जिले में सिर्फ 17 मदरसे रजिस्टर्ड है, 17 रजिस्टर्ड मदरसों में से सिर्फ 15 ही चल रहे हैं। 17 मदरसों के अलावा जितने भी चल रहे हैं सब फर्जी है इन्हें तत्काल बंद कराया जाना चाहिए  : चैनपाल प्रधान
मौहम्मद इल्यास- "दनकौरी" / ग्रेटर नोएडा
गौतमबुद्धनगर में चल रहे फर्जी मदरसों को बंद किया जाना चाहिए। जिले में सिर्फ 17 मदरसे रजिस्टर्ड है, 17 रजिस्टर्ड मदरसों में से सिर्फ 15 ही चल रहे हैं। 17 मदरसों के अलावा जितने भी चल रहे हैं सब फर्जी है इन्हें तत्काल बंद कराया जाना चाहिए। यह मांग हिंदू युवा वाहिनी के पूर्व जिलाध्यक्ष चैनपाल प्रधान ने  जिलाधिकारी से की है। उन्होंने बताया कि गौतमबुद्धनगर जिले के विभिन्न स्थानों पर सरकार द्वारा रजिस्टर्ड सिर्फ 17 मदरसे हैं इनमें से 15 संचालित है। किंतु देखने में आया है कि दर्जनों की संख्या में ऐसे मदरसे संचालित हैं जो कि रजिस्टर्ड नहीं है। सरकार द्वारा रजिस्टर्ड मदरसों में नियमों के तहत शिक्षा प्रदान किए जाने का प्रावधान है साथ ही सरकार की ओर से मिलने वाली मदद भी होती है। उन्होंने कहा की आधुनिक युग में दीनी तालीम के साथ दुनियावी तालीम भी निहायत जरूरी है। मदरसों में उर्दू अरबी के साथ हिंदी अंग्रेजी गणित विज्ञान और कंप्यूटर किस शिक्षा भी दी जानी चाहिए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार की यह एक प्रमुख योजना है इससे साक्षरता को निरंतर बढ़ावा मिलेगा। हिंदू युवा वाहिनी के पूर्व जिला अध्यक्ष चैनपाल प्रधान ने मदरसा संचालकों से अपील की है कि सभी मदरसा संचालक मदरसों को रजिस्टर्ड जरूर करवाएं ऐसा किए जाने से उक्त मदरसे सरकार की योजना और मदद के दायरे में आ जाएंगे। साथ ही उन्होंने  जिलाधिकारी से मांग की है जिले में ऐसे सभी मदरसे जो रजिस्टर्ड नहीं है, उन्हें फर्जी मानते हुए तत्काल बंद कराया जाना चाहिए। गौतमबुद्धनगर जनपद में फर्जी मदरसों का संचालन किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।