उत्तर प्रदेश के सियासी इतिहास में पहली बार जब कोई मुख्यमंत्री सत्ता में पांच साल रहने के बाद दूसरी बार सीएम बनने जा रहे हैं. यह सियासी करिश्मा योगी आदित्यनाथ के नाम पर दर्ज होने जा रहा है.


उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के तौर पर दूसरी बार योगी आदित्यनाथ आज शपथ ले ली है. केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक ने डिप्टी सीएम पद के तौर पर शपथ ली. सीएम और डिप्टी सीएम सहित योगी कैबिनेट में 53 दिग्गज हैं.

डिप्टी सीएम- केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक 

कैबिनेट मंत्री- सूर्य प्रताप शाही, सुरेश कुमार खन्ना, स्वतंत्र देव सिंह, बेबी रानी मौर्य, लक्ष्मी नारायण चौधरी, जयवीर सिंह, धर्मपाल सिंह, नंद गोपाल गुप्ता नंदी, भूपेंद्र सिंह चौधरी, अनिल राजभर, जितिन प्रसाद, राकेश सचान, अरविंद कुमार शर्मा, योगेंद्र उपाध्याय, आशीष पटेल, संजय निषाद 

राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार)- नितिन अग्रवाल, कपिलदेव अग्रवाल, रवीन्द्र जायसवाल, संदीप सिंह, गुलाब देवी, गिरीश चंद्र यादव, धर्मवीर प्रजापति, असीम अरुण, जेपीएस राठौर, दयाशंकर सिंह, नरेंद्र कश्यप, दिनेश प्रताप सिंह, अरुण कुमार सक्सेना, दयाशंकर मिश्र दयालु 

राज्य मंत्री- मयंकेश्वर सिंह, दिनेश खटिक, संजीव गौड़, बलदेव सिंह ओलख, अजीत पाल, जसवंत सैनी, रामकेश निषाद, मनोहर लाल मन्नू कोरी, संजय गंगवार, बृजेश सिंह, केपी मलिक, सुरेश राही, सोमेंद्र तोमर, अनूप प्रधान, प्रतिभा शुक्ला, राकेश राठौर, रजनी तिवारी, सतीश शर्मा, दानिश आजाद अंसारी, विजय लक्ष्मी गौतम


उत्तर प्रदेश के सियासी इतिहास में पहली बार जब कोई मुख्यमंत्री सत्ता में पांच साल रहने के बाद दूसरी बार सीएम बने हैं. यह सियासी करिश्मा योगी आदित्यनाथ के नाम पर दर्ज हो गया है. इतना ही नहीं 37 साल के बाद सत्ताधारी पार्टी की दोबारा से वापसी हो पाई है.योगी आदित्यनाथ के शपथ ग्रहण समारोह को भव्य तरीके से किया गया. शपथ ग्रहण के मंच पर कुल 70 कुर्सियां लगाई गई थी. इकाना स्टेडियम के शपथ ग्रहण समारोह के मंच पर 70 में से 48 कुर्सियां अलग लगी थी. बाकी कुर्सियां विशिष्ट मेहमानों के लिए आगे थी. 22 कुर्सियां स्टेज की प्रथम पंक्ति में लगी थीं.