिया जाता या मुस्लिम समाज अपना मुस्लिम नेता बनाना नहीं चाहते। इसके तीन कारण हो सकते हैं जैसे की कुछ लोगों को मुस्लिम लीडर बनने से एतराज है या मुस्लिम जागरूक नहीं है या मुस्लिम सबसे बड़ा देश भक्त है जो सभी जाति धर्म के लोगों को अपना नेता मानता है।
लगभग 86%  मुस्लिम अपने आप को कन्वर्टेड मानते हैं, लगभग 14% कन्वर्टेड नहीं मानते  कुछ अनजान लोग कहते हैं जबरदस्ती मुस्लिम बनाया गया अब जो है सो है।  इसमें कोई परिवर्तन संभव नहीं, मगर है सभी भारतवासी।
उदाहरण,, अरे माली बनके बाग लगाया रे, छोटी-छोटी क्यारी, तरह-तरह के फूल बाग में खुशबू न्यारी न्यारी चारों दिशाएं, एक दूसरे से जुड़ी रहे ,यही भारत की खूबसूरती का असल संदेश है।

लेखक:- चौधरी शौकत अली चेची,राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं सह प्रवक्ता,भाकियू (पथिक) है।