कासना में फैक्ट्री से करोबारी आदित्य सोनी कार में सवार होकर गत 5 जुलाई को दिल्ली में कोरोना से मृत चाचा को देखने के लिए निकला था

विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा
थाना कासना कोतवाली के तहत संदिग्ध परिस्थितियों में गायब हुए कारोबारी की हत्या कर दी गई। पुलिस ने दावा किया है कारोबारी के दोस्तों ने हत्या कर शव को गंगनहर में फैंक दिया है। कासना में सेक्टर साइट-5 से युवक अपने चाचा को देखने के लिए दिल्ली के लिए निकला था। जब आदित्य सोनी घर नही लौटा तो पुलिस को सूचना दी गईे। श्रीमती नीलू सोनी पत्नी स्व0 श्री सूर्यकान्त सोनी निवासी जे.1977 गौर अतुल्यम ओमीक्रोन- 1 ग्रेटर नोएडा, थाना दादरी द्वारा शिकायत दी गई कि उनका पुत्र आदित्य सोनी उम्र 22 वर्ष गत दिनाक 05-07-2020 की रात करीब 08.00 बजे अपनी फैक्ट्री -2/54 साइट 5 थाना कासना क्षेत्र से अपने चाचा को एस्कॉर्ट हॉस्पिटल ओखला दिल्ली मे देखने के लिए निकाला था। आदित्य सोनी के चाचा की मृत्यु कोविड- 19 की बजह से हो गई थी। फैक्ट्री से आदित्य सोनी अपनी कार शेवरलेट रंग गोल्डन सिलवर से गया था। थाना प्रभारी प्रभात दीक्षित ने शिकायत के आधार पर दिनांक 6 जुलाई को ही गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कर कारोबारी की तलाश शुरू कर दी। डीसीपी जोन थर्ड राजेश कुमार सिंह ने बताया कि इस मामले में नया मोड उस समय आया जब आज दिनांक 13 जून 2020 को श्रीमती नीलू सोनी के द्वारा थाना कासना पर इस आशय का प्रार्थना पत्र दिया गया कि गुमशुदा आदित्य सोनी, दोस्त देव भाटी और पंकज भाटी और सनी के साथ देखा गया था और उन्होंने ही मेरे पुत्र आदित्य सोनी की हत्या करके शव को कहीं छुपा दिया हैं। साथ ही इन दोस्तों ने आदित्य की गाड़ी शेवरलेट सिल्वर कलर, सोने की चैन अंगूठी, सोने का कड़ा ,राडो घड़ी, मोबाइल फोन को लूट लिया है। इस सूचना पर थाना कासना पर अभियोग 302  201, 394 आईपीसी के तहत अभियोग पंजीकृत किया गया दो अभियुक्त देव भाटी पंकज भाटी जो कि आपस में सगे भाई हैं को गिरफ्तार किया गया। इन अभियुक्तों के कब्जे से मृतक आदित्य सोनी की गाड़ी, ज्वेलरी, मोबाइल फोन की बरामदगी की गई। डीसीपी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि शेष अभियुक्त सनी की गिरफ्तारी के लिए टीम संभावित स्थानों पर दबिश दे रहे हैं। थाना बलदेव अंतर्गत एक शव नाहर में बरामद हुआ है जिसकी पहचान परिजनों को पुलिस टीम के साथ भेजकर कराई गई है। परिजनों ने शव की पहचान मृतक आदित्य सोनी के शव के रूप में की है। डीसीपी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि आदित्य सोनी और अभियुक्त देव भाटी और उसका भाई पंकज गौर अतुल्यम सोसायटी के ब्लॉक जे में अर्थात एक ही टावर में रहते भी थे और आपस में दोस्त भी थे। अभियुक्तों द्वारा बताया गया कि आपस में मजाक करने पर कहासुनी हुई, फिर आदित्य के द्वारा गाली गलौज करने पर उसके साथ मारपीट की गई। पहले डंडे से मारा और फिर गला दबाकर के हत्या कर दी और शव को ले जाकर मंडीश्यामनगर से पहले जमालपुर के पास नाहर में फैंक दिया गया। अभियुक्तों ने अपनी गाड़ी ब्रेजा कार से शव को ठिकाने लगाया था वह गाड़ी भी बरामद कर ली गई है।