किसानों और अधिकारियों के बीच बैठक हुई, जिसमें किसानों की मांग पर अफसरों ने सहमति जता दी। प्राधिकरण के अधिकारियों ने 4 जनवरी तक का समय मांगा है



विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

गौतमबुद्धनगर के तीनों प्राधिकरण पर किसानों का प्रदर्शन समाप्त हो गया है। बीती देर रात करीब 1:30 बजे किसानों और अधिकारियों के बीच बैठक हुई। जिसमें किसानों की मांग पर अफसरों ने सहमति जता दी। प्राधिकरण के अधिकारियों ने 4 जनवरी तक का समय मांगा है। सोमवार को गौतमबुद्धनगर के हजारों किसानों ने नोएडा प्राधिकरण, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण और यमुना प्राधिकरण पर एक साथ हल्ला बोला। इन किसानों की 64 प्रतिशत मुआवजा, 10 प्रतिशत प्लॉट, आबादी निस्तारण वार्षिकी एवं परसंपत्ति के पैसे का वितरण होना और जिले के युवाओं को रोजगार की समस्याएं हैं। इन सभी मुद्दे को लेकर प्राधिकरण पर किसानों ने प्रदर्शन किया। सोमवार की सुबह से ही किसानों ने प्राधिकरण पर प्रदर्शन करना शुरू किया। देखते ही देखते तीनों प्राधिकरण पर भीड़ बढ़ती चली गई। इसके बाद किसानों और अफसरों की वार्ता शुरू हुई। पहली बार का सफल होने के बाद किसानों ने प्राधिकरण के गेट पर ताला जड़ दिया। जब किसानों में भारी रोष व्याप्त हो गया तो यमुना प्राधिकरण के अधिकारियों ने किसानों को वापस बैठक के लिए बुलवाया। इस बैठक में अभी कोई भी नतीजे सामने निकलकर नहीं आया तो किसानों ने अनिश्चितकालीन धरने का ऐलान किया जिले के तीनों प्राधिकरण पर हजारों किसान अनिश्चितकालीन धरने पर बैठ गए। अनिश्चितकालीन को बढ़ता देख यमुना प्राधिकरण, ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण और यमुना प्राधिकरण के अफसरों ने पुलिस से मदद मांगी जिसके बाद नोएडा के एडिशनल डीसीपी रणविजय सिंह यमुना प्राधिकरण पहुंचे और किसानों और अफसरों के बीच वार्ता करवाई यमुना प्राधिकरण 4 दिसंबर तक किसानों की समस्याओं को समाधान करने का आश्वासन दिया है।