>

 -युवाओं को इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स एंड अप्‍लाइसेस के क्षेत्र में दी जाएगी स्किल ट्रेनिंगअकादमिक क्षेत्र को भी मिलेगा एक प्‍लेटफॉर्म

 विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

  कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्रालय के अधीन कार्यरत इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर स्किल्‍स काउंसिल ऑफ इंडिया और एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के साथ मिलकर सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंस (सीओई) की स्‍थापित किया जाएगा। यहां युवाओं को विभिन्‍न जॉब रोल में मल्‍टीस्किल ट्रेनिंग दी जाएगी। इसके लिए ईएससीआई की चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर डॉ. अभिलाषा गौड़ और एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के ग्राहक सेवा (निदेशक)श्री ताए जिन चांग ने एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए है। सीओई की स्‍थापना राष्ट्रीय लघु उद्योग निगम (एनएसआईसी) ओखला में किया जाएगा। इस मौके पर कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के सचिव राजेश अग्रवालएनएसडीसी के चीफ फाइनेंस ऑफिसर प्रकाश शर्माएनएसआईसी के चेयरमैन  एमडी पी उदयकुमारएलजी स्किल अकाद‍मी के डीजीएम अतुल विजयवर्गीय और एनएसआईसी के मैनेजर ओपी सिंह मौजूद थे।.सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंस स्‍थापित करने उद्देश्य उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक्स और उपकरणों के क्षेत्र में युवाओं को प्रशिक्षण देनाइलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्रों में रिसर्च और क्षमता निर्माण करना है। यह उद्योग और अकादमिक क्षेत्र को एक प्‍लेटफॉर्म भी देगा। इसके अलावाइस सेंटर का लाभ इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स क्षेत्र में डिग्रीडिप्‍लोमा करने वाले कौशल प्राप्‍त युवा अप्रेंटिसशिप और इंटर्नशिप के लिए उठा सकेंगे। इस अवसर पर बोलते हुएश्री राजेश अग्रवालसचिवएमएसडीई ने कहा "यह एमओयू स्किलिंगअपस्किलिंग और रीस्किलिंग के जरिये इंडस्‍ट्री जगत की जरूरत को पूरा करेगा। इस तरह के सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंस स्‍थापित होने से रिसर्च और क्षमता निर्माण को भी बढ़ावा मिलेगा।

>
 देश में तकनीकी और औद्योगिक परिवर्तन बहुत तेजी से हो रहे हैंयह एमओयू उसमें सहायक की भूमिका निभाएगा।  ईएसएससीआई के चेयरमैन श्री अमृत मनवानी ने कहा:देश अब सर्विस से मैन्‍यूफैक्‍चरिंग हब की ओर बढ़ रहा है। इसके लिए जरूरी है कि युवाओं को स्किल ट्रेनिंग देकर उन्‍हें सशक्‍त बनाया जाए। इससे इंडस्‍ट्री को भी फायदा होगा। नई तकनीकों का अधिक प्रभावी ढंग से उपयोग करने के लिए कार्यबल को प्रशिक्षित करना महत्वपूर्ण है। ईएसएससीआई नई तकनीक में युवाओं को प्रशिक्षित करने की दिशा में काम कर रहा है। इस तरह के सेंटर ऑफ एक्‍सीलेंस के जरिये युवाओं को नई तकनीक में प्रशिक्षित करने और रिसर्च को बढ़ावा मिलेगा। डॉ. अभिलाषा गौड़चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसरईएसएससीआई ने कहा कि इंडस्‍ट्री और अकादमिक जगत दोनों मिलकर ही देश को कौशल की राजधानी बना सकते है। हम लोगों ने स्किल क्‍वालिफिकेशन फ्रेमवर्क को रिवाइज किए है और 29 नए स्किल कोर्स जोड़े है। जिसका फायदा इंडस्‍ट्री और युवा दोनों को होगा। मुझे विश्‍वास है कि एलजी के साथ हुए इस साझेदारी से स्किल इकोसिस्‍टम को फायदा होगा। एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड के ग्राहक सेवा (निदेशक) के प्रमुख श्री ताए जिन चांग ने कहा:एलजी अपने आधुनिक तकनीक और विशेषज्ञता के साथ युवाओं को प्रशिक्षित कर उन्‍हें इंडस्‍ट्री के लिए कुशल बनाएगा।