हेल्थ मिनिस्ट्री के दावे से 10 गुना ज्यादा है आंकड़ा


 

 


अमेरिकी स्टडी ग्रुप सेंटर ऑफ ग्लोबल डिवेलपमेंट की स्टडी में दावा किया गया है कि कोरोना संक्रमण की शुरुआत से लेकर इस साल जून तक 34 से 47 लाख लोगों की मौत वायरस से हुई है







विजन लाइव/नई दिल्ली

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान जिस प्रकार लाशों के ढेर टीवी, अखबारों और सोशल मीडिया पर दिखाई दिए हर कहीं कोहराम मचता हुआ दिखाई दिया। लोग आज भी इस मानव त्रासदी को भूल नही पा रहे हैं कई लोगों के अपने और खास नही रहे। किंतु अब खुलासा हुआ है कि भारत में हेल्थ मिनिस्ट्री की ओर से कोरोना के चलते जितनी मौतों का दावा किया गया था, उससे 10 गुना ज्यादा लोगों ने संक्रमण के चलते जान गंवाई है। एक अमेरिकी रिसर्च ग्रुप की रिपोर्ट में यह बात कही गई है। हेल्थ मिनिस्ट्री के मुताबिक भारत में अब तक कोरोना संक्रमण की वजह से 4,14,482 लोगों की मौत हुई है, जो दुनिया में तीसरे नंबर पर है। भारत से आगे सिर्फ अमेरिका और ब्राजील ही हैं। अमेरिका में कुल 6 लाख 9 हजार लोगों की मौत हुई है। इसके अलावा ब्राजील में अब तक 5 लाख 42 हजार लोगों की मौत हुई है। अमेरिकी स्टडी ग्रुप सेंटर ऑफ ग्लोबल डिवेलपमेंट की रिपोर्ट में जो दावा किया गया है, वह अब तक का सबसे अधिक है। एक रिपोर्ट के मुताबिक  भारत में अप्रैल और मई के दौरान कोरोना संक्रमण के चलते बड़ी संख्या में मौतें दर्ज की गई थीं। अमेरिकी स्टडी ग्रुप सेंटर ऑफ ग्लोबल डिवेलपमेंट की स्टडी में दावा किया गया है कि कोरोना संक्रमण की शुरुआत से लेकर इस साल जून तक 34 से 47 लाख लोगों की मौत वायरस से हुई है। रिसर्चर्स का कहना है कि वास्तव में मौतों का आंकड़ा कई मिलियन हो सकता है। यदि इस आंकड़े को देखा जाए तो भारत में आजादी और विभाजन के बाद से यह सबसे बड़ी त्रासदी है। सेंटर ने अपनी स्टडी के तहत कोरोना के दौर में हुई मौतों और उससे पहले के सालों में गई जानों के आंकड़े का विश्लेषण किया है। इसके आधार पर ही सेंटर ने 2020 से 2021 के दौरान मौतों का आंकड़ा निकाला है और उसे कोरोना से जोड़ते हुए सरकार के आंकड़ों पर सवाल उठाया है।