>

 

>


>
>


 

 किसानों ने मांगों के संबंध में एक ज्ञापन ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ सुरेंद्र सिंह को सौंपा

मौहम्मद इल्यास-’’दनकौरी’’/ग्रेटर नोएडा

खैरपुर गुर्जर गांव के किसानों ने 10 प्रतिशत भूखंड दिए जाने के मुद्दे पर हल्ला बोल प्रदर्शन किया और मांगों के संबंध में एक ज्ञापन ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ सुरेंद्र सिंह को सौंपा। सीईओ सुरेंद्र सिंह आश्वासन दिया कि आगामी बोर्ड बैठक में उक्त प्रस्ताव लाया जाएगा और किसानों की इस 10 प्रतिशत भूखंड दिए जाने की समस्या को हल कराया जाएगा। किसानों ने सीईओ को सौंपे गए ज्ञापन में अवगत कराया है कि ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण द्वारा माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद द्वारा रिट याचिका संख्या 37443 सन 2011 दिनाकिंत 21-10-2011 के अनुपालन में ग्रेटर नोएडा क्षेत्र के समस्त किसानो को 10 प्रतिशत विकसित भूखण्ड दिये जाने के मामले का  निस्तारण नही किया गया है,यही कारण है कि किसान 10 प्रतिशत भूखंड के लिए ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के चक्कर काट रहे हैं।

>
>

>
>

ज्ञापन में सीईओ को यह भी अवगत कराया है कि ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण द्वारा सन 2008 में किसानों की भूमि अधिग्रहित की गई, जिसके बदले किसानों को 850 रूपये प्रति वर्ग मीटर मुआवजा अर्जित भूमि के बदले 6 प्रतिशत विकसित भूखण्ड दिये गये जिसे माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद ने अपने आदेश दिनाकिंत 21-10-2011 गजराज अन्य बनाम स्टेट आफ यू पी० में बढ़ाकर 64.07 प्रतिशत अतिरिक्त प्रतिकर 6 प्रतिशत विकसित भूखण्ड के स्थान पर 10 प्रतिशत विकसित भूखण्ड कर दिया। ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण ने माननीय उच्च न्यायालय के आदेश के अनुपालन में ग्रेटर नोएडा के समस्त किसानों चाहे वह न्यायालय गये या नहीं गये सभी को 64.07 प्रतिशत अतिरिक्त मुआवजा दे दिया परन्तु 6 प्रतिशत विकसित भूखण्ड के स्थान पर 10 प्रतिशत विकसित भूखण्ड उन्हीं किसानों को दिये गये जो न्यायालय में पक्षकार थे तथा अन्य किसानो को अतिरिक्त 4 प्रतिशत विकसित भूखण्ड यह कहते हुये देने से इंकार कर दिया कि भूमि उपलब्ध नहीं है।  ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण द्वारा किसानो को 10 प्रतिशत भूखण्ड देने का निर्णय लेकर जिससे प्राधिकरण सरकार को लगभग दस हजार करोड रूपये का राजस्व का लाभ होता, चंद लोगो के पक्ष में फर्जी तरीके से हजारो हैक्टेयर कृषि भूमि आबादी की लीज बैक के नाम छोड़ दी। 

>


>
>
>

यह भूमि भी बिना विकास शुल्क लिये केवल 100 रूपये के स्टाम्प पेपर पर छोड़ी है जिससे विकास प्राधिकरण राज्य सरकार को लगभग 10 हजार करोड रूपये का नुकसान हुआ है। इस मौके पर धरने को संबोधित करते हुए यह भी कहा गया कि नियम के मुताबिक ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को 3000 हजार मीटर भूमि आबादी के लिए छोडने का अधिकार है मगर 30,000 मीटर भूमि छोडी गई, मगर मौके पर कोई भी आबादी नही है। ज्ञापन में खैरपुर गुर्जर के किसानों ने मांग की है कि ग्राम खैरपुर गुर्जर ग्रेटर नोएडा गौतमबुद्धनगर के समस्त किसानों की अर्जित कृषि भूमि के बदले 10 प्रतिशत विकसित भूखण्ड दिये जाने के आदेश पारित करने की कृपा करें। दिए गए ज्ञापन पर दर्जनों के किसानों के हस्ताक्षर हैं। इस मौके पर धरने को संबोधित करने वालों में विनोद कुमार वर्मा एडवोकेट, अमित चौधरी, रवि गुर्जर, देवेन्द्र कुमार, गौरव, सौरभ, रमेश प्रधान, ओमबीर, ब्रहम सिंह, विजय खारी, सुभाष नेताजी, दीपचंद नेताजी, गंगन पंडित, भूदेव शर्मा, महिपाल खारी, सूरज सैनी, चाहत राम खारी, टिंकू खारी, रिंकू खारी, मनोज मुकद्दम शामिल रहे।