विजन लाइव टीम/गौतमबुद्धनगर

कृषि अध्यादेशों के विरोध में किसानों का आंदोलन लगातार जारी है। किसान संगठनों अहवान पर आज 14 दिसंबर-2020 को जिला मुख्यालयों पर धरना प्रदर्शन कर घेराव के क्रम में किसान संगठनों और विपक्षीदलों ने धरना प्रदर्शन किए और साथ ही ज्ञापन देते हुए काले कानूनों को वापस लिए जाने की मांग की। वहीं सपा समेत रालोद जैसे राजनीतिक संगठनों ने धरना प्रदर्शन कर गिरफ्तारियां दीं। वहीं दूसरी ओर सरकार के समर्थन में हिंदु युवा वाहिनी गौतमबुद्धनगर ने कृषि अध्यादेशों का समर्थन किया। आइए देखते हैं पूरी रिपोर्टः-


भारतीय किसान यूनियन अखंड ने गौतमबुद्धनगर जिलाधिकारी कार्यालय पर कृषि अध्यादेश के विरोध में धरना प्रदर्शन किया


 भारतीय किसान यूनियन अखंड के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी महेश कसाना के द्वारा गौतमबुद्धनगर जिलाधिकारी कार्यालय पर कृषि अध्यादेश के विरोध में महामहिम राष्ट्रपति के नाम धरना प्रदर्शन किया और अपर जिलाधिकारी मुनेंद्र को ज्ञापन सौंपा गया। भारतीय किसान यूनियन अखंड के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी महेश कसाना के नेतृत्व में संगठन के पदाधिकारियों द्वारा धरना प्रदर्शन किया गया, जिसमें संगठन ने किसान अध्यादेश का विरोध किया और सरकार की कड़ी निंदा की। इस मौके पर राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी महेश कसाना ने कहा कि सरकार किसानो के साथ अन्याय कर रही है, उसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। जब तक सरकार इन तीनों कृषि बिलो को वापस नहीं लेती, तब तक किसान विरोध करते रहेंगे। इस मौके पर भारतीय किसान यूनियन अखंड के द्वारा 9 सूत्रीय मांगपत्र का ज्ञापन दिया गया जिसमें किसानों से एम.एस.पी. से नीचे खरीद करने वालों पर सजा और जुर्माना का प्रावधान अध्यादेश में किया जाना चाहिए। इसके साथ ही गन्ना किसानो को 14 दिन में भुगतान किया जाए। उसके बाद ब्याज सहित भुगतान किया जाए। कृषि उपज के भंडारण की वयवस्था सरकार करें एवं देश में मंडियों की संख्या बढ़ाई जाए। कृषि उपज भंडारण एवं मंडियो का निजीकरण ना करें किसान आयोग का गठन किया जाए। स्वामीनाथन रिपोर्ट तत्काल लागू हो, बिजली, पानी सभी किसानों को फ्री हो, फसल ब्याज मुक्त हो, सभी किसानों का संपूर्ण कर्जा माफ हो, कृषि संबंधित उपकरणों रासायनिक खाद दवाइयों पर सब्सिडी दी जाए, सभी किसानों को कृषि एवं गैर कृषि भूमि पर मालिकाना हक दिया जाए। गौतमबुद्धनगर में तीनों प्राधिकरण का गांव में आबादी की भूमि पर हस्तक्षेप ना हो और नक्शा नीति को खत्म किया जाए। इस मौके पर प्रतिनिधिमंडल में राष्ट्रीय महासचिव सचिन त्यागी, राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य सुरेश रावल, अशोक तोगंड, बालेश्वर, अर्जुन त्यागी, प्रदेश प्रवक्ता मनोज वर्मा, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य रविंदर गौतम, दिनेश, मनोज अवाना, राजकुमार भाटी, रवि भाटी आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण मौजूद रहे।

 

कृषि अध्यादेशो के विरोध में किसान एकता संघ ने जिलाधिकारी को सौंपा राष्ट्रपति के नाम ज्ञापन

 


14 दिसंबर 2020 को किसान एकता संघ के कार्यकर्ताओं ने राष्ट्रीय संरक्षक चौधरी बाली सिंह के नेतृत्व में सिटी मजिस्ट्रेट को राष्ट्रपति  के नाम संबोधित ज्ञापन सौंपा। किसान एकता संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राजेंद्र नागर ने कहा कि देश के किसान की कमर तोड़ने का कार्य सरकार ने किया है, यह तीनों काले कानून किसान का शोषण करने के लिए बनाए गए हैं। पूरा देश का किसान सड़कों पर है लेकिन सरकार तानाशाही रवैया अपना रही है। जिलाध्यक्ष कृष्ण नागर ने कहा कि देश के अन्नदाता लगातार इतनी ठंड में बैठे हुए हैं और किसान एकता संघ का पहले दिन से समर्थन इस आंदोलन को है। उसी क्रम में आज जिलाधिकारी को राष्ट्रपति महोदय के नाम कृषि कानूनों को वापस करने के लिए सिटी मजिस्ट्रेट गजेंद्र सिंह को ज्ञापन सौंपा गया है। इस मौके पर गीता भाटी, देशराज नागर, कृष्ण बैसला, बृजेश भाटी, महेंद्र कसाना, प्रमोद शर्मा, आलोक नागर, अमित अवाना, विजेंद्र सिंह, प्रताप नागर, सतीश कनारसी, आजाद अधाना, कृष्ण मावी,जयवीर नागर, बिजजन नागर, मोहन पाल बीडीसी, बालकिशन प्रधान, अर्जुन प्रजापति, अमित नागर, ओमवीर समसपुर, बले नागर, रविन्द्र नागर, अशोक नागर, फिरे नागर, प्रेम कसाना, कपिल नागर, शिवराज बैसला आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण मौजूद रहे।

 

भारतीय किसान यूनियन अम्बावता ने जिला मुख्यालय पर सौंपा ज्ञापन

 


भारतीय किसान यूनियन अम्बावता के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने राष्टीय अध्यक्ष चौधरी ऋषिपाल अम्बावता के निर्देश पर जिला मुख्यालय पर एकत्र होकर किसान विरोधी कानून को वापस लेने हेतु राष्ट्रपति के नाम सबोधित ज्ञापन सौंपा ।  भारतीय किसान यूनियन अम्बावता के जिला प्रवक्ता कृष्ण भाटी ने बताया कि इस तीन सूत्रीय मांगों को लेकर कार्यकर्ताओं ने ज्ञापन दिया है, जिसमे किसान विरोधी कानून को वापिस लेने,किसान को सम्पूर्ण भारत में कर्जमुक्त करने व स्वामीनाथन आयोग के अनुसार 50 प्रतिशत मुनाफा की मांगों को रखा गया। इस मौके पर मुख्य रूप से पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी नीरज भाटी एडवोकेट,युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक नागर, मेरठ मंडल अध्यक्ष नरेश छपरगढ़,जिला उपाध्यक्ष अब्बास हैदर रिजवी,नगर अध्यक्ष दादरी मनोज भगतजी,तहसील अध्यक्ष राजकुमार रूपवास,जिला प्रवक्ता कृष्ण भाटी,महिपाल गर्ग पूर्व चैयरमेन, नासिर प्रधान,मेघराज नागर,अनिल नागर, आदेश बंसल,गजेंद्र भाटी, देवराज बैसोया आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण उपस्थित रहे।

 

कानूनों को वापस नहीं लेती तो सरकार के मंत्री और सांसदों को गोला लाठी लगाने का काम किसान करेगाः अनित कसाना



भारतीय किसान यूनियन अराजनैतिक संगठन द्वारा जिला मुख्यालय सूरजपुर गौतमबुद्धनगर पर किसान विरोधी बिल को लेकर देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम संबोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर को देकर अपना विरोध प्रदर्शन किया। इस मौके पर प्रदेश प्रवक्ता व मेरठ मंडल अध्यक्ष पवन खटाना ने कहा कि जब तक तीनों कृषि कानून बिल वापस नहीं लिए जाते, किसानों का प्रदर्शन चलता रहेगा। जिला अध्यक्ष अनित कसाना ने कहा कि अगर सरकार इन कानूनों को वापस नहीं लेती तो सरकार के मंत्री और सांसदों को गोला लाठी लगाने का काम किसान करेगा। इस मौके पर पवन खटाना, अनित कसाना, सुनील प्रधान, मटरू नागर, बेली भाटी, फ़िरेराम तौंगड,, धर्मपाल स्वामी, सुरेंद्र नागर, सुंदर खटाना, संदीप खटाना, सचिन खटाना, अशोक भाटी, गजेंद्र चौधरी, विनोद शर्मा, परविंदर अवाना, इंद्रजीत कसाना, गजेंद्र चौधरी, रविंद्र भगत जी, विपिन तंवर, योगी नंबरदार, प्रमोद सफीपुर, सुभाष सिलारपुर, भिकारी प्रधान, बिल्लू चौधरी, अजब प्रधान, सुमित नेताजी, शमशाद सैफी, धर्मेंद्र चपराना, संजय शर्मा, भोले शंकर, ठाकुर सुरजन सिंह, ठाकुर विपिन सिंह, महेश खटाना, वीरेंद्र पंडित, पवन चौहान, रविंद्र भाटी, नवनीत सफीपुर, अमित डेढ़ा, प्रदीप डेढ़ा आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागणों ने धरना प्रदर्शन कर ज्ञापन दिया।


रालोद कार्यकर्ताओं को पुलिस ने  अथॉरिटी गौलचकर से गिरफ्तार किया

 


सुबह 1130  बजे कृषि काले कानून के विरोध में जिलाधिकारी कार्यालय सूरजपुर जाते हुए रालोद के जिला अध्यक्ष जनार्दन भाटी ओर रालोद कार्यकर्ताओं को पुलिस ने  अथॉरिटी गौलचकर से गिरफ्तार किया। रालोद के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र चौधरी ने कहा कि योगी सरकार की मानसिकता दर्शाती है कि सरकार किसानों ओर मजदूरों की आवाज़ को कुचलना चाहती हैं। इस मौके पर गिरफ्तारी देने वालो में भूपेंद्र चोधरी (प्रदेश अध्यक्ष),बिजेंद्र यादव (महानगर अध्यक्ष),मनोज चौधरी (प्रदेश महासचिव) और हरबीर सिंह, चौधरी शौकत अली चेची,नीरज शर्मा आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तां शामिल रहे।

 

हिंदू युवा वाहिनी गौतमबद्धनगर ने नए कृषि कानून का समर्थन किया

 


केंद्र सरकार के द्वारा नए कृषि कानून का हिंदू युवा वाहिनी गौतमबद्धनगर ने समर्थन किया है। हिंदू युवा वाहिनी गौतमबद्धनगर जिलाध्यक्ष चैनपाल प्रधान ने कहा कि केंद्र सरकार के नए कृषि कानून से किसानों को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि नए कानून के तहत अब किसान अपना उत्पादन बेचने के लिए स्वतंत्र हैं। इससे पहले फसल खरीद प्रणाली किसानों के प्रतिकुल नहीं थी, क्योंकि सिर्फ पास की मंडियों में अपनी फसल बेच सकते थे। नए कानून से किसान अपने लिए बाजार का चुनाव कर सकता है। फसल की सीधी बिक्री से एजेंट को कमीशन नहीं देना होगा, न ही सेंस व लेवी देनी होगी। किसान कांटेक्ट फॉर्मिंग के साथ.साथ प्रोसेसिंग यूनिट को डायरेक्ट सीधे खरीदने की सुविधा मिलेगी और किसानों को सीधा फायदा होगा। एमएसपी ने तो बंद होगी और ना ही खत्म की जाएगी। यह सिर्फ भ्रम फैलाया जा रहा है, जिससे सरकार लिखित आश्वासन देने को तैयार है। नए तीनों कानूनों में बिचौलिए खत्म कर दिए गए हैं। नए कानून के तहत फसल पर जीएसटी व वेट से भी मुक्ति मिल गई है। हिंदू युवा वाहिनी गौतमबद्धनगर के कार्यकर्ताओं ने अब किसानों को जागरूक करने का बीड़ा उठाया है। सरकार व किसानों के बीच की भ्रम की स्थिति को दूर करने व उन्हें समझाने के लिए जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। इस मौके पर आजाद खटाना, मदन प्रधान, उमेश तिवारी, गणेश कौशिक, मुकेश ठाकुर, नरेंद्र भाटी, मोहित दक्ष, कुलदीप ठाकुर, मूलचंद सोलंकी आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण उपस्थित रहे।