टिकट के प्रबल दावेदारों में से एक रहे इंद्रवीर सिंह भाटी को रालोद ने बकायदा सिंबल तक थमा दिया

 


रात पौने दस बजे ट्वीट कर कहा कोरोना की रिपोर्ट निगेटिव, अपनों के लिए लडूंगा चुनाव

 


मौहम्मद इल्यास-’’दनकौरी’’/ग्रेटर नोएडा

उत्तर प्रदेश में चुनावी महौल लगातार गर्माता जा रहा हैं। गौतमबुद्धनगर की जेवर विधानसभा में सियासी समीकरण तेजी से बदलते जा रहे हैं। सपा रालोद प्रत्याशी अवतार सिंह भडाना गुरूवार को अचानक मैदान छोड कर भाग छूटे। गुरुवार को दिन भर सपा.रालोद गठबंधन प्रत्याशी अवतार सिंह भड़ाना के नाम वापसी का मामला छाया रहा और रालोद ने विभिन्न बैठकों के बाद दूसरे प्रत्याशी के नाम को भी तय कर दिया। टिकट के प्रबल दावेदारों में से एक रहे इंद्रवीर सिंह भाटी को रालोद ने बकायदा सिंबल तक थमा दिया, लेकिन देर रात में अवतार सिंह भड़ाना ने ट्वीट कर ऐलान कर दिया कि वह अपनों के लिए जेवर से पूरी मजबूती के साथ चुनाव लड़ेंगे चूकि उनकी कोरोना की रिपोर्ट निगेटिव आई है। मेरठ और फरीदाबाद लोकसभा सीट से सांसद रहे और वर्तमान में मीरापुर विधानसभा सीट से विधायक अवतार सिंह भड़ाना ने भाजपा से बगावत कर ली थी। हाल ही में उन्होंने रालोद की सदस्यता ग्रहण की थी, जिसके बाद उन्हें गठबंधन की ओर से जेवर विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाया गया। उन्होंने नामांकन प्रक्रिया के पहले ही दिन अपना परचा दाखिल कर दिया था। लेकिन गुरुवार को अचानक से उनकी ओर से सूचना आई कि वह कोरोना संक्रमित होने के कारण चुनाव नहीं लड़ रहे हैं और नाम वापस लेंगे।


इसके बाद सियासी माहौल गरमा गया था और नए प्रत्याशी की खोज तेज हो गई थी। रात में करीब पौने दस बजे अवतार सिंह भड़ाना ने ट्वीट किया कि कोरोना के शुरुआती लक्षण थे, लेकिन आरटीपीसीआर रिपोर्ट के अनुसार उन्हें कोरोना नहीं है। उन्होंने लिखा कि अपनों के लिए चुनाव लड़ूंगा। इस ट्वीट में उन्होंने अखिलेश यादव और जयंत चौधरी को टैग किया है। अवतार सिंह भड़ाना के नाम वापसी की अटकलों के बाद सपा और रालोद के वरिष्ठ नेताओं के बीच बैठकों के दौर दिन भर चलते रहे और नए प्रत्याशी के चयन को लेकर तीन नामों पर उनमें विशेष रूप से चर्चा रही और उसके बाद एक नाम को तय कर उन्हें चुनाव की तैयारी करने के भी संकेत दे दिए गए थे और शुक्रवार को उनका नामांकन कराया जाना था। लेकिन देर रात में हुए घटनाक्रम के बाद अब गठबंधन ने फिर से अवतार सिंह भड़ाना को ही चुनाव लड़ाने का फैसला किया है। सपा रालोद गठबंधन के टिकट दावेदारों में से एक इंद्रवीर सिंह भाटी ने कहा कि रालोद सुप्रीमों जयंत चौधरी ने उन्हें अवतार सिंह भडाना के मैदान छोड देने के बाद सिंबल थमाया और नामांकन दाखिल करने के लिए कहा। मगर अब फिर रालोद सुप्रीमो जयंत चौधरी की ओर से निर्देशित किया गया है वे सिंबल से नामांकन दाखिल न करें, रालोद गठबंधन प्रत्याशी अवतार सिंह भडाना ही चुनाव में रहेंगे। कानूनी जानकारों की मानें तो यदि नामांकन प्रक्रिया के अंतिम दिन 21 जनवरी को रालोद सिंबल से इंद्रवीर सिंह भाटी नामांकन पत्र दाखिल कर देते तो अवतार सिंह भडाना स्वंय ही निर्दलीय साबित हो जाते।