आरोपः-कर्मचारियों ने वेतन की मांग की तो कॉलेज प्रशासन के लोगों ने बाउंसर बुलाकर गलगोटिया कॉलेज के बाहर खदेड़ दिया 


विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा
ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क स्थित गलगोटिया कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी कॉलेज के लैब टेक्नीशियन एवं अन्य कर्मचारियों का 4 महीना का वेतन एवं नौकरी से निकालने के विरोध में करप्शन फ्री इंडिया संगठन के कार्यकर्ताओं ने संगठन के वरिष्ठ सदस्य बलराज हूण के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन कर जिलाधिकारी को संबोधित ज्ञापन एडीएम प्रशासन दिवाकर सिंह को सौंप कर कार्यवाही किए जाने की मांग की है। करप्शन फ्री इंडिया संगठन के संस्थापक चौधरी प्रवीण भारतीय ने बताया कि ग्रेटर नोएडा के नॉलेज पार्क स्थित गलगोटिया कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी कॉलेज के प्रबंधक के द्वारा लैब टेक्नीशियनओ एवं अन्य कर्मचारियों का 4 महीने का वेतन नहीं दिया गया है। जब कॉलेज कर्मचारियों ने वेतन की मांग की तो कॉलेज प्रशासन के लोगों ने बाउंसर बुलाकर कॉलेज के बाहर खदेड़ दिया एवं बदतमीजी की। चौधरी प्रवीण भारतीय ने कहा कि कर्मचारियों का 4 महीने यानी कि मार्च.अप्रैल मई.जून का वेतन नहीं मिला है जबकि कॉलेज के द्वारा विद्यार्थियों से 2019- 2020 वर्ष की पूर्ण फीस ले ली गई है। अब लैब टेक्नीशियनों को कॉलेज प्रबंधक के द्वारा 22 मई 2020 से सभी कर्मचारियों को अपनी अपनी ड्यूटी पर बुलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सभी स्थाई कर्मचारियों के द्वारा लगभग 10 20 वर्ष से कॉलेज में अपनी सेवाएं दी जा रही हैं। करप्शन फ्री इंडिया संगठन के प्रदेश उपाध्यक्ष देवेंद्र यादव ने कहा कि कॉलेज के छात्रावास में कोविड.19 के लिए कोरनटाईन सेंटर बना हुआ है। सभी कर्मचारियों को कोरोना संक्रमण का खतरा भी बना हुआ था, जबकि जिला प्रशासन एवं प्रदेश सरकार केंद्र सरकार के आदेश अनुसार कोरनटाईन सेंटर के आस पास कोई भी गतिविधि करने के लिए मनाई की गई थी। उन्होंने कहा कि इस प्रकरण की शिकायत पीड़ित कर्मचारियों ने यूपी सरकार की पुलिस हेल्पलाइन नंबर 112 पर भी सूचना देकर की है एवं नॉलेज पार्क थाने में जाकर लिखित में कॉलेज प्रबंधक के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है, लेकिन अभी तक ना तो कोई कार्यवाही हुई है ना ही कर्मचारियों का वेतन मिला है। ऊपर से कॉलेज प्रबंधक के आदेश पर एचआर निदेशक शिल्पी चंद्रा ने सभी कर्मचारियों के बर्खास्त लेटर उनके ईमेल आईडी पर भेज दिए है। इस महामारी के दौरान लालन पालन एवं रोटी के लाले पड़ रहे हैं ऐसी स्थिति में परिवार के लोगों के सामने आर्थिक संकट खड़ा हुआ है। इस दौरान अरुण नागर, रिंकू बैसला, लोकेश राठी, वकील कपासिया, भूपेंद्र यादव, नीरज गुर्जर, अरुणा शर्मा, प्रमोद कुमार, अवनीश कुमार भाटी, दुष्यंत कुमार, इमरान खान, राज मोहम्मद, चरण गर्ग, पवन भाटी आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण उपस्थित रहे।