>

शैक्षिक भागीदारी को बढ़ावा देने के लिए क्वींसलैंड विश्वविद्यालय एंव शारदा विश्वविद्यालय के मध्य समझौता पत्र हस्ताक्षर

शारदा विश्वविद्यालय के साथ यह साझेदारी न केवल भारत में बलिक विदेशों में भी कौशल को बढ़ावा देगी और प्रतिस्पर्धी विकास भी होगा- पी के गुप्ता चांसलर शारदा विश्वविद्यालय

विजन लाइव/ ग्रेटर नोएडा 

शैक्षिक भागीदारी को बढ़ावा देने के लिए क्वींसलैंड विश्वविद्यालय एंव शारदा विश्वविद्यालय के मध्य समझौता पत्र हस्ताक्षर किया गया। समझौता पत्र हस्ताक्षर समारोह के तहत क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के ग्लोबल इंगेजमेंट विभाग के डिप्टी वाइस चांसलर प्रोफेसर रोंग्यू लि क्वींसलैंड विश्वविद्यालय की स्ट्रेटेजी एंव पार्टनरशिप विभाग की प्रबंधक थोआ हैरिंग, क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के वरिष्ठ देश सलाहकार ध्रुबा ज्योति मलखंडी ने शारदा विवि का दौरा किया। यह एमओयू व्यापार, आर्थिक एंव वाणिज्य के पाठ्यक्रमों के लिए किया गया जिसके तहत शारदा के छात्रों को कोर्स के दौरान प्रथम वर्ष के बाद ऑस्ट्रेलिया स्थित क्वींसलैंड विश्वविद्यालय जाने का मौका मिलेगा। इसके अलावा दोनो विश्वविद्यालय आपसे में वेबिनार, संगोष्ठी, कार्यशाला आदि के माध्य से एक दुसरे के साथ ज्ञान संज्ञा कर सकेगे। एमओयू हस्ताक्षर की बधाई देते हुए शारदा विश्वविद्यालय के चांसलर पी के गुप्ता ने कहा कि यह समझौता पत्र क्वींसलैंड विश्वविद्यालय एंव शारदा विश्वविद्यालय के मध्य संबंधो को मजबूती प्रदान  करते हुए छात्रों और संस्थानों के लिए लाभप्रद होगा। यह साझेदारी दोनो संस्थानों के लिए नए अवसर प्रदान करेगी जोकि राष्ट्र निर्माण में योगदान देगी। इस सहयोग से शिक्षक ज्ञान के साथ साथ एक दूसरे की संस्कृति के बारे में भी जान सकेगे। शारदा के साथ यह साझेदारी न केवल भारत में बलिक विदेशों में भी कौशल को बढ़ावा देगी और प्रतिस्पर्धी विकास भी होगा। 

>

क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के ग्लोबल इंगेजमेंट विभाग के डिप्टी वाइस चांसलर प्रोफेसर रोंग्यू लि ने कहा कि यह एमओयू पारस्परिक रूप से लाभकारी संबंध की शुरूआत है। हम शारदा के प्रबंधन, संकाय एंव छात्रों का अपने कैपस में आने के लिए आमंत्रित करते है। आज के समय में जरूरी है की छात्रों को वैश्विक अनावरण मिलना चाहिए तभी वह आने वाले समय में ग्लोबल लीडर बन सकेगे। प्रत्येक समझौता ज्ञापन लक्ष्य उन्मुख होना चाहिए और इसलिए इस सहयोग से सर्वोत्तम परिणाम प्राप्त करने के लिए नई रणनीतियों को तैयार करने की आवश्यकता है। समझौता ज्ञापन समारोह में शारदा विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर डा सिबाराम खारा, शारदा विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी के डीन डा परमानंद, शारदा विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार विवेक गुप्ता, शारदा ग्लोबल अकादमिक एलाइंसेस के निर्देशक डॉ राजू वोलेटी सहित बड़ी संख्या में शोधकर्ताओं संस्थानों के प्रमुख, संकाय और शारदा के कर्मचारियों ने हिस्सा लिया।इस मौके पर उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल के सदस्यो ने शारदा के छात्रों से भी बातचीत की और पाठ्यक्रम की विस्तृत जानकारी ली।