पंचायत के बीच एडीएम वित्त ने पहुंचकर किसानों को समझाया और उन्होंने 48 घंटे का समय किसानों से मांगा

 




विजन लाइव/गौतमबुद्धनगर

भारतीय किसान यूनियन आराजनैतिक संगठन की पंचायत दनकौर अनाज मंडी समिति पर हुई, जिसकी अध्यक्षता राष्ट्रीय सचिव लज्जाराम प्रधान व संचालन सुनील प्रधान ने किया। इस मौके पर जिलाध्यक्ष अनित कसाना ने कहा कि क्षेत्र के किसान गेहूं की तोल न होने के कारण बहुत ज्यादा परेशान है जहां एक तरफ केंद्र सरकार कह रही है कि एमएसपी पर गेहूं खरीदा जाएगा लेकिन आज के हालात ऐसे हैं कि मंडियों में गेहूं नहीं खरीदा जा रहा और आढ़ती गेहूं को 1500 कुंटल के हिसाब से खरीद रहे हैं। मौके पर एसडीएम सदर व तहसीलदार पहुंचे। इस पर प्रदेश प्रवक्ता व मंडल अध्यक्ष पवन खटाना ने इन अधिकारियों को कड़े शब्दों में चेतावनी दी अगर 1 घंटे में यहां तोल तो नहीं कराई गई तो आंदोलन उग्र होगा जिसमें एसडीएम प्रसून कुमार द्विवेदी मंडी सचिव को आदेश दिया और कुछ ही समय बाद वहां पर तोल चालू करा दी गई, इससे किसानों में खुशी की लहर दौड गई। मीडिया प्रभारी सुनील प्रधान ने बताया कि किसानों के रजिस्ट्रेशन के सत्यापन अभी तक नहीं हुएं है, पटवारी फोन नहीं उठाते, इस पर तहसीलदार ने 24 घंटे का समय मांगा, सभी किसान भाइयों के रजिस्ट्रेशन का सत्यापन 24 घंटे में हो जाएगा दादरी और जेवर तहसील में भी तोल नहीं हो रही। किसानों ने पंचायत में दादरी और जेवर के एसडीएम मौके पर नहीं पहुंचने पर पंचायत में बैठे किसानों में आक्रोश पैदा हो गया, जिससे पंचायत में फैसला लिया गया कि सभी लोग जिला अधिकारी गौतमबुद्धनगर का घेराव करेंगे। सभी किसानों डीएम ऑफिस पर पहुंच कर धरना दिया, जिसमें पंचायत के बीच एडीएम वित्त ने पहुंचकर किसानों को समझाया और उन्होंने 48 घंटे का समय किसानों से मांगा कि 48 घंटे में सभी किसान भाइयों की समस्याओं का समाधान कर दिया जाएगा, जिनके रजिस्ट्रेशन का सत्यापन नहीं हुआ है और गौतमबद्धनगर के सभी क्रय केंद्रों पर किसानों के गेहूं की तुलाई कराई जाएगी और उन्होंने सभी किसानों को अपना मोबाइल नंबर देकर कहा कि अगर किसी भी क्रय केंद्र पर आपके गेहूं को तुलाई में एमएसपी रेट से कम खरीदने पर अन्य किसी भी गेहूं की खरीद की समस्या के बारे में मुझे फोन कर सकते हो पंचायत के अध्यक्ष राष्ट्रीय सचिव लज्जा राम प्रधान ने पंचायत में एडीएम वित्त को 48 घंटे का समय दिया। इस मौके पर सुरेंद्र नागर, चाहत मास्टर, सुनील प्रधान, राजे प्रधान, परविंदर अवाना, बेली भाटी, संदीप अवाना, विनोद शर्मा, शमशाद सैफी, सुमित तंवर, महेश खटाना, सुभाष नागर,  भगत सिंह चेची आदि सैकड़ों किसान मौजूद रहे।