-स्थानीय युवाओं के रोजगार के लिए ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की एक और पहल

 


ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण, आईटीआई संस्थानों व उद्यमी संगठनों की बैठक में सहमति

विजन लाइव/ ग्रेटर नोएडा

ग्रेटर नोएडा के उद्यमी अपनी कंपनी की जरूरत के हिसाब से कुशल कारीगरों के जरूरत को बताएंगे। आईटीआई संस्थान उसी ट्रेड में युवाओं को प्रशिक्षण देंगे और फिर उद्यमी अपनी कंपनी में उन युवकों को रोजगार देंगे। बुधवार को आईटीआई संस्थानों और उद्यमी संगठनों के संग प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण ने बैठक की, जिसमें यही तय हुआ है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण, आईटीआई संस्थान व औद्योगिक संगठन मिलकर स्थानीय युवाओं को रोजगारपरक बनाने की इस मुहिम को आगे बढ़ाएंगे। ग्रेटर नोएडा में ऐसी तमाम कंपनियां है, जिनको कुशल कारीगरों की जरूरत रहती है, लेकिन उनको नहीं मिल पाते। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण की उद्यमियों के साथ बैठक में भी यह बात सामने आई है। सीईओ ने उद्यमी संगठनों और आईटीआई संस्थानों के प्रतिनिधियों को एक मंच पर लाकर इसका हल निकालने की पहल की है। बुधवार को इसी मसले पर नरेंद्र भूषण के नेतृत्व में आईटीआई संस्थानों के अलावा आईआईए, लघु उद्योग भारती आदि के प्रतिनिधियों की बैठक हुई। उद्यमियों ने शॉर्ट टर्म बीबीए कोर्स, मशीन ऑपरेटर, कॉरेगेटेड बॉक्स व गारमेंट्स उद्योगों से जुड़े ट्रेड में प्रशिक्षण देकर हुनरमंद युवा तैयार करने को कहा। उन युवाओं को उद्यमी संगठनों से जुड़ी कंपनियां अपने यहां रोजगार उपलब्ध कराएंगी। सीईओ ने आईटीआई संस्थानों से इन ट्रेड में जनवरी से प्रशिक्षण शुरू कराने को कहा है। इस बैठक में एसीईओ दीपचंद्र व अमनदीप डुली, ओएसडी सचिन कुमार सिंह व डीजीएम सीके त्रिपाठी, उद्योग सेल के प्रभारी मयंक श्रीवास्तव आदि मौजूद रहे। बता दें, कि इससे पहले मंगलवार को भी ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण ने उत्तर प्रदेश कौशल विकास मिशन से जुड़ी संस्थाओं के साथ बैठक कर यहां के युवाओं को हुनरमंद बनाने की पहल की है। इसके अलावा सीईओ की कोशिश से ही राष्ट्रीय कौशल विकास निगम के तहत ग्रेटर नोएडा में चार कौशल विकास केंद्र खोलकर युवाओं को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इन युवाओं को आसानी से रोजगार मिल सकेगा।

                                 

>