कस्टमर ने मोबाइल कंपनी से मानसिक, आर्थिक व सामाजिक क्षति के रूप में 1करोड का हरजाना मांगा


मोबाइल बिल का भुगतान किए जाने के बावजूद भी कॉल करके घोषणा की जाती है कि आपके द्वारा बिल का भुगतान नहीं किया गया


व्यवहारी यानी मोबाल कस्ट्मर रियल एस्टेट का कारोबार करता है। मेरे व्यवहारी को उक्त कारोबार में आप विपक्षी कम्पनी के उक्त कृत्य से आहत होने के कारण अपना कारोबार ना कर पाने के कारण पिछले 5 दिन में करीब 50 लाख रूपये का नुकसान उठाना पड़ा है तथा 50 लाख रूपये की मानसिक व सामाजिक क्षति हुई है। मेरे व्यवहारी के विरूद्ध आप विपक्षी कंपनी के द्वारा किये गए दुष्परचार/ दुष्कृत्य से मेरे व्यवहारी को एक करोड रूपये का आर्थिक मानसिक व सामाजिक नुकसान झेलना पड़ा है। आप विपक्षी कम्पनी ने मेरे व्यवहारी की छवि व सामाजिक प्रतिष्ठा खराब की है। 


विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा
मोबाइल कंपनियां हेरी फेरी से बाज नही आ रही है। पोस्टपैड मोबाइल कंपनियां ग्राहकों को कई तरह से लूटती है। इसी तरह पोस्टपैड मोबाइल कंपनी द्वारा बिल भुगतान के नाम पर हेरी फेरी किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। जब मोबाइल कंपनी इस हेरीफेरी से बाज ही नही आई तो परेशान होकर मोबाइल उपभोक्ता ने 1 करोड रूपये हरजाने का लीगल नोटिस भेजा है। लीगल नोटिस में चीफ एग्जुकेटिव ऑफिसर और जोनल ऑफिसर वोडाफोन इंडिया लिमिटेड को पार्टी बनाया है। यह मामला ग्रेटर नोएडा के परी चौक तुगलपुर का है। चौधरी हकीकत अली पुत्र बसीर अली मालिक/स्वामी- अली एसोसिएट रियल एस्टेट एक्सपट, जी०एफ0-34-35, चौ0 बसीर अली मार्किट, परी चौक, ग्रेटर नोएडा, जिला गौतमबुद्धनगर ने अपने वकील के मार्फत लीगल नोटिस भेजा है। लीगल नोटिस में यशपाल सिंह एडवोकेट ने कहा है कि व्यवहारी सीधा सादा कानून पसन्द सम्भान्त व्यक्ति है और रियल एस्टेट का कारोबार उपरोक्त पते पर अली एसोसिएट्स, रियल एस्टेट एक्सपर्ट के नाम से करता चला आ रहा है। मेरे व्यवहारी ने आप विपक्षीगण की कंपनी से तीन मोबाईल नं0 क्रमशः 9873192021, 9873192825 9873192084 अपने नाम से काफी अर्से पूर्व चालू कराए थे। उक्त तीनों कनेक्शन पोस्टपेड थे। लीगल नोटिस में यह भी कहा गया है कि व्यवहारी ने मो0नं0-9873192084 का बिल भुगतान दिनांक 16.07.2020 को समय 1050 पी०एम० पर पेटीएम के माध्यम से अदा किया था जिसका रेफरेन्स नं0 पेटीएम 160720105002 एम00जे00 है तथा मो०नं०- 9873192021 के बिल का भुगतान दिनांक 12.072020 को समय 1234 पी०एम० पर रेफरेन्स न0 पेटीएम 12072012335384 एक्स0एन0एक्स 6 के माध्यम से 352 रूपये अदा किया था जिसका मैसेज आप विपक्षी कम्पनी द्वारा मेरे व्यवहारी को ’’एस ऑन 2020-07-15 योर अनबिल्ड एमाउंट आरएस 0,0’’ की टिप्पणी के साथ भेजा था किन्तु आप विपक्षीगण कम्पनी द्वारा मेरे व्यवहारी के मो0नं0-9873192021 पर प्रत्येक कॉल किये जाने से पूर्व अवैधानिक रूप से घोषणा की जाती है कि आपके द्वारा मो0नं0-9873192084 बिल का भुगतान नहीं किया गया है जिसे सुन-सुनकर मेरा व्यवहारी मानसिक रूप से आहत हो रहा है। यह कि मेरे व्यवहारी द्वारा मो0नं0- 9873192021 का भुगतान दिनांक 12.07.2020 को किया जा चुका है, पूर्व में भी उक्त मो0नं0 का कोई बिल बकाया नहीं है। उसके बावजूद भी उक्त मो0नं0 पर अवैधानिक रूप से मेरे व्यवहारी को प्रत्येक कॉल करने पर अवैधानिक रूप से बिल का भुगतान न करने की घोषणा बार-बार सुनाई जाती है। मेरे व्यवहारी ने मो0नं0 9873192084 की बहुत बकाया बिल का भुगतान 12020 का पेटीएम के माध्यम से अदा किया था जबकि इस नंबर का सेवाएं लॉकडाउन से पूर्व समाप्त कर दी गई थी, इसके बावजूद भी कंपनी द्वारा भेजे गये अनचाहे बिल का भुगतान मेरे व्यवहारी द्वारा एतराज के अदा किया, किन्तु उसके बावजूद भी उक्त मो0नं0 के बकाया बिल के भुगतान का घोषणा मेरे व्यवहारी के दूसरे मो0नं0-9873192021 पर अवैधानिक रूप से प्रत्येक कॉल करने से पूर्व दिनांक 19.07.2020 तक सुनाई जाती रही। मेरे व्यवहारी को अपने उक्त मोबाईल नंबरों की बावत बिल भुगतान करने के बावजूद भी आप विपक्षी कंपनी द्वारा की जा रही घोषणा से मानसिक व शारीरिक रूप से प्रताडित किया जाता रहा है, जिस कारण मेरा व्यवहारी अपना रियल एस्टेट का कारोबार भी पिछले करीब 5 दिनों से ठीक ढंग से नहीं कर सका। यह
कि मेरे व्यवहारी ने आप विपक्षी कम्पनी के इस प्रकार के दुष्कृत्य से परेशान होकर कस्टमर केयर पर कॉल किया तो कस्टमर केयर पर कॉल रिसीवर ने मेरे व्यवहारी को करीब 15 मिनट तक उलझाये रखा कि आप हिन्दी सुनना चाहते हो तो फलाना बटन दबाएं बिल के बारे में जानकारी चाहते हो तो फलाना बटन आदि आदि बाते बताते हुए मेरे व्यवहारी का कीमती समय बर्बाद किया और अन्त में यह कहते हुए कि आपकी कॉल हमारे एक्जीक्यूटिव प्राप्त नहीं कर पा रहे हैं, लिहाजा कुछ समय बाद पुनः प्रयास करें, काट दिया। ऐसा मेरे व्यहारी ने कई बार कॉल किया एक बार बात होने पर कोई सन्तुष्टि मेरे व्यवहारी को नहीं मिली। इस प्रकार आप विपक्षी कम्पनी द्वारा मेरे व्यवहारी को ही नहीं बल्कि अपने करोडों ग्राहकों को कस्टमर केयर पर बात करने पर मानसिक रूप से प्रताडित किया जाता है। किन्तु आप विपक्षीगण द्वारा सब कुछ जानते हुए भी उपरोक्त प्रकरण में आज तक कोई उचित कदम नहीं उठाया गया है। आप विपक्षी कम्पनी द्वारा जिस प्रकार से मेरे व्यवहारी को लगातार की जा रही अवैधानिक घोषणा से प्रताडित किया जा रहा है उससे मेरे व्यवहारी को मारी मानसिक, आर्थिक व सामाजिक क्षति पहुंच रही है। चूंकि मेरा व्यवहारी रियल एस्टेट का कारोबार करता है। मेरे व्यवहारी को उक्त कारोबार में आप विपक्षी कम्पनी के उक्त कृत्य से आहत होने के कारण अपना कारोबार ना कर पाने के कारण पिछले 5 दिन में करीब 50 लाख रूपये का नुकसान उठाना पड़ा है तथा 50 लाख रूपये की मानसिक व सामाजिक क्षति हुई है। मेरे व्यवहारी के विरूद्ध आप विपक्षी कंपनी के द्वारा किए गए दुष्परचार/ दुष्कृत्य से मेरे व्यवहारी को एक करोड रूपये का आर्थिक मानसिक व सामाजिक नुकसान झेलना पड़ा है। आप विपक्षी कम्पनी ने मेरे व्यवहारी की छवि व सामाजिक प्रतिष्ठा खराब की है। आप विपक्षी का उक्त दुष्कृत्य आपराधिक व दीवानी प्रकृति का है। अतः आप विपक्षी कंपनी को बजरिए कानूनी नोटिस हिदायत दी जाती है कि आप विपक्षी कंपनी नोटिस प्राप्ति के 15 दिन के अन्दर मेरे व्यवहारी के साथ किए गए उक्त दुष्कृत्य के कारण मेरे व्यवहारी की हुई मान हानि, मानसिक, आर्थिक व सामाजिक क्षति की बात लिखित में क्षमा मांगे और मानसिक, आर्थिक व सामाजिक क्षति के रूप में एक करोड रूपये मेरे व्यवहारी को अदा कर रसीद प्राप्त करें, अन्यथा गुजरने म्याद कानूनी नोटिस मेरा व्यवहारी आप विपक्षी कम्पनी के विरूद्ध सक्षम न्यायालय में दावा करने को स्वतंत्र होगा, जिसके समस्त हर्जे खर्चे की जिम्मेदारी आप विपक्षी कंपनी की होगी।