>

 

पुलिस कमिश्नर आलोक सिंह द्वारा फायर टीम को 50,000 रुपए के पुरस्कार से पुरुस्कृत किया गया और डीजी मेडल की संस्तुति की गई

विजन लाइव/गौतमबुद्धनगर

थाना सेक्टर-20 क्षेत्रांतर्गत डी-11, सेक्टर-20 में आज दिनांक 24/06/2022 को सुबह 1022 बजे आग लगने की सूचना प्राप्त हुई, जिसपर तत्काल फायर यूनिट द्वारा घटनास्थल पर पहुंचा गया। घटनास्थल पर पहुंचने पर ज्ञात हुआ कि आग डॉक्टर के.सी सूद के आवास में प्रथम तल पर लगी थी। पीवीसी की पैनलिंग, फाल्स सीलिंग व फर्नीचर के फोम इत्यादि के कारण मकान में भयंकर लपटों के साथ काला और घना धुआं फैला हुआ था। फायर यूनिट द्वारा तत्काल आग बुझाना आरंभ किया गया। उसी समय यह भी ज्ञात हुआ कि भवन के प्रथम और द्वितीय तल पर कुछ लोग फंसे हुए हैं। इन दोनों तलों पर पूरा धुआं भरा हुआ था। ऊपर जाने के लिए सीढ़ी में भी घना धुंआ भरा हुआ था, वहाँ ताप भी अत्यधिक था। ऐसी परिस्थितियों में ऊपर जाना असंभव सा प्रतीत हो रहा था, किन्तु फायर सर्विस की टीम ने अपनी जान की परवाह न करते हुए अदम्य साहस और कर्मठता का परिचय देते हुये ब्रीदिंग ऑपरेटस सेट पहनकर पानी की बौछारों के बीच घने धुएं और ताप के बीच से होकर प्रथम और द्वितीय तल पर पहुंचकर बड़ी तत्परता से दोनों तलों पर आग में फँसे कुल 13 लोगों को आग व धुयें से सुरक्षित निकालते हुए, छत के माध्यम से पड़ोस की छत पर सीढ़ी लगाकर सभी को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। कुल चार फायर टेंडरों के माध्यम से आग पर पूरी तरह काबू पा लिया गया। घटनास्थल पर सीएफओ अरुण कुमार सिंह व थाना प्रभारी फेज-1 मौजूद थे।

>
इस बड़ी अग्निदुर्घटना में डॉ0 के.सी. सूद, उनकी पत्नी, बहू, पोती सहित उनके कर्मचारीगण प्रथम और द्वितीय तल पर आग और धुयें में फंसे थे। डॉ0 के.सी.सूद द्वारा फायर सर्विस टीम की त्वरित कार्यवाही कर सभी को सुरक्षित बचाने की कार्यवाही पर न केवल धन्यवाद दिया गया अपितु भूरि-भूरि प्रशंसा भी की। अग्निशमन कार्य करते समय फायर सर्विस के दो कर्मचारियो (लीडिंग फायरमैन महिपाल सिंह व फायर मैन निज़ामुद्दीन)की धुंये व ताप की वजह से तबियत खराब होने पर उन्हें सेक्टर-26 स्थित अपोलो हॉस्पिटल भेजा गया। पुलिस आयुक्त आलोक सिंह द्वारा इन कर्मचारियों के स्वास्थ्य की जानकारी लेते हुए इनके साहस भरे कार्य की सराहना की गई और अदम्य साहस का परिचय देने वाले फायरकर्मियों को 50,000 रुपए के पुरस्कार से पुरुस्कृत किया गया एवं डीजी मेडल की संस्तुति की गई। ज्वाइंट सीपी लव कुमार द्वारा अपोलो अस्पताल पहुंचकर भर्ती कर्मचारियों का कुशलक्षेम प्राप्त कर, उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की गयी।