भाजपा का दादरी विधानसभा क्षेत्र प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन आईआईएफटी कॉलेज में ग्रेटर नोएडा में संपन्न

 



 

प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन में उत्तर प्रदेश प्रभारी व पूर्व केंद्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह ने योगी की तारीफ करते हुए सरकार की उपलब्धियां गिनाईं

 



विजन लाइव/गौतमबुद्धनगर

दादरी विधानसभा आईआईएफटी कॉलेज में आयोजित प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन को उत्तर प्रदेश प्रभारी व पूर्व केंद्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह ने संबोधित किया। उत्तर प्रदेश प्रभारी व पूर्व केंद्रीय मंत्री राधा मोहन सिंह ने प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि देश का सबसे बड़ा प्रदेश, उत्तर प्रदेश लंबे समय तक भ्रष्टाचार, माफिया, आतंक तुष्टिकरण आदि अनेक प्रकार के समस्याओं से ग्रस्त था। पूर्व की सरकारों ने उत्तर प्रदेश के विकास पर ध्यान न देकर केवल अपने वोट बैंक के विकास के लिए तुष्टीकरण की राजनीति की थी। जिसके फलस्वरूप भारतीय संस्कृति व आदर्श का केंद्र रहा, उत्तर प्रदेश, प्रश्न प्रदेश बनकर रह गया। केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार आने के बाद उत्तर प्रदेश में न केवल अपनी खोई सांस्कृतिक विरासत को पुनः प्राप्त किया, बल्कि विकास के नए स्तंभ भी स्थापित किए। वर्ष 2017 में जब योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने तो उन्होंने उत्तर प्रदेश को प्रत्येक तरह से सामर्थ्यवान और समृद्ध राज्य बनान में मत मजहब की राजनीति का खात्मा करते हुए संकीर्ण  राजनीति से मुक्त करने का संकल्प लिया। आज प्रत्यक्ष रुप से दिखाई देता है कि जो चुनौतियां उन्हें विरासत में मिली थीं, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में उन समस्त चुनौतियों का समाधान प्रस्तुत किया है। यह मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उत्कृष्ट कार्यशैली का ही परिणाम है कि विरासत में मिली लचर कानून व्यवस्था, अब सुदृढ़ कानून व्यवस्था में परिवर्तित हो गई है। जिस उत्तर प्रदेश में पहले अपराधियों और माफियाओं का बोलबाला था, आज उसी उत्तर प्रदेश में अपराधी और माफिया थरथर कांपते हैं, माताएं और बहनें कभी भी कहीं भी आने.जाने से अब नहीं डरती हैं। यह सब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अपराध के खिलाफ जीरो टॉलरेंस नीति के कारण ही संभव हो पाया है। उन्होंने कहा कि योगी सरकार ने उत्तर प्रदेश के विकास को गति देने के लिए ऐतिहासिक काम किया है। योगी सरकार के कुशल प्रबंधन के कारण ही कोरोना वायरस के काल मे भी उत्तर प्रदेश को 56 करोड रुपए से भी अधिक का विदेशी निवेश प्राप्त हुआ। सपा की सरकार की तुलना में योगी सरकार ने दोगुने से अधिक 4 पॉइंट 25 लाख युवाओं को नौकरी प्रदान की है। उत्तर प्रदेश भारतीय संस्कृति के आदर्श का केंद्र रहा है, योगी सरकार ने प्रदेश की सांस्कृतिक विरासत को नया आयाम दिया है। आज यूपी में एक दमदार एवं कामदार सरकार काम कर रही है, राज्य के मुख्यमंत्री सिर्फ योगी ही नहीं कर्म योगी भी हैं, जिनका संपूर्ण जीवन समाज एवं देश के लिए समर्पित है। उत्तर प्रदेश को मजबूत बनाने के लिए सबको मिलकर योगी को मजबूत बनाना होगा, ताकि उत्तर प्रदेश की धरती पर मोदी के सपने साकार हो सके। उत्तर प्रदेश सरकार के 4 साल के कार्यकाल के दौरान क्षेत्र में रिफार्म परफॉर्म और ट्रांसफार्म के मूल मंत्र के साथ कार्य किया गया है, जिससे राज्य में उत्पन्न शांति और विकास की लहर ने उत्तर प्रदेश के बारे में लोगों की धारणा बदल दी है। राज्य सरकार के अथक प्रयासों से उत्तर प्रदेश का बीमारू राज्य से विकसित सक्षम और समर्थ राज्य में परिवर्तित हो गया है। उत्तर प्रदेश अब देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। राज्य सरकार ने लोक कल्याण संकल्प पत्र को अक्षरशः लागू किया है। आज उत्तर प्रदेश हर क्षेत्र में अपना विशेष स्थान रखता है प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत वर्ष 2017 में उत्तर प्रदेश का देश में 29 वां स्थान था जबकि आज शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में इस योजना के तहत 40लाख लाभार्थियों को आवास उपलब्ध करा कर पूरे देश में प्रथम स्थान पर है। उत्तर प्रदेश में 30 नए मेडिकल कॉलेज स्थापित किए जा रहे हैं, शेष जनपदों में भी मेडिकल कॉलेज स्थापित करने की दिशा में कार्यवाही की जा रही है, इज ऑफ डूइंग बिजनेस में उत्तर प्रदेश आज दूसरे स्थान पर हैं, ऐसा उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था में सुधार के चलते संभव हुआ है। राज्य सरकार ने अपराध के प्रति जीरो टारलेंस की नीति अपनाई है, सुधरी हुई कानून व्यवस्था के चलते उत्तर प्रदेश में निवेश आ रहा है। आज उत्तर प्रदेश निवेश का फेवर्ड डिस्टेंसनेशन है। राज्य सरकार द्वारा पूरी पारदर्शिता के साथ प्रदेश के 4 लाख युवाओं को नौकरियां दी गई है, जबकि 3 करोड़ युवाओ को  रोजगार  से जोड़ा गया है। शिक्षा स्वास्थ्य एवं कृषि के क्षेत्र में भी योगी सरकार ने साढे 4 वर्ष के अंदर विकास के नए स्तम्भ स्थापित किए हैं, योगी सरकार अधिवक्ताओं के चेंबर युवा वकीलों को आर्थिक मदद और पुस्तिकाओं व पत्रिकाओं की खरीद के लिए बजट में कुल 35 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है। सरकार ने युवा अधिवक्ताओं को आर्थिक मदद मुहैया कराने के लिए कापर्स फंड में 5 करोड रुपए, युवा अधिवक्ताओं के लिए पुस्तक व पत्रिका खरीदने के लिए 10 करोड़ रुपये का बजट में प्रावधान किया है,इसके अलावा उत्तर प्रदेश में विभिन्न जिलों में अधिवक्ता चेंबर के निर्माण और उनके अन्य सुविधाओं के लिए 20 करोड़ का प्रावधान वजट में किया गया है। योगी सरकार ने साहित्यकारों व कलाकारों के लिए भी एक नई योजना शुरू करने का निर्णय लिया है। यूपी गौरव सम्मान योजना के तहत प्रत्येक वर्ष 5 साहित्यकारों व कलाकारों को 11-11 लाख रुपए देकर सम्मानित किया जाएगा। इसके अतिरिक्त 60 वर्ष से अधिक आयु के कलाकारों को 200 प्रति माह पेंशन के रूप में प्रदान किए जाएंगे। प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन को संबोधित करते हुए पूर्व केंद्रीय मंत्री व सांसद गौतमबुद्धनगर डा0 महेश शर्मा ने कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में एवं प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी के नेतृत्व में सैकड़ों जन कल्याणकारी योजनाओं को चलाकर आम जनता को लाभ देने का कार्य हो रहा है। उन्होंने कहा कि प्रबुद्धजनों के ज़रिए उत्तर प्रदेश की तस्वीर बदलेगी। उत्तर प्रदेश को विकास के कार्य करके आगे बढ़ाने वाली भाजपा सरकार फिर से प्रदेश में बनेगी। प्रबुद्ध जन सम्मेलन को संबोधित करते हुए क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनीवाल ने बड़ी संख्या में आए हुए प्रबुद्ध जनों का आभार व्यक्त किया और कहा कि केंद्र सरकार एवं प्रदेश सरकार के विकास कार्यों के ज़रिये और जनता जनार्दन के आशीर्वाद से आगामी 2022 विधानसभा चुनाव में पहले से अधिक सीटों पर जीतकर भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनेंगी। सपा, बसपा भाई भतीजावाद की राजनीति करने वाली पार्टियों को सबक़ सिखाने का मूड प्रदेश की जनता ने एक बार फिर बना लिया है। प्रबुद्ध जनसम्मेलन में मुख्य रूप से जिलाध्यक्ष विजय भाटी, एम.एल.सी0 शिक्षक श्रीचंद शर्मा,दादरी विधायक मास्टर तेजपाल नागर, जेवर विधायक धीरेंद्र सिंह, दादरी विधानसभा प्रभारी अनिल खेड़ा, जिला प्रबुद्ध सम्मेलन संयोजक गजेंद्र मावी, विधानसभा संयोजक मनोज गर्ग, क्षेत्रीय महामंत्री हरीश ठाकुर, जिला पंचायत अध्यक्ष अमित चौधरी, ओबीसी आयोग सदस्य बिजेंद्र भाटी, पूर्व मंत्री हरिश्चंद्र भाटी, पूर्व जिलाध्यक्ष रक़म सिंह भाटी, पूर्व क्षेत्रीय महामंत्री सतेंद्र सिसोदिया, दादरी चेयरमैन गीता पंडित, मीडिया प्रभारी करमवीर आर्य, जिला पंचायत सदस्य देवा भाटी, जिला महामंत्री दीपक भारद्वाज, धर्मेन्द्र कोरी, दादरी ब्लॉक प्रमुख बिजेंद्र भाटी और योगेश चौधरी, पवन नागर, पंकज रावल, पवन रावल, जिला मंत्री सतपाल शर्मा, गुरुदेव भाटी, अमित शर्मा, मंडल अध्यक्ष महेश शर्मा, रवि भदौरिया, संजय भाटी, मनोज भाटी, विचित्र तोमर आदि पदाधिकारी, कार्यकर्तागण और प्रबुद्धजन सम्मेलन में उपस्थित रहे।