डीएम रोड नर्वदेश्वर धाम मंदिर में पिछले एक सप्ताह से चल रही श्रीमद्भागवत कथा का शुक्रवार को यज्ञ-हवन करा कर संपन्न हुई  

 


विजन लाइव/ बुलंदशहर

डीएम रोड नर्वदेश्वर धाम मंदिर में काष्णिॅ श्री बांके बिहारी मित्र मंडल बुलंदशहर के तत्वधान में चल रही श्रीमद् भागवत कथा के अंतिम दिवस के पावन प्रसंग में भागवत भूषण परम पूजनीय सुमेधानंद जी महाराज ने सुदामा चरित्र का वर्णन किया।  महाराज जी ने कहा भगवान प्रेम के भूखे हैं यही कारण है कि अपने गरीब मित्र सुदामा की दीन दशा को देखकर कन्हैया की आंखों में आंसू छलकने लगे। उन्हें आंसुओं से भगवान ने श्री कृष्ण ने अपने मित्र सुदामा के चरण धोए। महाराज जी ने कहा कि प्रेम भाव से स्मरण करने से भगवान सभी के दुखों को हर लेते हैं। महाराज श्री ने कहा कि कभी भी अपने हृदय में ईर्ष्या को जगह ना दें यदि आपके हृदय में ईर्ष्या नहीं होगी तो आपके हृदय में भगवान का वास होगा यदि भगवान आपके हृदय से जाना भी चाहेंगे तो आपके हृदय से वह स्वयं भी नहीं जा सकते। पूज्य महाराज श्री ने आज द्वारका लीला, परीक्षित मोक्ष व संपूर्ण भागवत रहस्य का वर्णन किया। संजय गोयल ने बताया कि आज कथा का विश्राम है।कथा समापन पर सभी श्रद्धालु भक्तों ने श्री व्यास जी की पूजा की व आरती की। पिछले एक सप्ताह से चल रही श्रीमद्भागवत कथा का शुक्रवार को यज्ञ-हवन करा कर संपन्न हुई। हवन उपरांत महाराज श्री ने भगवान कृष्ण के बहुत ही सुंदर भजन सुनाए। भजन को सुनकर सभी भक्त भावविभोर हो गए। सभी श्रद्धालुओं ने भागवत व्यास श्री , सुमेधानंद महाराज जी का आशीर्वाद लिया। उसके बाद भागवत जी को यजमानों ने विश्राम कराया। आज कथा में रश्मि वर्मा, ममता गोस्वामी, पुष्पा अग्रवाल, निशा मित्तल, आशा बंसल, रेनू बंसल ,यशोदा मैया, नीना महेश्वरी ,सीमा माहेश्वरी, मनोज वर्मा, संजय गोयल ,दिनेश अग्रवाल ,हरीश मित्तल, योगेश बंसल ,अमित बंसल ,सुनील महेश्वरी ,राधेश्याम गुप्ता, अजय मित्तल ,स्वामी परम देव महाराज आदि सैकड़ों भक्त उपस्थित रहे।