दिमाग पर नियंत्रण रखना चाहिएं वरना दिमाग हम पर काबू कर लेगाः दत्ता


आयुष विषयों पर वेबिनार शृंखला का आयोजन शुरू किया है, जिसकी नौवीं कड़ी में दुनिया के 26 देशों के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया
विजन लाइव/दिल्ली
कोरोना महामारी और देशबंदी की इस मुश्किल घड़ी में आयुर्योग एक्सपो. आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा का महाकुंभ ने आयुष विषयों पर वेबिनार शृंखला का आयोजन शुरू किया है, जिसकी नौवीं कड़ी में दुनिया के 26 देशों के प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। इस वेबिनार का विषय था. महासंक्रमण के दौर में अपने दिमाग का ख्याल रखें। वेबिनार की प्रमुख वक्ता डा0 इरा दत्ता ने कहा कि हमें अपने दिमाग पर नियंत्रण रखना चाहिएं वरना दिमाग हम पर काबू कर लेगा। वह फोर्टिस अस्पताल में कंसल्टेंट न्यूरोसाइकाइटरिस्ट हैं और कोलकाता में माइंड वेलनेस की संस्थापक हैं। उन्होंने मन और मस्तिष्क के अंतर और संबंधों पर भी प्रकाश डाला और मानसिक स्वच्छता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि दिमाग के अंदर पांच रसायन होते हैं. सेरोटोनिन, डोपामीन, ग्लूटामेट, नोरपाइनफेरिन और जीएबीए जो प्रभावी भूमिका निभाते हैं। उन्होंने नकारात्मकता से सकारात्मकता की तरफ जाने के पांच सूत्र बताएं। इनमें स्वयं से बातें करना, अपने विश्वास पर काम करना, अपनी पक्षता और इनकार को जानना, आंतरिक आलोचना पर काम करना और संतुष्टि को जीवन में लाना। दूसरे वक्ता म्यूनिख जर्मनी में डॉक्टर और जर्मनी आयुर्वेद चिकित्सक संघ के अध्यक्ष डा0 उलरिच बॉहॉफर ने मानसिक स्वास्थ्य, संतुलन और शक्ति पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार इस सदी की सबसे बड़ी स्वास्थ्य समस्या तनाव ही है। तीसरे वक्ता डा0 जियोवनी क्रिस्चोने ने तनाव के प्रकार और उनके आयुर्वेदीय उपचार पर प्रकाश डाला। वह सिसली, इटली में आयुर्वेद और योग के प्रशिक्षक हैं। इसके अलावा ब्लिस आयुर्वेद प्राइवेट लिमिटेड के प्रबंध निदेशक और आयुर्योग एक्सपो की सलाहकार समिति के सदस्य डा0 नितिन अग्रवाल ने तनाव, भय और चिंता के आयुर्वेदीय पक्ष पर चर्चा की। उन्होंने इन स्थितियों में होने वाले व्यावहारिक बदलावों को भी सामने रखा।  गौरतलब है कि आयुर्योग एक्सपो को 2019 में गुरुजी डा0 एच0 आर0 नागेंद्र के मार्गदर्शन में इंडिया एक्सपोजिशन मार्ट के चेयरमैन और एक्सपोर्ट प्रमोशन कौंसिल फॉर हेंडीक्राफ्ट्स के डायरेक्टर जनरल राकेश कुमार ने पूरा किया।