गांव के लज्जा राम भाटी पूर्व शिक्षक ने कठेहरा गांव के स्वर्गीय राजा राव उमराव सिंह भाटी की कहानियां सुनाईं

 


विजन लाइव/गौतमबुद्धनगर

गौतमबुद्धनगर जिले में पहली बार कठेहरा गांव में ग्रामीण टूरिज्म की शुरुआत हुई। इस कार्यक्रम में भाग लेने ग्रेटर नोएडा के सेक्टरों से लोग शामिल हुए। उन सभी को दादरी ब्लांक के कठेहरा गांव में गुर्जरो की जाती के संघर्ष का इतिहास के बारे में अश्वनी भाटी ने बताया कि किस तरह से गांवों की ज़मीन पर ज़ेविक खेती करके लोग आज कल के खाने पीने को देखकर बीमारियों से लोग त्रस्त रहते हैं? इस मौके पर गांव के लज्जा राम भाटी पूर्व शिक्षक ने कठेहरा गांव के स्वर्गीय राजा राव उमराव सिंह भाटी की कहानियां सुनाई। उन्होंने बताया कैसे? राजा राव उमराव सिंह ने अंग्रेजों से टक्कर ली और उनको हिंडन से आगे नहीं बढ़ने दिया गया और किस तरह उन्होंने अंग्रेज़ो के अरबी घोड़ों को चुरा लिया था? जिसके अंतर्गत उन क्रांतिकारी वीरो को याद किया जा रहा है, जिनके बारे में लोगों को ज़्यादा जानकारी नहीं है। इस टूर के द्वारा कठेहरा गांव के क्रांतिकारी राजा रांव उमराव सिंह को याद किया गया और उनकी कहानी को गावो की ज़मीन पर बसे सेक्टरों के लोगों तक पहुंचाया जा रहा है। इस टूर के द्वारा गांव का इतिहास को लोगों तक पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है, ये जिले में ग्रामीण टूरिज्म की शुरुआत के रूप में भी देखा जा सकता है। अश्वनी भाटी कठेहरा गांव में लोगों को टूर देते है और उनको गांवो और गुर्जर जाती वे इतिहास से रूबरू करते है। उनके जैविक फार्म पर टूरिस्ट गांव के खाने का भी लुत्फ उठाते हैं दूर दराज़ से भी रोज़ाना सेकडो की संख्या में लोग पुरानी परम्पराओं को देखने के लिए शहरो से उमड़ते हैं।