जीएसटी काउंसलिंग की 45 वीं बैठक में ईटों पर जीएसटी बढ़ाए जाने के विरोध में जनपद ईट निर्माता समिति बुलंदशहर के बैनर तले भट्टा स्वामियों ने धरना प्रदर्शन कर एडीएम विवेक मिश्रा को ज्ञापन सौंपा



 

विजन लाइव/ बुलंदशहर

 जीएसटी काउंसलिंग की 45 वीं बैठक में ईटों पर जीएसटी बढ़ाए जाने के विरोध में जनपद ईट निर्माता समिति बुलंदशहर के बैनर तले भट्टा स्वामियों ने धरना प्रदर्शन कर एडीएम विवेक मिश्रा को ज्ञापन सौंपा।  जनपद ईंट निर्माता समिति के कार्यालय मदनकुटीर शिवपुरी पर एकत्रित होकर सैकड़ों भट्टा स्वामी हाथों में बैनर लेकर जिलाधिकारी मुख्यालय पहुंचे और कलेक्ट्रेट में दरा बिछाकर धरने पर बैठ गए।  जीएसटी बढ़ोतरी अव्यवहारिक व भट्टा स्वामियों के प्रति घोर अन्याय पूर्ण बताकर नारेबाजी की। समिति के सचिव अनिल गर्ग का कहना है कि जीएसटी काउंसलिंग की 45 मी मीटिंग में ईट भट्टा लाल ईंटों पर प्रस्तावित कर दर में इनपुट 1% से बढ़ाकर 6% तथा इनपुट क्लेम करने पर 5% से बढ़ाकर 12% की वृद्धि अव्यवहारिक है। समिति के अध्यक्ष वीर सिंह ने कहा कि सरकार भली प्रकार जानती है कि ईंट उद्योग ग्रामीण कुटीर सीजनल प्रकृति का उद्योग है। मैन्युफैक्चर सेक्टर के 40 लाख रुपये तक सालाना टर्न ओवर कर मुक्त है जो 45 में बैठक में ईंट निर्माण के लिए घटाकर 20 लाख रुपये सालाना टर्नओवर कर मुक्त करना व्यापारियों के साथ घोर अन्याय है। वर्तमान में डेढ़ करोड़ टर्नओवर तक कंपोजीशन सीमा है उसे भी बढ़ाकर 1% से 6% कर दिया गया है जो बिल्कुल उचित नहीं है। वहीं मीडिया प्रभारी संजय गोयल ने कहा कि कोरोना काल में सभी व्यापारियों को बहुत ही नुकसान झेलना पड़ा है। ऐसे समय में व्यापार करना और अपने व्यापार के अस्तित्व को बनाए रखना बहुत मुश्किल हो गया है। देश के विकास में बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान अदा करने वाले भट्टा व्यापारि आज बहुत परेशान हैं। खुद को  स्वरोजगार देते हुए देश में करोड़ों लोगों को रोजगार देने वाला भट्टा व्यापारी आज खुद बेरोजगार होने की कगार पर खड़ा है। संजय गोयल ने कहा कि  राष्ट्रीय हित के लिए व्यापारी हित भी जरूरी यह भी समझे हमारी सरकार। कोरोना की मार कम थी क्या ? जो यह टैक्स की मार व्यापारी को देना चाहती है हमारी सरकार। ज्ञापन देने वालों में समिति अध्यक्ष वीर सिंह ,सचिव अनिल गर्ग, कोषाअध्यक्ष देवेंद्र अग्रवाल ,मीडिया प्रभारी संजय गोयल, पुष्पेंद्र सिंह ,अमित मित्तल, सचिन ,राघवेंद्र सिंह ,मंगल सिंह, मोहित कंसल, अंकुर अग्रवाल ,रोहित कंसल, हरिओम शर्मा ,सतीश अग्रवाल आदि सैकड़ों भट्टा स्वामी उपस्थित रहे।