रोड लाईट के नाम पर कहीं स्ट्रीट लाइट खराब पडी हुई हैं और कहीं ये लाइटें टूट कर नीचे गिर चुकी है। यदि कहीं स्ट्रीट लाइट ठीक अवस्था में है भी, वहां पर चोरी हो चुके है, स्ट्रीट लाइट पैनल तक

 






रोड लाईटों के बंद होने के मामले की जांच कराई जाएगी और सभी लाईटों को पुनः जलवाया जाएगाः सीनियर मैनेजर

 


मौहम्मद इल्यास/ग्रेटर नोएडा

हाईटेक शहर ग्रेटर नोएडा की व्यवस्था भगवान भरोसे चल रही है। ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण ने यों तों शहर को जगमगाने के लिए करोड रूपये खर्च किए हुए हैं मगर इसका फायदा लोगों को नही मिल पा रहा है। रोड लाईट के नाम पर कहीं स्ट्रीट लाइट खराब पडी हुई हैं और कहीं ये लाइटें टूट कर नीचे गिर चुकी है। ग्रेटर नोएडा में कासना नहर तिराहे से दनकौर जेवर की ओर जाने वाले मुख्य लिंक रोड की हालत में कुछ ऐसी ही है। कासना नहर तिराहे से इस 80 मीटर रोड से सेक्टर चाई-4, फाई-4 और एटीएस, वृंदा सिटी, मीडिया विलेज, निबंस समेत तमाम सोसायटीज और सेक्टरों के लिए आवागमन होता है। वहीं ग्रेटर नोएडा डिपो से सारा यातायात जिले के दनकौर और जेवर तक के लिए यहीं से आता जाता है। किंतु इस रोड पर लगी ज्यादातर स्ट्रीट लाइटें जल ही नही रही। इनमें कुछ तो खराब पडी हुई है, जब कि कुछ के पैनल खराब हो चुके हैं। जानकारी में आया है कि गणतंत्र दिवस के आस पास तो इस रोड पर कुछ लाईंटे जली थी मगर अब एक सप्ताह से ये सारी बंद पडी हुई और इस देहात इलाके लिए जाने पर रोड पर अध्ांकार समाया रहता है। पैनल के आसपास खुदाई की जा रही है शायद किसी बडे हादसे का इंतजार तो नही है? रात्रि में रोड की लाईटें न जलने से कई बार राहगीर अपराधिक प्रवृत्ति के लोगों की छीना झपटी के भी शिकार हो जाते हैं। किंतु अधिकारी कानों में रूई डाल कर बैठे हुए हैं। हालांकि विगत वर्षो के दौरान जब यह मामला मीडिया की सुर्खिया बना था, तो कुछ दिन ये लाईटे जल उठी थी। इस बारे में जब ’’विजन लाइव’’ नें ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के सीनियर मैनेजर संदीप भरता से बातें की,तो  उन्होंने कहा कि रोड लाईटों के बंद होने के मामले की जांच कराई जाएगी और सभी लाईटों को पुनः जलवाया जाएगा।