>

विजन लाइव/दनकौर

दनकौर स्थित श्री गुरु द्रोणाचार्य मंदिर प्रांगण में 8 मार्च से चल रही श्रीमद् भागवत कथा का समापन दिवस संपन्न हुआ। श्रीमद् भागवत के सप्तम दिवस में पूज्य पाद श्रद्धेय आचार्य संत श्री रवि कृष्ण भारद्वाज ने सुदामा चरित्र का पावन प्रसंग का श्रवण कराया, महाराज जी ने कहा कि भगवान प्रेम के भूखे हैं यही कारण है कि अपने गरीब मित्र सुदामा की दीन दशा को देखकर कन्हैया की आंखों में आंसू छलकने लगे उन्ही आंसुओं से भगवान श्री कृष्ण ने कन्हैया ने अपने मित्र सुदामा के पैर धोए। महाराज जी ने कहा कि प्रेम भाव से स्मरण करने पर भगवान सभी के दुखों को हर लेते हैं। पूज्य महाराज जी ने आज द्वारका लीला, परीक्षित व संपूर्ण भागवत रहस्य का वर्णन किया। श्रीमद् भागवत कथा के प्रबंधक देवेंद्र गोयल उर्फ मुन्ना लाल अग्रवाल और दीनेश्वर गोविल ने बताया कि आज कथा का विश्राम है तथा समापन पर सभी श्रद्धालु भक्तों ने श्री व्यास जी की पूजा व आरती की व प्रातः 8.00 बजे कथा स्थल पर हवन व 10.00 बजे से होली महोत्सव, भजन और सुंदर. सुंदर झांकियां। 11.00 बजे से प्रभु इच्छा तक भंडारा चलता रहा।