कोरोना निवारक गायत्री महायज्ञ में सूरजपुर आर्य समाज के महामंत्री प0 धर्मवीर आर्य और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती लीना आर्य यज्ञमान रहे

 


विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

आर्य समाज सूरजपुर के पूर्व अध्यक्ष प0 महेंद्र कुमार आर्य ने गुरूकुल मुशर्दपुर में आकर चल रहे कोरोना निवारक गायत्री महायज्ञ में आहूति दी और यज्ञ के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि दैनिक यज्ञ किए जाने से वातावरण शुद्ध होता है। राम और कृष्ण के राज्य में दैनिक यज्ञ किए जाते हैं यही कारण था कि उस समय सांप के काट लेने से भी सहज मृत्यु नही होती थी। किंतु आज वातावरण इतना प्रदूषित हां गया है कि सांस लेना तक दूश्वार होने लगा है। वातावरण की शुद्धि के लिए हर व्यक्ति को यज्ञ किए जाने पर ध्यान देना चाहिए। दैनिक यज्ञ वैदिक धर्म का मूल है। शनिवार को गायत्री महायज्ञ में यज्ञमान के रूप में सूरजपुर आर्य समाज के महामंत्री प0 धर्मवीर आर्य और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती लीना आर्य रहें। इस मौके पर सूरजपुर आर्य समाज के महामंत्री प0 धर्मवीर आर्य ने कहा कि वैदिक संस्कृति में दैनिक यज्ञ मूल है। ऐसे में जब कि कोरोना जैसी महामारी ने पूरे विश्व को अपने आगोश में ले रखा है, यज्ञ किए जाने का महत्व और भी बढ जाता है। यज्ञ ब्रहमा सुखवीर मुनि ने यज्ञमान प0 धर्मवीर आर्य और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती लीना आर्य का सर्वप्रथम पटका पहना का स्वागत किया और फिर गायत्री महायज्ञ का प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। 22 अक्टूबर-2020 से लेकर 11 नवंबर-2020 तक 21 दिवसीय कोरोना निवारक गायत्री महायज्ञ का आयोजन मुशर्दपुर स्थित गुरूकुल में आर्य प्रतिनिधि सभा गौतमबुद्धनगर के तत्वाधान में किया जा रहा है। इस मौके पर आर्य प्रतिनिधि सभा के पूर्व जिलाध्यक्ष आर्य वीरेश भाटी, आर्य समाज ग्रेटर नोएडा के प्रधान चौधरी धर्मवीर प्रधान, आर्य प्रतिनिधि सभा के कोषाध्यक्ष आर्य सागर खारी, आशा, महेश चूहडपुर, राजेंद्र आर्य आदि ने महायज्ञ में आहूति दी।