करप्शन फ्री इंडिया संगठन ने मुख्यमंत्री को संबोधित पत्र एडीएम प्रशासन दिवाकर सिंह को सौंप कर सीबीआई से जांच कराने की मांग की

विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा
जनपद बुलंदशहर के वरिष्ठ पत्रकार एवं वरिष्ठ समाजसेवी हरि अंगिरा के ऊपर बुलंदशहर प्रशासन के द्वारा फर्जी मुकदमा दर्ज कराने पर करप्शन फ्री इंडिया संगठन के कार्यकर्ताओं ने विरोध दर्ज करते हुए मुख्यमंत्री को संबोधित पत्र एडीएम प्रशासन दिवाकर सिंह को सौंप कर सीबीआई से जांच कराने की मांग की। यह विरोध प्रदर्शन संगठन के कोर कमेटी के सदस्य संजय भैया के नेतृत्व में किया गया। करप्शन फ्री इंडिया संगठन के संस्थापक चैधरी प्रवीण भारतीय ने बताया कि बुलंदशहर प्रशासन द्वारा शासन से कोरोना जंग से लड़ने जरूरतमंदों गरीब प्रवासी मजदूरों की सहायतार्थ आए 20 लाख करोड रुपयों की चर्चा से उत्पीड़ित बुलंदशहर प्रशासन द्वारा वरिष्ठ पत्रकार प्रमुख समाजसेवी हरि अंगिरा के विरुद्ध ईष्र्यावंश एक षड्यंत्र के तहत फर्जी मुकदमा दायर करवा के बदले की भावना वाली मानसिकता का परिचय दिया है, जो कि अति निन्दनीय है। चैधरी प्रवीण भारतीय ने कहा कि प्रशासन ने ऐसा करके लोकतंत्र के चतुर्थ स्तंभ पत्रकारिता पर कुठाराघात करने का कुत्सित प्रयास किया गया है। करप्शन फ्री इंडिया संगठन एवं क्षेत्र के सभी सामाजिक कार्यकर्ता बुलंदशहर प्रशासन की तीव्र भत्सर्ना करते हैं। संगठन के संस्थापक सदस्य आलोक नागर ने कहा कि मुख्यमंत्री से इस प्रकरण में तत्काल सीबीआई से उक्त प्रकरण की निष्पक्ष जांच कराए जाने की मांग करते हैं। यदि शीघ्र निष्पक्ष जांच कराकर निर्दोष पाए जाने पर पत्रकार को उक्त फर्जी मुकदमे से बरी नहीं किया गया तथा दोषी पाए जाने वालो को दंडित नहीं किया गया तो करप्शन फ्री इंडिया संगठन एवं क्षेत्र के अन्य समाजसेवी लोकतंत्र के चतुर्थ स्तंभ स्वतंत्रता की अभिव्यक्ति की रक्षा के लिए अन्य कदम उठाने को मजबूर होना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि सीबीआई जांच कर दोषी पाए जाने पर बुलंदशहर प्रशासन के अधिकारियों पर कठोर से कठोर कार्रवाई की जाए। इस दौरान बलराज हूंण, नीरज भाटी एडवोकेट, पवन फागना, रोहित भाटी आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण उपस्थित रहे।