हाथरस की घटना में बेशर्मी की सभी हदें पार हो चुकी हैं और उत्तर प्रदेश सरकार अभी तक पीट रही है, सिर्फ एसआईटी की जांच का ढिंढोराः चौधरी हसरूद्दीन




विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

पूर्व प्रदेश सचिव समाजवादी मजदूर सभा चौधरी हसरूद्दीन ने उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार पर हाथरस की घटना को लेकर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार पूरी तरह से विफल साबित हो चुकी है। यहां अफसर बेलगाम है और सरकार इस ओर से बेपरवाह बनी हुई है। यही कारण है कि लूट, हत्या, अपहरण और रेप व गैंग रेप जैसी घटनाओं के चलते हुए न तो आम आदमी ही सुरक्षित है और न ही महिलाएं सुरक्षित हैं। कब किसकी आबरू लूट जाए महिलाएं घर से निकालने तक से डरने लगी है। उन्होंने कहा कि हाथरस की घटना इस बात का उदाहरण है इस घटना की जितनी निंदा की जाए कम हैं। हाथरस की घटना में अफसरशाही बेशर्म साबित हो चुकी है और वहीं यूपी सरकार इन दोषी अफसरों को दंडित न करते हुए सिर्फ लीपापोती में लगी हुई है। उन्होंने कहा कि अब हाथरस की घटना ही बल्कि उत्तर प्रदेश में इतना जंगलराज कायम हो गया है कि बहन बेटियों की इज्जत आबरू कतई सुरक्षित नही है। हाथरस की घटनों को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन जारी है। वहीं इस घटना के बाद यूपी के बलरामपुर और भदोही जिले से भी दलित युवतियों के खिलाफ अपराध की खबरें सामने आ रही हैं। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ में यदि थोडी सी भी नैतिकता बची है तो अपना इस्तीफा देकर जनतंत्र को सुरक्षित किए जाने का मार्ग प्रशस्त करें। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में जब सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव मुख्यमंत्री थे बुलंदशहर मेंं गैंग रेप जैसी घटना के प्रकाश मेंं आने पर न केवल निंदनीय बताय था बल्कि जिम्मेदार पुलिस के बडे अफसरों के खिलाफ निलंबन जैसी कार्रवाई कर एक सुलझे हुए शासक का सबूत पेश किया था। मगर यहां हाथरस की घटना में बेशर्मी की सभी हदें पार हो चुकी हैं। प्रशासन के लोग पीडित परिवार को धमका रहे हैं और रात के अंधरे में अपराध से ग्रस्त देश की बेटी की लाश को जला दिया गया और उत्तर प्रदेश सरकार अभी तक सिर्फ एसआईटी की जांच का ढिंढोरा ही पीट रही है।