सूरजपुर में प्राचीनकालीन ऐतिहासिक बाराही मेला.2022  ग्यारहवां दिन-सुरेश गोला, मन्नू तंवर, दिनेशा, अन्नु चौधरी आदि कलाकारों की रागनियों की धूम रही।




 

सदी बीसवीं जाए पाछे, ऐसा जमाना आवेगा, इतनी खलकत बढ जावेगी, मानुष को मानुष खावेगा रागनी प्रस्तुत करते हुए जमकर तालियां बटोरीं




 

गरीब बच्चों को शिक्षा और चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने वाले उद्यम फांउडेशन नोएडा के नन्हें मुन्हों ने ’’तू-ही-तू’’ और ’’तेरी मिट्टी में मिल जाना’’ कार्यक्रम की प्रस्तुति देते हुए लोगों का मन मोह लिया







 

मुख्य अतिथि नरेंद्र कसाना और प्रेम कसाना का शिव मंदिर सेवा समिति पदाधिकारियों ने माल्यापर्ण करते हुए स्मृति चिन्ह भेंंट कर स्वागत किया

 

 मौहम्मद इल्यास-’’दनकौरी’’/सूरजपुर

.................................................................................सूरजपुर में चल रहे प्राचीन ऐतिहासिक बाराही मेला.2022 के ग्यारहवें दिन  रविवार को सुरेश गोला, मन्नू तंवर, दिनेशा, अन्नु चौधरी आदि कलाकारों की रागनियों की धूम रही। मुख्य अतिथि नरेंद्र कसाना और प्रेम कसाना का शिव मंदिर सेवा समिति के अध्यक्ष चौधरी धर्मपाल प्रधान, महासचिव ओमवीर बैंसला, कोषाध्यक्ष लक्ष्मण सिंघल, मीडिया प्रभारी मूलचंद शर्मा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष बिजेंद्र ठेकेदार, उपाध्यक्ष जगदीश भाटी एडवोकेट, संरक्षक टेकचंद प्रधान और रवि भाटी, रघुवीर जेसीबी वाले, विनोद पंडित तेल वाले, सुनील शर्मा, राजपाल खटाना, सतपाल शर्मा एडवोकेट, राजपाल भडाना, सुनील सौनिक, 0 राजेश ठेकेदार, महाराज सिंह उर्फ पप्पू, मोहित शर्मा आदि पदाधिकारी और सदस्यों ने माल्यापर्ण कर स्वागत किया और स्मृति चिन्ह भेंट किया। साथ ही उद्यम फांउडेशन ट्रस्ट नोएडा के नन्हें मुन्हों की बेहतर प्रस्तुति के लिए संस्थापक श्रीमती उषा शर्मा और मोहन शर्मा को स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। गरीब बच्चों को शिक्षा और चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने वाले उद्यम फांउडेशन ट्रस्ट नोएडा के नन्हें मुन्हों ने ’’तू-ही-तू’’ और ’’तेरी मिट्टी में मिल जाना’’ कार्यक्रम की प्रस्तुति देते हुए लोगों का मन मोह लिया। वहीं सूरजपुर क्षेत्र की नन्ही बच्ची सुरभि ने मनमोहक नृत्य प्रस्तुत करते हुए लोगों का दिल जीत लिया। सुरेश गोला एंड पार्टी के कलाकारों ने महाभारत के किस्से,समाजिक परिर्वन चाल चलन से आदि कुरूतियों पर एक से बढ कर एक रागनियां प्रस्तुत की। सुरेश गोला ने- सदी बीसवीं जाए पाछे, ऐसा जमाना आवेगा, इतनी खलकत बढ जावेगी, मानुष को मानुष खावेगा रागनी प्रस्तुत करते हुए जमकर तालियां बटोरीं। दिनेशा गुडगांवा ने- कै सोचा था, कै बन गई--- चाल चलन उठ गया जगत से, कैसा जमाना देख लिया, रागनी प्रस्तुत की।



सुरेश गोला और मन्नु तंवर दिनेशा गुडगांवा ने जीजा साली के सवाल जवाब और महाभारत में कर्ण और कुंती के प्रसंग से एक से बढकर एक रागनियां प्रस्तुत कीं। सुरेश गोला ने शिव मंदिर सेवा समिति के महासचिव ओमवीर बैंसला द्वारा लिखित -- दुनिया सहारे चले, अरे मरे श्याम के, किस्मत बन जाए मेरे ही श्याम से, भजन प्रस्तुत करते हुए खूब वाहवाही लूटी। जब कि अन्नु चौधरी ने मेरा चूंदर मंगा दें रे- नंडदी के बीरा, समेत कई गानों पर नृत्य की प्रस्तुति देते हुए जमकर धमाल मचाया। शिव मंदिर सेवा समिति के उपाध्यक्ष जगदीश भाटी एडवोकेट ने प्राचीनकालीन बाराही माता के मंदिर निमार्ण की घोषणा करते हुए कहा कि वर्ष 2000 में शिव मंदिर सेवा समिति ने प्राचीनकालीन बाराही मेला के आयोजन की कमान संभाली और फिर यह बाराही मेला एक सप्ताह का हो गया। एक सप्ताह के बाद 10 दिन और अब पूरे 13 दिन तक चल रहा है। इस बार प्राचीनकालीन बाराही मेला-2022 दिनांक 14 अप्रैल-2022 से शुरू होकर 26 अप्रैल-2022 तक संपन्न हो रहा है यही कारण है कि शिव मंदिर सेवा समिति इस बार बाराही मेला-2022 को 22 वें वार्षिकोत्सव के रूप में भी मना रही है। इस बार शिव मंदिर सेवा समिति ने संकल्प लिया है कि प्राचीनकालीन बाराही मेला स्थल पर भव्य मंदिर का निमार्ण हो, संभवत इसी वर्ष मंदिर निमार्ण कार्य शुरू हो जाएगा।



मीडिया प्रभारी मूलचंद शर्मा ने बताया कि दिनांक 26 अप्रैल.2022 मंगलवार को अंतिम दिन दोपहर 2.30 बजे से 101 रूपये से लेकर 31000 रूपये तक के दंगल में दूर दूर से आकर पहलवान अपनी मल्ल कला का प्रदर्शन करेंगे। 101 रूपये से लेकर 31000 रूपये तक के दंगल स्व0 चौधरी जयपाल भगतजी की स्मृति में मोहन बाबा ट्रस्ट दिल्ली एंव श्री चंद भाटी, सतवीर भाटी, राजवीर भगतजी के सौजन्य से आयोजित किए जाएंगे। जब कि रात्रिकालीन कार्यक्रमों में सनोज मिलक, डिपंल चौधरी, रितु, कृष्ण खटाना, राज लेहिया, नीतू भाटी और पवन डागर आदि रागनी कलाकार रागनियों की खास प्रस्तुतियां देगें। इस मौके पर कार्यक्रम मे चौधरी धर्मपाल भाटी प्रधान, ओमवीर बैंसला, लक्ष्मण सिंघल, मूलचंद शर्मा और भीम खारी, रवि भाटी, लीलू भगतजी, पवन जिंदल, हरिकिशन, तोलाराम,अनिल कपासिया,राजवीर शर्मा आदि मेला समिति के पदाधिकारी और गणमान्यजन उपस्थित रहे।