विजन लाइव/ गौतमबुद्धनगर
अन्तर्राष्ट्रीय शिक्षक दिवस एवं आजादी की 75वी वर्षगांठ (अमृत महोत्सव) के अवसर पर, देश की राजधानी दिल्ली स्थित *राष्ट्रीय विज्ञान केंद्र* में *अभिनव प्रयोग विज्ञान क्लब VP-UP0260* गौतमबुद्धनगर (उत्तर प्रदेश) द्वारा *राष्ट्रीय विज्ञान कार्यशाला,विज्ञान प्रोत्साहन सम्मान समारोह एवं राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय का शैक्षिक भ्रमण* का आयोजन *विज्ञान गुरु पर्व* के रूप में किया गया। इस कार्यक्रम में बदौली बांगर , दनकौर के सराहनीय योगदान दिया। किरन कुशवाहा संयोजक अभिनव प्रयोग विज्ञान क्लब एवं सहायक अध्यापक उच्च प्राथमिक विद्यालय बदौली बांगर ने बताया कि *विज्ञान गुरु पर्व* कार्यक्रम का शुभारंभ  मुख्य अतिथि महोदया *डॉ नाज़ रिज़वी निदेशक नेशनल म्यूजियम ऑफ नैचुरल हिस्ट्री मिनिस्ट्री ऑफ एनवायरनमेंट फॉरेस्ट एंड क्लाइमेट चेंज (भारत सरकार),* विशिष्ट अतिथि श्री सचिन सी. नारवाडिया साइंटिस्ट डी ग्रेड, विज्ञान प्रसार विज्ञान एवम प्रौद्यौगिकी विभाग, भारत सरकार, डॉ सुरेश चंद्र शर्मा,क्षेत्रीय वैज्ञानिक अधिकारी (गाजियाबाद), विज्ञान एवम प्रौद्यौगिकी विभाग उत्तर प्रदेश,श्री ध्रुव प्रसाद सोनी क्यूरेटर, निर्भया विज्ञान संग्रहालय दक्षिणी दिल्ली नगर निगम,श्री सुनील दत्त मुद्गल खंड शिक्षा अधिकारी दादरी गौतमबुद्धनगर ने दीप प्रज्ज्वलित करके किया। इस अवसर पर क्लब के बाल सदस्यों द्वारा मां सरस्वती की वंदना आधुनिक युग की मांग एवं साइंस टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए प्रोजेक्टर पर अतिसुंदर नृत्य के साथ किया गया। क्लब की छात्राओं ने मधुर स्वागत गान गाकर सभी अतिथियों का स्वागत किया। क्लब के अध्यक्ष उमेश राठी,संयोजक किरन कुशवाहा, सहसंयोजक पारूल गुप्ता एवम् समस्त टीम ने मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथियों का बैज लगाकर, पुष्प गुच्छ,सम्मान प्रतीक एवम् पौधे देकर स्वागत किया।
सर्वप्रथम क्लब की संयोजक किरन कुशवाहा ने मुख्य अतिथि महोदया को क्लब के गठन के बारे में प्रोजेक्टर पर पीपीटी के माध्यम से विस्तार से बताया तथा अपनी पूरी टीम का हौसला बढ़ाते हुए उन्होंने बाल सदस्यों के विशेष सहयोग की सराहना की
इस अवसर पर मुख्य अतिथि डॉ नाज़ रिज़वी ने कहा कि यह विज्ञान केंद्र में उपस्थित शिक्षकों के लिए ही नहीं अपितु पूरे देश के शिक्षकों के लिए गर्व का विषय है कि हम आज अंतर्राष्ट्रीय शिक्षक दिवस पर एक विशेष कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं,उन्होंने अभिनव प्रयोग विज्ञान क्लब की प्रशंसा करते हुए,क्लब की पूरी टीम को शुभकामनाएं दी और सभी को अपने संग्रहालय आने का आमंत्रण प्रदान किया।आगे उन्होंने कहा कि विज्ञान के क्षेत्र में कार्य कर रहे शिक्षकों एवम छात्रों के लिए क्लब का यह प्रयास अत्यंत सराहनीय है और यह मेरे भी सम्मान की बात है कि मुझे यहां इस कार्यक्रम में शामिल होने का अवसर मिला। सभी बच्चों एवम शिक्षकों को विज्ञान के क्षेत्र मे उनके उत्कृष्ट कार्य एवम लगन के लिए प्रोत्साहित किया।
डॉ सचिन सी नारवाडिया ने क्लब के कार्यक्रम के लिए बधाई देते हुए क्लब के सभी सदस्यों की प्रशंसा की।
डॉ सुरेश चंद्र शर्मा ने कहा कि कार्यक्रम का आयोजन अत्यंत रोचक व सराहनीय था,क्लब द्वारा कार्यक्रम में शामिल गतिविधियों से जनमानस को प्रोत्साहन मिला, इससे बच्चों और शिक्षकों को आगे बढ़ने का मौका मिलेगा, साथ ही साथ विद्यार्थी अपने अभिनव प्रयोगों के साथ क्लब से जुड़ेंगे। ध्रुव प्रसाद सोनी ने कार्यक्रम की भूरी भूरी प्रशंसा की और बताया कि यह क्लब के नाम के अनुरूप ही  एक *अभिनव प्रयोग* है कि उत्तर प्रदेश के शिक्षकों एवम बच्चों द्वारा गठित किए गए किसी विज्ञान क्लब ने देश की राजधानी दिल्ली में अंतर्राष्ट्रीय  शिक्षक दिवस पर इतना शानदार, सुव्यवस्थित एवम भव्य कार्यक्रम आयोजित किया। संयोजक किरन कुशवाहा (सहायक अध्यापक बदौली बांगर)ने अपने नाम के अनुरूप ही विज्ञान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य कर रहे शिक्षकों एवम बच्चों में आशा की एक नई किरन फैलाई है, जिससे सभी विज्ञान के क्षेत्र में अग्रसर होंगे और सभी निरंतर निस्वार्थ भाव से विज्ञान को छात्रों,शिक्षकों एवम जनमानस तक प्रसारित करने में सफल होंगे। सुनील दत्त मुद्गल ने क्लब की गतविधियों की प्रशंसा की  एवम विज्ञान की प्रभावी गतिविधियों के कारण गति प्राप्त कर चुका है, क्लब को शुभकामनाएं देते हुए बताया कि यह क्लब अपने निरंतर,निस्वार्थ प्रयास से उच्चतम स्तर पर पहुँचेगा।कार्यक्रम में गूगल मीट द्वारा ऑनलाइन सत्र के तहत बेसिक शिक्षा विभाग उत्तर प्रदेश की तरफ से श्री अजय कुमार सिंह ,संयुक्त निदेशक एससीईआरटी, लखनऊ एवम श्री सुरेश कुमार सोनी सेवानिवृत्त उप निदेशक, लखनऊ ,कार्यक्रम में जुड़े। नेशनल रिसॉर्स पर्सन श्री उमाशंकर शर्मा ने चमत्कारों के पीछे छुपे विज्ञान पर प्रकाश डाला और सभी प्रतिभागियों के सहयोग से प्रयोग कर भिन्न भिन्न तरह के  वैज्ञानिक तथ्यों को आसानी से प्रदर्शित करके समझाया। उपस्थित सभी प्रतिभागी उनकी हैंड्स ऑन एक्टिविटीज देखकर अचंभित रह गए। यह कार्यशाला का सबसे रोचक भाग रहा। उमेश कुमार राठी, अध्यक्ष अभिनव प्रयोग विज्ञान क्लब ने संबोधित करते हुए सभी प्रतिभागियों के उत्कृष्ट कार्य की सराहना की,और सभी का धन्यवाद  किया। साथ ही सभी अतिथियों का, राष्ट्रीय विज्ञान केंद्र के सभी पदाधिकारियों को भी धन्यवाद दिया।
इस अवसर पर कोविड 19 को ध्यान में रखते हुए केवल 100 प्रतिभागियों को भाग लेने का मौका मिल सका, जिसमें विज्ञान के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले अध्यापक अध्यापिकाओं, छात्र छात्राओं, विज्ञान संचारकों,  प्रसारकों,वैज्ञानिकों, विचारकों को राष्ट्रीय स्तर पर विज्ञान गुरु सम्मान पत्र एवम सम्मान प्रतीक देकर सम्मानित किया गया।सभी का चयन उनके कार्यों एवम उपलब्धियों के आधार पर वैज्ञानिकों की कोर टीम के द्वारा किया गया।इस कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के लखनऊ,गौतमबुद्धनगर,  सहित मध्यप्रदेश, दिल्ली,राजस्थान अन्य 7 प्रांतों के उत्कृष्ट नवाचारियों को विज्ञान गुरु सम्मान पत्र से नवाजा गया। कार्यक्रम का संचालन क्लब के अध्यक्ष उमेश कुमार राठी एवं दिल्ली की राज्य पुरस्कार प्राप्त शिक्षिका ऊषा चौधरी ने कुशलतापूर्वक किया। इस दौरान श्री रमेश चंद्र लाल पूर्व क्यूरेटर कला एवं क्राफ्ट,नेशनल म्यूज़ियम ऑफ नैचुरल हिस्ट्री, डॉ सी आर मगेश साइंटिस्ट सी नेशनल म्यूजियम ऑफ नैचुरल हिस्ट्री मिनिस्ट्री ऑफ एनवायरनमेंट फॉरेस्ट एंड क्लाइमेट चेंज भारत सरकार,श्री राजेश सारस्वत तकनीकी अधिकारी विज्ञान एवम् प्रोधौगिकी केंद्र गाज़ियाबाद, सुनील कुमार गोस्वामी जिला समन्यवक सम्पर्क फाऊंडेशन, पंकज कुमार प्रेरणा सारथी प्रथम एजुकेशन फाऊंडेशन, तकनीकी विशेषज्ञ मेरठ,मेरठ  जालोंन, झांसी, बाराबंकी, फिरोजाबाद, नोएडा,भावना यादव,अरुण कुमार शाक्य बदायूं,कविता यादव,अनुपमा राजपूत,दिव्या,चंद्रकला मौर्य,विनीता सिवास मेरठ,मीनाक्षी शर्मा,सुधा मिश्रा(प्रधानाध्यापक बदौली बांगर) ग्राम बदौली बांगर से सुहानी गुप्ता,निशा,ऋतु,छवि,उदय, नेहा, शुभम् गुप्ता, पूजा, मोहित आदि भी उपस्थित रहे।