>

सूरजपुर में चल रहे प्राचीनकालीन ऐतिहासिक बाराही मेला-2022 का 13 वां दिन--15000 रूपये की कुश्ती आकाश नागर जमालपुर ने संदीप जुनैदपुर को चित कर जीत ली

 


>

 

बाराही मेला-2022 के अंतिम समापन के मौके पर स्व0 जयपाल भगतजी की स्मृति में 101 से लेकर 31000 तक हुई इनामी कुश्तियां

 

>
>

सनोज मिलक, डिपंल चौधरी, रितु, कृष्ण खटाना, राज लेहिया, नीतू भाटी बेगराज नागर गुनपुरा और पवन डागर आदि रागनी कलाकारों ने रागनियों की खास प्रस्तुतियां दी

 


बेगराज नागर गुनपुरा ने- भारत की मां की याद करो, वीरों की कुर्बानी, लिखी किताबों के पन्नो में वीरों की अमर कहानीं--- देशभक्ति से ओतप्रोत रागनी प्रस्तुत की पूरा प्रांगण तालियों की गडगडाहट से गूंज उठा

 

>


>

शिव मंदिर सेवा समिति ने बाराही मेला-2022 के अंतिम समापन के मौके पर साफ सफाई कमर्चारी, सूरजपुर पुलिस चौकी प्रभारी महेश चौधरी, फायर बिग्रेड पुलिस सब इंस्पेक्टर भीम सिंह त्यागीहैल्थ डेस्क के  डा0 रवि प्रताप सिंह, लोक कला सांस्कृतिक कलाकारों, आर्य सांउड सर्विस से योगेंद्र आर्य, डीजे मूवी डायरेक्टर दीपक नागर जसाना, मौहम्मद इल्यास-’’दनकौरी’’ पत्रकार, शिव मंदिर सेवा समिति के कर्मठ कार्यकर्ता रवि भाटी, समाजसेवी राजवीर भगतजी, लोक संस्कृति कला के कलाकारों तथा सनोज मिलक एंड पार्टी के कलाकारों को माल्यापर्ण और स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया

मौहम्मद इल्यास-’’दनकौरी’’/सूरजपुर

...............................................................................सूरजपुर में प्राचीनकालीन ऐतिहासिक बाराही मेला-2022 के 13 वें दिन 26 अप्रैल, मंगलवार को दोपहर 2.30 बजे से स्व0 जयपाल भगतजी की स्मृति में दंगल का कार्यक्रम संपन्न हुआ। जब कि रात्रिकालीन कार्यक्रमों में सनोज मिलक, डिपंल चौधरी, रितु, कृष्ण खटाना, राज लेहिया, नीतू भाटी बेगराज नागर गुनपुरा और पवन डागर आदि रागनी कलाकारों ने रागनियों की खास प्रस्तुतियां दीं। दंगल कार्यक्रम में 101 से लेकर 31000 रूपये तक की कई इनामी कुश्तियां हुईं। इनमें 15000 रूपये की कुश्ती आकाश नागर जमालपुर और संदीप जुनैदपुर के बीच लडी गई, इसमे आकाश जमालपुर ने यह कुश्ती जीत ली। जब कि 16000 की कुश्ती जब निर्णय तक नही पहुंच पाई तो निणार्यक समिति ने निर्णय दिया कि जो मल्ल अखाडे के बीच में रह कर लडेगा उसे कुश्ती का 75 प्रतिशत पारितोषिक और दूसरे पहलवान को सिर्फ 25 प्रतिशत पारितोषिक दिया जाएगा। इस प्रकार जोंटी जमालपुर गुरू हनुमान अखाडा को कुश्ती का 75 प्रतिशत पारितोषिक विजेता और दूसरे पहलवान मोहित पलवल गुरूचरन सिंह अखाडा को सिर्फ 25 प्रतिशत पारितोषिक उपविजेता घोषित किया गया। दंगल में 11000-11000 रूपये की दो कुश्तिया लडी गई, इनमें सचिन बद्री अखाडा और अनिल छत्रसाल अखाडा और बॉबी बहलोलपुर कालू अखाडा व जतिन जसराम अखाडा के बीच लडी, यह दोनों की कुश्ती ही बराबरी पर छूटी। 5100-5100 रूपये की कुश्तियों में गोविंद पलवल ने अनीश खेडा को हराया जब कि राहिल ने बद्री को हरा कर जीत दर्ज की।




>


3100 रूपयों की कुश्तियों में दानिश और अजय के बीच बराबरी पर छूटी। वहीं 2100 रूपये की कुश्तियों में सौरभ रोशनपुर और अंकित के बीच लडी जिसमें अंकित को विजयी घोषित किया गया। वहीं दूसरी 2100 रूपये की कुश्ती चेतन पलवल और सचिन जमालपुर के बीच बराबर पर छूंटी। महिला पहलवानों में 1100-1100 की कुश्तियां सविता बडौत और स्वति  छायंसा और आकांक्षा सूरजपुर व खुशी मथुरापुर के बीच बराबरी पर छूंटी। 551 रूपये की कुश्ती वंशिका दिल्ली ने डॉली दिल्ली को हरा कर जीत ली। वहीं 501 रूपये की कुश्तियों में साक्षी नागर नोएडा से सुहानी भाटी जमालपुर ने, हिमानी मलकपुर से नेहा नागर जमालपुर ने और वंशिका दिल्ली से स्वाति छांयसा ने जीत ली। इसके अलावा दंगल में 50,101,201,251 रूपये की अनकों की कुश्तियां लडी गईं। शिव मंदिर सेवा समिति के अध्यक्ष चौधरी धर्मपाल भाटी, महामंत्री ओमवीर बैंसला, स्व0 जयपाल भगतजी के पुत्रों में श्रीचंद भाटी, सतवीर भाटी, राजवीर भगतजी, भोपाल ठेकेदार, मूलचंद शर्मा, धर्मवीर भाटी, बिजेंद्र सिंह ठेकेदार आदि अतिथिगणों ने विजेता पहलवानों को पुरस्कृत किया। मल्लशाला में शिव मंदिर सेवा समिति के अध्यक्ष चौधरी धर्मपाल प्रधान, महासचिव ओमवीर बैंसला, कोषाध्यक्ष लक्ष्मण ंसिंघल और सह सचिव विनोद सिकंद्राबादी तथा विनोद कौंडली रैफरी तथा निर्णायक मंडल की भूमिका में रहें। जब कि रात्रिकालीन कार्यक्रमों में सनोज मिलक, डिपंल चौधरी, रितु, कृष्ण खटाना, राज लेहिया, नीतू भाटी बेगराज नागर गुनपुरा और पवन डागर आदि रागनी कलाकारों ने रागनियों की खास प्रस्तुतियां दीं। ऋतु चौधरी ने भक्त पूरणमल के किस्से से- मै जो कहती थी रंगमहल में--- रागनी प्रस्तुत की। बेगराज नागर गुनपुरा ने- भारत मां की याद करो, वीरों की कुर्बानी, लिखी किताबों के पन्नो में वीरों की अमर कहानीं--- देशभक्ति से ओतप्रोत रागनी प्रस्तुत की तो पूरा प्रांगण तालियों की गडगडाहट से गूंज उठा। पवन डागर पलवल ने जीवनदान न मिल पैसा--- उपदेश के माध्यम पूरा प्रंसग प्रस्तुत किया। सनोज मिलक और राजलोहिया आदि रागनी कलाकारों ने एक से बढ कर एक रागनियों की प्रस्तुति देते हुए जमकर वाहवाही लूटी। डिपंल चौधरी ने नृत्य प्रस्तुत करते हुए जमकर धमाल मचाया। 





>


उधर शिव मंदिर सेवा समिति ने बाराही मेला-2022 के अंतिम समापन के मौके पर साफ सफाई कमर्चारी, सूरजपुर पुलिस चौकी प्रभारी महेश चौधरी, फायर बिग्रेड पुलिस सब इंस्पेक्टर भीम सिंह त्यागी और उनकी टीम, हैल्थ डेस्क के  डा0 रवि प्रताप सिंह, लोक कला सांस्कृतिक मंच पर प्रस्तुति देने वाले कलाकारों में राजबाल एंड पार्टी के कलाकार, आर्य सांउड सर्विस से योगेंद्र आर्य, डीजे मूवी डायरेक्टर दीपक नागर जसाना, मौहम्मद इल्यास-’’दनकौरी’’ पत्रकार, शिव मंदिर सेवा समिति के कर्मठ कार्यकर्ता रवि भाटी, समाजसेवी राजवीर भगतजी, लोक संस्कृति कला के कलाकारों तथा सनोज मिलक एंड पार्टी के कलाकारों को माल्यापर्ण और स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। इस तरह 14 अप्रैल-2022 से शुरू हुआ प्राचीनकालीन ऐतिहासिक बाराही मेला-2022 मंगलवार 26 अप्रैल-2002 को दंगल कार्यक्रम तथा रात्रिकालीन रागनी कार्यक्रमों के साथ संपन्न हो गया। इस मौके पर धर्मपाल भाटी, ओमवीर बैंसला, मूलचंद शर्मा, लक्ष्मण सिंघल और श्रीचंद भाटी, राजवीर भगतजी, टेकचंद प्रधान,बिजेंद्र ठेकेदार, रवि भाटी, गौरव नागर, रूपेश चौधरी, विनोद पंडित तेल वाले, विनोद सिकंद्राबादी, विनोद कौंडली, भीम खारी, डा0 सुनील देवधर, जगदीश भाटी एडवोकेट, भीम खारी, लीलू भगतजी, राजवीर शर्मा, अनिल कपसिया, राजकुमार नागर, सतपाल शर्मा एडवोकेट, हरिकिशन, सतपाल ठेकेदार, हरि शर्मा, महाराज सिंह उर्फ पप्पू, राजवीर शर्मा, राजपाल भडाना, रघुवीर जेसबी वाले, सुभाष शर्मा जिंस वाले, आदि मेला समिति पदाधिकारी और कार्यकर्तागण उपस्थित रहे।