हम सबका, भारत नंबर वन था, नंबर वन है, नंबर वन ही रहेगा, सरकारें आती है,ं चली जाती हैं

 


 हर साल 2 करोड लोगों को रोजगार देने के वादे हवा हवाई हो गए, लगभग 25 करोड़ लोगों को बेरोजगार बना दिया 



 




चौधरी शौकत अली चेची


जब से मोदी जी बने पीएम अपना भारत नंबर वन देश की जनता के बीच  घर परिवार गली मोहल्लों हर जगह पर चर्चाओं का विषय बना हुआ है। विदेशों से लगभग 32 रुपये लीटर में डीजल, पेट्रोल खरीद कर देशवासियों को 100 लीटर से ऊपर बेचा जा रहा है। स्विस बैंक में काला धन दुगना जमा हो गया। नोट बंदी कराके बच्चो व ग्रहणियां का भी गुल्लक, बटुआ खाली कर सभी को लाइन में लगाकर 15 लाख नहीं  दिए, जुमला बता दिया। नोटबंदी से देश के खजाने को लगभग 6 प्रतिशत का नुकसान हुआ। आतंकवादियों का कुछ नहीं बिगड़ा, अब भी आंतकी बुरी नजर लगाए हुए हैं। ऐसा नही होता तो पुलवामा जैसी दुखद आंतकी घटना नही होती। रोजगार, तरक्की सबको खूंटी पर लटका कर अपने उद्योगपति मित्रों को मालामाल कर देशवासियों को बर्बादी की लाइन में लगा कर न जाने कितनी हीं कंपनी बंद हुई और कई विदेशी कंपनियां अपने स्वदेश लौट गई। प्रधानमंत्री मोदी जी ने पटेल साहब का स्टेचू बनवाया मगर सरकार को कितना राजस्व मिला कोई नही जानता? चीन के राष्ट्रपति को झूला झुलाया आखिर हुआ उल्टा देश की जमीन पर कब्जा और चीन की सीमा पर जवान शहीद हो गए। नमस्ते ट्रंप करवाया इसके बाद कोरोना ऐसे घुसा कि लॉकडाउन हुआ और गोदी मीडिया इन सरकार के इशारे पर करसूरवार ठहरा दिया दिल्ली मरकज निजामुद्दीन को। कोरोना और लॉकडाउन की आड में नागरिकता संशोधन बिल के विरोध में बैठे देशवासियों को उठाकर भगा दिया। आखिर कोरोना और 2020 का लॉकडाउन सबसे ज्यादा मुफीद मोदी जी की सरकार के लिए साबित हुआ। अच्छे दिन का वादा 5 ट्रिलियन डॉलर भारत देश होगा लेकिन लगभग 600 मिलियन डॉलर का कर्ज देश पर हो गया। वर्ल्ड बैंक ने विकासशील देश का टैग हटाकर भारत को तीसरे स्तर की निचली श्रेणी में कर दिया। जीडीपी रसातल में चली गई, देश गरीबी में 160 वे नंबर पर पहुंच गया। देश की जनता जाति धर्म की द्वेष भावना में उलझी हुई है। हर साल 2 करोड लोगों को रोजगार देने के वादे हवा हवाई हो गए। लगभग 25 करोड़ लोगों को बेरोजगार बना दिया। 21 लाख करोड का पैकेज देने का वादा कर सबको झुनझुना पकड़ा दिया। देश की 80 प्रतिशत जनता चारों तरफ से बर्बादी के कगार पर खड़ी है। किसानों व बेरोजगारों की आत्महत्या दुगनी हो गई। डीजल, पेट्रोल के साथ गैस, बिजली बिल, किराया व भाड़ा आवश्यक जरूरत की वस्तुओं की कई गुना तक बढ गई। जज लोया की हत्या, अयोध्या मंदिर के कई सारे मुद्दे, राफेल खरीद, नई संसद बनाना, बीजेपी के कई नेताओं की पढ़ाई की डिग्री शक के दायरे में 35 साल भिक्षा मांगी, आलू से सोना बनाने वाली मशीन मोदी जी  ने खरीद कर राहुल गांधी को दे दी। दिल्ली, यूपी, पश्चिमी बंगाल, मध्य प्रदेश हरियाणा दंगा, बत्तख से ऑक्सीजन, नाली से गैस, गधों से प्रेरणा, पढ़े.लिखे पकौड़ा बेचो, शौचालय, मनरेगा, गौशाला घोटाला, गौशालाओं में तड़पती मरती गाय आदि सुर्खियां बनती चली आ रही हैं। मोदी जी ने तो तोते से खेल कर मोर नचाया, पूरा देश नाच रहा है, बैंकिंग सेक्टर, रियल स्टेट, उद्योग धंधे, अमन चैन,तरक्की सब ध्वस्त हो गए। धारा 370, 35, अयोध्या मामला, तीन तलाक, मदरसे, कुरान पाक, मॉब लिंचिंग, धर्मांतरण, गौ रक्षा, लव जिहाद आदि से भ्रम फैलाकर मुस्लिमों को निशाने पर रखा जा रहा है। बेरोजगारी, महंगाई, अत्याचार, भ्रष्टाचार, बलात्कार, हत्याएं, आत्म हत्याएं और घोटाले, जाति धर्म की द्वेष भावना दुगनी हो गई है। बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ का नारा फेल, सबसे ज्यादा अपमान महिलाओं का हो रहा है। किसानों की आय आधी रह गई बात कर थकते नही है मोदी जी किसानों की आयु दुगनी। किसानों के खाते में 2000 भेज कर मजाक बन रहा है 20000 की सैलरी अब आधी 10000 रह गई है। नौकरी के नाम से फार्म भरा कर, ं नौकरी नहीं मिली, लाखों करोड़ रुपए सरकारी खजाने में जमा, बेरोजगार बर्बाद आखिर इन सब में क्या खूब घोटाला नही हुआ?  रिटायर कर्मचारियों की पेंशन में कटौती का मामला भी सुर्खियां बना। 268 टन सोना गिरवी रख, लगभग 50 हजार रुपए तोला हो गया। लाल किले को गिरवी रख लगभग 60 प्रतिशत सरकारी संस्थाओं को बेच दिया और काफी संस्थाओं के नाम बदले तथा देश के अन्नदाता को बेचने का करार अदानी अंबानी से कर दिया। गलत नीतियों का सभी संस्थाओं तथा बुद्धिजीवियों द्वारा लगातार विरोध आंदोलन होते चले आ रहे हैं, लेकिन सबको बैक फुट पर फेक दिया। किसानों के आंदोलन को रोकने के लिए सड़कें खुदवाई, वाटर कैनन, आंसू गैस से हमला, संगीन धाराओं में मुकदमा, सड़कों के चारों तरफ देश की सीमाओं जैसी बाढ़ सड़कों में कीलें ठोक दी। तरह.तरह के बयानों से किसानों को अपमानित किया जा रहा है। लगभग 600 किसान आंदोलन में शहीद हो गए, लेकिन अन्नदाताओं  ने भी सरकार को बैक फुट पर फैंक दिया है। किसान फसल बीमा योजना में बड़ा घोटाला हुआ। अंध भक्तों के साथ सभी को कंगाल कर गोदी मीडिया को मालामाल कर, उद्योगपतियों का कर्ज माफ कर दिया, जो करे सच्चाई उजागर वह देशद्रोही है और संगीन धाराओं में लगातार मुकदमे दर्ज हो रहे हैं। कोराना के समय ताली, थाली, मोमबत्ती, दिए और टॉर्च खूब जलवाए। कोरोना की पहली से मोदी जी कोई सबक नही लिया और दूसरी लहर में देश को मौत के मुंह में जाते हुए सबने अपनी आंखों ने देखा। शमशान, कब्रिस्तान फुल हुए और न जाने कितने ही अपनों से दूर हो गए। लगभग 3600 करोड़ रुपए विदेशी सैर सपाटा में खर्च लोगों को जुमले बांटे। कितना विदेशी पूंजी निवेश हो रहा है मोदी जी मन की बात में नही बताने को तैयार हैं? जब भी नाकमियां उजागर हुई तो मोदी जी टीवी पर आकर रोने का इमोशनल ड्रामा करते हैं। हां भाजपा ने देश में आलीशान अपने कार्यालय जरूर बनवा लिए हैं। एससी, एसटी, ओबीसी का आरक्षण खत्म होने के कगार पर है। 35 श्रम कानून खत्म बाकी 9 बचे हैं, कितने हीं कानून देश जनता की बर्बादी के बना दिए?  मोदी जी ने विदेशों में जाकर कहा 600 करोड़ लोगों ने मुझे वोट देकर प्रधानमंत्री बनाया। कायदे में तो देशद्रोही और आतंकवादियों की जासूसी की जाती है, लेकिन यहां फोन टैपिंग कर भारत के लोकप्रिय लोगों की जासूसी को अब सांसद में सरकार की जमकर किरकिरी हो रही है।  अंततः मैं यही कहूंगा कि सभी देशवासी कर लो आपस में प्यार, फैलाओ जागरूकता, तरक्की की, खातिर, जिन्होंने दी कुर्बानी, देश की खातिर उनकी याद ताजा होनी चाहिए, शातिर दिमाग गलत सोच वाले लोगों से अवश्य दूरी बनानी चाहिए। जय जवान, जय किसान ,तिरंगा भारत की शान, हम सबका भारत, वर्ल्ड में महान, हम सबका, भारत नंबर वन था, नंबर वन है, नंबर वन ही रहेगा, सरकारें आती है,ं चली जाती हैं।

लेखकः. चौधरी शौकत अली चेची भारतीय किसान यूनियन ( बलराज) के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष  हैं।