कांग्रेस ने एक बडी जनसभा बिलासपुर में किए जाने की हिम्मत ऐसे समय दिखाई जब कि प्रशासन की अनुमति के बगैर कोई भी जनसभा गौतमबुद्धनगर में संपन्न नही हो पा रही है





विकास की खोखली तस्वीर खींची गई और लोगों को बुनियादी सुविधाएं मयस्सर हो रही हैं अथवा जुमलेबाजी ही चल रही है, कांग्रेस गांव गांव और गली गली तक पहुंच कर, पडताल करेंगी

 





गौतमबुद्धनगर  में ’’गांव का सिपाही अभियान’’ पोल खोल अभियान की तर्ज पर होगाः मनोज चौधरी

 






मौहम्मद इल्यास/गौतमबुद्धनगर

---------------------------------गौतमबुद्धनगर में कांग्रेस संगठन जनता के मुद्दों को लेकर पूरी तरह से सडक पर उतरा हुआ है। मुद्दा चाहे कोविड-19 पीरियड में फीस का रहा हो या फिर किसानों का रहा हो अथवा कानून व्यवस्था से संबंधित हो, कांग्रेसी अब सडकों पर ही नजर आते हैं। एक समय वह था जब चुनावों में कांग्रेस को ढूढे हुए भी प्रत्याशी नही मिल पाते थे। गौतमबुद्धनगर में बडे चुनावों को छोड भी दे ंतो जिला पंचायत, स्थानीय निकाय चुनावों में एक ही जैसी स्थिति रही है और हो भी क्यों न कांग्रेस उत्तर प्रदेश में करीब 35 वर्ष से सत्ता दूर जो है। ऐसे में कांग्रेस नेतृत्व ने हालांकि संगठन को मथने का काम किया गया मगर कांग्रेस में जान नही फूंकी जा सकी। किंतु जब से उत्तर प्रदेश में प्रियंका गांधी ने बतौर प्रभारी की कमान संभाली है एक तरह से कांग्रेस में नई जान सी लौट आई है। बात यदि गौतमबुद्धनगर की करें तो यहां तो लोकसभा चुनावों में प्रत्याशी रमेशचंद तोमर भी भाग खडे हुए थे। यहां पर संपन्न हुए त्रिस्तीय चुनावों और यहां तक की नगर निकाय चुनावों में कांग्रेस को ढूढे हुए प्रत्याशी तक नही मिल पाते थे। जिला संगठन की बात करें तो यहां पर अजय चौधरी, डा0 महेंद्र नागर, तफसीर आलम आदि ने बतौर जिलाध्यक्ष संगठन को मथने का काम किया मगर जितनी तेज धार मिलनी चाहिए थी, उतनी मिल नही पाई। वर्तमान में गौतमबुद्धनगर कांग्रेस के जिलाध्यक्ष मनोज चौधरी हैं। यदि दूसरे राजनीतिक दलों की बात करें तो यहां पर भाजपा और कांग्रेस के ही जिलाध्यक्ष स्थानीय हैं। जब कि सपा जिलाध्यक्ष बीर सिंह यादव नोएडा से हैं और बसपा जिलाध्यक्ष लखमी सिंह भी पैराशूट नोएडा निवासी हैं। गौतमबुद्धनगर कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज चौधरी अब तक के जिलाध्यक्षों में सबसे युवा हैं और स्थानीय स्तर पर तुगलपुर गांव के निवासी भी हैं। एन.एस.यू.आई से सफर शुरू करने वाले मनोज चौधरी किसान सेल के जिलाध्यक्ष रह चुके हैं। इसके साथ ही वे यूथ सचिव उत्तर प्रदेश और पी.सी.सी सदस्य तथा जिला महासचिव व प्रवक्ता आदि कई पदों पर रह चुके हैं। साथ ही कई सामाजिक और धार्मिक संगठनों में भी सक्रिय भागेदारी निभाते रहे हैं।


16 अक्टूबर-2019 को कांग्रेस के जिलाध्यक्ष पद पर मनोज चौधरी की ताजपोशी की गई थी, इस दौरान कांग्रेस का काफिला इतना बढता गया है कि कांग्रेस की मजबूत उपस्थिति का अहसास अब गौतमबुद्धनगर में होने लगा है। अमरपुर गांव में कूडाघर के विरोध में कांग्रेस ने जमकर अपनी ताकत दिखाई थी। इससे विपक्ष एकजुट हुआ और किसान संगठनों समेत जन समूह की बदौलत प्रशासन ने घुटने टेक दिए और कूडाघर की बात हवा हो गई। कोविड-19 पीरियड में ग्रेटर नोएडा के बडे कॉन्वेंट स्कूलों ने फीस को लेकर ज्यादती करनी शुरू की। तंग होकर अभिभावकगण एकजुट हुए और कांग्रेस के जिला कार्यालय की ओर रूख किया। दूसरे दिन कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज चौधरी के नेतृत्व में न केवल स्कूल का घेराव किया बल्कि जमकर प्रदर्शन भी किया। कई बार डीएम का घेराव फीस वसूली और किसान हित के मुद्दों को लेकर किया गया। हाथरसकांड में स्वंय कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी ग्रेटर नोएडा से होकर कूच कर रहे थे। उस समय हाथहपाई में राहुल गांधी नीचे गिर गए थे। पुलिस की इस धक्का मुक्की में कांग्रेस जिलाध्यक्ष को भी चोट लगी थी। यदि कांग्रेस संगठन की सक्रियता की बात करें तो जिला कार्यकारणी के साथ ब्लाक कार्यकारणी और नगर कार्यकारणी का गठन भी किया जा चुका है। बूथ स्तर तक पहुंच कायम करने के लिए कांग्रेस की ओर से सृजन अभियान भी लंबे समय से चलाया गया है और जो अब संपन्न हो चुका हैं। बिलासपुर कसबे में संगठन सृजन अभियान को लेकर कांग्रेस ने एक बडी जनसभा किए जाने की हिम्मत ऐसे समय दिखाई जब कि प्रशासन की अनुमति के बगैर कोई भी जनसभा गौतमबुद्धनगर में संपन्न नही हो पा रही हैं। दिनांक 29 जनवरी-2021 को बिलासपुर कसबा के एच.एस. गार्डन में संपन्न हुई इस जनसभा मेंं उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को आना था। पुलिस ने जनसभा को बगैर अनुमति आयोजित किए जाने की बात कहते हुए उत्तर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को रास्ते मेंं ही रोक लिया। मगर वहीं तिगांव हरियाणा के पूर्व कांग्रेस विधायक ललित नागर और जेवर के पूर्व कांग्रेस विधायक बंशी सिंह पहाडियां आदि कई नेता जनसभा स्थल पर पहुंचे और पुलिस की लाख कोशिशांं के बाद इन कांग्रेस  नेताओं जनसभा को संबोधित किया। उम्मीद के मुताबिक इस जनसभा मेंं हजारांं लोगों की भीड जुटी। हालांकि पुलिस प्रशासन ने बाद में बगैर अनुमति के जनसभा आयोजित किए जाने के मामले में करीब 300 कांग्रेसी नेताओं और कार्यकर्ताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया। कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज चौधरी ने बताया कि कांग्रेस का सृजन संगठन अभियान अब संपन्न हो चुका है जिसके तहत न्याय पंचायत और बूथ स्तर तक कमेटियों का गठन कर सक्रियता बढाई गई है। इसके बाद गांव का सिपाही अभियान गौतमबुद्धनगर में जल्द ही शुरू किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गौतमबुद्धनगर कांग्रेस इस गांव का सिपाही अभियान को लंबे समय तक चलाएगी। इस गांव का सिपाही अभियान में पदाधिकारी और कार्यकर्ता गांव गांव और गली गली तक पहुंचेगे और पडताल करेंगे कि अखिर गैर कांग्रेसी सरकारों के जमाने में किस प्रकार विकास की खोखली तस्वीर खींची गई और लोगों को बुनियादी सुविधाएं मयस्सर हो रही हैं अथवा जुमलेबाजी की चल रही है। उन्होंने कहा कि यह ’’गांव का सिपाही अभियान’’ पोल खोल अभियान की तर्ज पर होगा।