>
>
>

एसडीएम सदर ने ईओ दनकौर को दिए कार्यवाही किए जाने के आदेश-दनकौर विवेकानंद विद्यापीठ स्कूल में दो दिन पहले दुर्गंध उठने से बीमार हुई अध्यापिकाओं और बच्चों का मामला गर्माया

 

>

स्कूल के पास में श्री द्रोण गौशाला में दवा का छिडकाव किया गया था और जिससे बच्चे और अध्यापिकाओं की हालज खराब हुई है इसके लिए श्री द्रोण गौशाला के सभी जिम्मेदार पदाधिकारी पूरी तरह से दोषी है। इस मामले की शिकायत क्रमशः पुलिस थाना दनकौर और सभी उच्चाधिकारियों को दी गई हैः दिनेश्वर दयाल प्रबंधक विवेकानंद विद्यापीठ स्कूल दनकौर

मौहम्मद इल्यास-’’दनकौरी’’/ग्रेटर नोएडा

दनकौर कसबा के विवेकानंद विद्यापीठ स्कूल में दो दिन पहले दुर्गंध उठने से बीमार हुई अध्यापिकाएं और बच्चों का मामला गर्मा गया है। एसडीएम ने इस मामले को गंभीरता से लिया है। एसडीएम ने बीमार हुई अध्यापिकाओं और बच्चे की हालत को देखते हुए मामले की जांच के आदेश दिए हैं। इस मामले की जांच ईओ दनकौर को सौंपी की गई है गौरतलब है कि गत दिनांक 8 सितंबर-2022 की सुबह रोज की भांति विवेकानंद विद्यापीठ स्कूल में अध्यापिकाएं और बच्चे आने शुरू हुए। स्कूल की पढाई शुरू हुई ही थी कि बच्चे और अध्यापिकाओं को चक्कर आने शुरू हो गए। स्कूल के कई बच्चे और अध्यापिकाएं चक्कर खाकर और बेहोश होकर नीचे गिरने लगे। स्कूल प्रबंधन ने तत्काल चिकित्सकों की मद्द ली। इनमें 2 अध्यापिकाओं और करीब 18 बच्चों को दनकौर के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया। जहां से अध्यापिकाओं और कुछ बच्चों को कासना स्थित राजकीय आर्युविज्ञान संस्थान यानी जिम्स में भेज दिया गया। जहां अभी भी उनकी हालत नाजुक बनी हुई है। विवेकानंद विद्यापीठ स्कूल, दनकौर प्रबंधक दिनेश्वर दयाल ने ’’विजन लाइव’’ को बताया कि गुरूवार को जैसी स्कूल में सुबह अध्यापिकाओं और बच्चे आने शुरू हुए पहले से ही तेज दुर्गंध उठ रही थी। इस दुर्गंध से अध्यापिकाआेंं और बच्चों का जीना दुश्वार हो गया। उन्होंने बताया कि पहले दनकौर स्थित प्रार्थमिक स्वस्थ्य केंद्र में 2 अध्यापिकाएं और 4 बच्चे को ले जाया गया। इनमेंं बच्चों के अभिभावक अपने बच्चों को ले गए कि हम इनका इलाज करा लेंगे। जब कि 2 अध्यापिकाओं की स्थिति ज्यादा खराब थी। स्थिति गंभीर होने और सुधार होने के कारण दोनो अध्यापिकाओं को राजकीय आर्युविज्ञान संस्थान यानी जिम्स हॉस्पिटल कासना के लिए ट्रांसफर कर दिया गया। फिलहाल दोनो अध्यापिकाओं का इलाज जिम्स हॉस्पिटल में चल रहा है और स्थिति अभी नाजुक बनी हुई है।

>
>
>

उन्होंने बताया कि स्कूल के पास में श्री द्रोण गौशाला में दवा का छिडकाव किया गया था और जिससे बच्चे और अध्यापिकाओं की हालज खराब हुई है इसके लिए श्री द्रोण गौशाला के सभी जिम्मेदार पदाधिकारी पूरी तरह से दोषी है। इस मामले की शिकायत क्रमशः पुलिस थाना दनकौर और सभी उच्चाधिकारियों को दी गई है। इस बारे में श्री द्रोण गौशाला समिति के प्रबंधक रजनीकांत अग्रवाल से उनके मोबाइल . 8006409701 पर सपंर्क स्थापित कर पक्ष जाने की कोशिश की गई, मगर बातें नही सकीं। उधर एसडीएम सदर ने इस मामले को गंभीरता से लिया है। एसडीएम पूरे मामले की जांच ईओ दनकौर सीमा राघव को सौंपी है। एसडीएम सदर ने ईओ को आदेश दिए हैं इस मामले में तत्काल आवश्यक कार्यवाही करते हुए आख्या प्रस्तुत करेंं।