ग्रेटर नोएडा शहर की .कई और रोटरी के लिए भी निजी संस्थाओं ने बढ़ाए हाथ

 


.ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ के समक्ष में दिए प्रस्तुतिकरण

विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

 सूरजपुर तिराहे से ग्रेटर नोएडा में प्रवेश करने पर गामा रोटरी तक आपको और भी हरियाली व मेटल की खूबसूरत आकृति देखने को मिल सकती है। निजी सहभागिता से ऐसे कई गोलचक्करों व ग्रीन बेल्ट को और सुंदर बनाने की पहल ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण की ओर से की गई है। ग्रेटर नोएडा में 50 से अधिक रोटरी बने हुए हैं। इनका रखरखाव प्राधिकरण खुद से भी करता है और अगर कोई निजी संस्था या कंपनी उसे एडॉप्ट करके विकसित करना चाहें तो ले सकती हैं। ऐसे ही कुछ गोलचक्करों को विकसित करने के लिए कंपनियों व संस्थाओं ने हाथ बढ़ाए हैं। इसी कडी में अब ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण की मौजूदगी में कंपनियों ने ऑनलाइन प्रस्तुतिकरण दिया है। एलजी कंपनी ने दुर्गा टाकीज के पास वाले गोलचक्कर से एलजी चौक तक दोनों तरफ की ग्रीनरी और सेंट्रल वर्ज को और हरा.भरा बनाने पर प्रस्तुतिकरण दिया। कंपनी ईकोटेक टू के रोटरी पर मेटल की आकृति भी लगाएगी। इससे रोटरी की खूबसूरती और बढ़ जाएगी। सीईओ नरेंद्र भूषण ने इस पर सहमति भी दे दी है।  इसी तरह रिजर्व पुलिस लाइन से बालक इंटर कॉलेज की तरफ जाने पर पहले रोटरी को टोयोइंक कंपनी ने एडॉप्ट करने का प्रस्ताव दिया है। इस पर भी ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण से सहमति बन गई है। कंपनी इसे हरा.भरा बनाने के साथ ही हाथ जोड़कर नमस्ते करते हुए और जापान के प्रसिद्ध होली गेट की तर्ज पर आकृति भी लगाने की बात कही है। जगदीश चंद्रा एजुकेशनल वेलफेयर सोसाइटी सेक्टर 3 की ग्रीन बेल्ट को विकसित करेगी। वहां पर फ्लॉवर बेड के साथ ही घास लगाकर हरा.भरा करेगी। बेंच भी लगाएगी,ताकि लोग बैठकर आराम भी कर सकें। आर्था इंफ्राटेक कंपनी ने टेकजोन फोर के रोटरी को विकसित करने का प्रस्ताव दिया है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण ने इन गोलचक्करों को विकसित करने पर मौखिक सहमति दे दी है। कागजी प्रक्रिया पूरी कर इनको हस्तांतरित अर्थात हैंडओवर कर दिया जाएगा और जिससे वे  शीघ्र काम शुरू कर सकेंगी। ऑनलाइन प्रस्तुतिकरण में जीएम प्रोजेक्ट ए.के. अरोड़ा, वरिष्ठ प्रबंधक कपिल देव सिंह आदि संबंधित अधिकारी शामिल रहे। 

.