>
>

दादरी नोएडा रोड पर अवैध रेहडी, पटरी दुकानदारों के जमघट से पैदल तक निकलना दुश्वार बना

>

 

गौतमबुद्धनगर में यदि सबसे ज्यादा दुर्घटना होती है, तो सूरजपुर और दादरी के बीच इसी मैन रोड पर होती हैं। अब तक जाने कितने ही लोग काल के गाल में समा चुके हैं

>

 

स्थानीय माफिया के द्वारा अब दुकानों से अवैध वसूली होती है। एक ठिए की कीमत करीब 3000/- रूपये तक भी है यानी स्थानीय माफिया द्वारा दुकानांं से रूपये वसूले जा रहे हैं। इस हर रोज लगने वाली अवैध मार्केट पर भी बुलडोजर चलाया जाए और सूरजपुर दादरी मेन रोड को पूरी तरह से साफ सुथरा किया जाए ताकि लोग यहां से आसानी से निकल सके और कोई भी बड़ी दुर्घटना होने से बच सकेंः सुखवीर सिंह आर्य

 

>

मौहम्मद इल्यास-’’दनकौरी’’/ग्रेटर नोएडा

सीएम योगी का बुल्डोजर अक्सर ग्रेटर नोएडा में गरजता हुआ दिखाई दे ही जाता है। उत्तर प्रदेश में सीएम योगी का बुल्डोजर माफियाओं की अवैध संपत्ति को रोंदता हुआ नजर आता था। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव-2022 में बाबा का यह बुल्डोजर लोगों को रास गया और फिर एक बार भाजपा को जनता ने सत्ता की कुर्सी पर बिठा दिया। चुनाव होते ही कुछेक अफसरों ने बाबा के बुल्डोजर को गरीब की झोंपडी और ठेली पर चला कर बदनाम जरूर किया। इस पर बाबा सीएम योगी ने अफसरों को ताकिद किया कि किसी भी गरीब की झुग्गी झोपडी को तब तोडा जाए, जब कि उसे दूसरी जगह आशियाना मुहैया करा दिया गया हो। इससे उत्तर प्रदेश में बाबा बुल्डोजर की हनक थोडी कम हुई, मगर वहीं ग्रेटर नोएडा नोएडा जैसे शहरों में बुल्डोजर अक्सर अब भी गरजता हुआ दिखाई देता है। नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना सिटी में आज भी ऐसी जगह जमीनें हैं, जहां भूमाफिया कुंडली मारे हुए बैठे हुए है।

>
>

नोएडा, ग्रेटर नोएडा, और यमुना सिटी के प्राधिकरण इन जमीनों से कब्जा हटाने के लिए बाबा का बुल्डोजर चलाते रहते हैं। किंतु एक बडा सवाल पैदा हो रहा है कि आखिर ग्रेटर नोएडा के देवला गांव में कब चलेगा बाबा का बुल्डोजर? यदि देवला गांव में बाबा का बुल्डोजर चल गया, तो इससे जाने कितने ही राहगीरों को राहत मिल जाएगी। हम बात कर रहे हैं देवला गांव में अवैध रूप से लगने वाली सब्जी मंडी की। ग्रेटर नोएडा का देवला गांव औद्योगिक क्षेत्र से घिरा हुआ है। यहां चारों ओर औद्योगिक इकाईयां है, यही कारण है दूर दूर से यहां नौकरी पेशा लोगों का आवगमन होता है। यूपीएसआईडीसी के साईट-बी और साईट सी जैसे औद्योगिक सेक्टर होने नाते देवला गांव में मजदूर तबके के लोग ज्यादातर किराए पर रहते हैं। दूसरी ओर नोएडा से दादरी की ओर जाने वाला मैन रोड भी यहीं से होकर गुजरता है। दादरी रेलवे स्टेशन और कंटनेर डिपो तिलपता कर्णवास गांव में स्थित होने के कारण नोएडा दादरी रोड पर भारी वाहनों का दवाब रहता है। 

>

>

गौतमबुद्धनगर में यदि सबसे ज्यादा दुर्घटना होती है, तो सूरजपुर और दादरी के बीच इसी मैन रोड पर होती हैं। अब तक जाने कितने ही लोग काल के गाल में समा चुके हैं। ऐसे में यहां दादरी नोएडा रोड पर अवैध रेहडी पटरी दुकानदारों का जमघट लगा रहता है। देवला गांव मे सूरजपुर दादरी मैन रोड पूरी तरह से अतिक्रमण की चपेट में गया है। यहां ठेली,पटरी और खोमचे वालों ने पूरी तरह से अपना बसेरा बना लिया है। इससे सूरजपुर दादरी की ओर आने.जाने वाले वाहन चालकों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। बताया गया है कि इन ठेली पटरी वालों को स्थानीय माफिया तक संरक्षण दिए हुए हैं। वहीं इस ओर से गौतमबुद्धनगर पुलिस प्रशासन और साथ ही ग्रेटर नोएडा औद्योगिक प्राधिकरण पूरी तरह से आंखे मूंदे हुए हैं। शाम के समय इन ठेली पटरी वालों का इतना जमघट हो जता है कि पैदल निकलना तक दुश्वार होता है। 

>

वहीं कंटनेर, टैंपू जैसे भारी वाहनों का दवाब अलग से होता है। बताया जाता है कि यहां इस स्थिति के चलते हुए वाहन एक दूसरे से टकराते रहते हैं और कई लोग तो दुर्घटनाओं में अपनी जान तक गंवा चुके हैं। पहलें इस अवैध मंडी की शुरूआत 2-3 सब्जी की दुकानों से हुई थी और बढते बढते हुए अब यह इतना विकराल रूप लेती जा रही है कि यहां सैकडों की संख्या में साप्ताहिक बाजार जैसी दुकानें हर रोज लगती है। इस बारे में ग्रेटर नोएडा क्षेत्र के प्रमुख समाजसेवी अखिल भारतीय गुर्जर महासभा के वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष सुखवीर सिंह आर्य ने बताया कि देवला गांव रोड पर स्थित है,जहां पर औद्योगिक क्षेत्र भी है,लेकिन पिछले वर्षों से जो सब्जी मंडी मार्केट केवल इतवार को लगती थी, अब वह अवैध वसूली के कारण रोजाना लगने लगी है। उन्होंने बताया कि इस अवैध मार्केट के कारण ठेली, पटरी और खोमचे वालों ने इस सूरजपुर दादरी मेन रोड को पूरी तरह से घेर लिया है और जिससे यहां से लोगों का निकलना तक दूभर हो रहा है। 

>


>

कई बार यहां पर बड़ी दुर्घटनाएं भी हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि स्थानीय माफिया के द्वारा अब दुकानों से अवैध वसूली होती है। एक ठिए की कीमत करीब 3000/- रूपये तक भी है यानी स्थानीय माफिया द्वारा दुकानांं से रूपये वसूले जा रहे हैं।  उन्होंने गौतमबुधनगर जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन से मांग की है कि इस हर रोज लगने वाली अवैध मार्केट पर भी बुलडोजर चलाया जाए और सूरजपुर दादरी मेन रोड को पूरी तरह से साफ सुथरा किया जाए ताकि लोग यहां से आसानी से निकल सके और कोई भी बड़ी दुर्घटना होने से बच सकें। सवाल के जवाब में वरिष्ठ समाजसेवी सुखवीर आर्य ने बताया कि गुलिस्तानपुर चौराहे से लेकर अगली रोड तक ग्रीन बेल्ट है। इस ग्रीन बेल्ट पर भी अवैध कंटनेर अड्डा बना हुआ है जहां कंटेनरों का जमघट लगा रहता है। गौतमबुद्धनगर पुलिस प्रशासन, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण और यूपीएसआईडीसी को चाहिए कि इस ग्रीन बेल्ट से अवैध कंटेनरों के कब्जा को हटवाया जाए और देवला में मैन रोड पर लगाई जा रही है अवैध मंडी को हटवा कर यहां पर लगवाया जाए। यदि ऐसा नही किया तो फिर उच्च स्तर पर इस मामले को ले जाया जाएगा और यहां तक की मुख्यमंत्री महंत योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर पूरे मामले से अवगत कराया जाएगा।