>


>
>

ग्रेटर नोएडा की सोशल एक्टिविस्ट सविता शर्मा ने सेक्टर में पेड़ों की कटिंग व पौधों की देखरेख के मुद्दे को उठाते हुए ग्रेटर नोएडा सी.ई.ओ. को पत्र लिखा और यूपी सीएम को भी टिवटर हैंडल पर शिकायत दी

 



अल्फा-2 में ही एक पेड ने इतना विशालकाय रूप ले लिया है कि पेड की लंबाई करीब 40 फीट तक पहुंच चुकी हैं जब कि पेड की जडे पूरी तरह से खोखली हो चुकी हैःसोशल एक्टिविस्ट सविता शर्मा



मौहम्मद इल्यास-’’दनकौरी’’/ग्रेटर नोएडा

 हरित ग्रेटर नोएडा में पेडों का उचित रखरखाव न होने से कई तरह की दिक्कतें सेक्टरवासियों को उठानी पड रही हैं। इनमें शहर के सेक्टर अल्फा-2 में ही एक पेड ने इतना विशालकाय रूप ले लिया है कि पेड की लंबाई करीब 40 फीट तक पहुंच चुकी हैं जब कि पेड की जडे पूरी तरह से खोखली हो चुकी है। आंशका है कि इस तरह के उक्त पेड कभी भी गिर सकते हैं और कोई भी अनहोनी हो सकती है। इस बात की शिकायत ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को पत्र लिख कर की गई है। इसके साथ यूपी सीएम को भी टिवटर हैंडल पर शिकायत दी गई है। ग्रेटर नोएडा की सोशल एक्टिविस्ट सविता शर्मा ने सेक्टर में पेड़ों की कटिंग व पौधों की देखरेख के मुद्दे को उठाते हुए ग्रेटर नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यापालक अधिकारी को लिखे पत्र में अवगत कराया है कि सेक्टर में पेड़ों की कटिंग व पौधों की देखरेख संबंधित अधिकारियों के द्वारा तय समय में नही की जा रही है। सेक्टर अल्फा- 2 में वर्षों से पेड़ों की कटिंग नहीं हुई है पेड़ों ने एक विशाल रूप ले लिया है। सोशल एक्टिविस्ट सविता शर्मा ने पत्र में यह भी अवगत कराया है कि सेक्टर अल्फा-2 में ही एक पेड़ की लंबाई कम से कम 35 से 40 फीट हो चुकी है, यही नहीं इस पेड की जड पूरी तरह से हिल चुकी है और कभी पेड नीचे गिर सकता है और अनहोनी घटित हो सकती है। इस तरह के पेडों से सेक्टरवासियों को बहुत परेशानी हो रही है । निवेदन है कि अल्फा टू सेक्टर के सभी पेड़ों की कटिंग कराई जाएं। पत्र में मुख्य कार्यापालक अधिकारी को यह भी अवगत कराया गया है कि शहर के कई सेक्टर हैं जहां विशाल रूप ले चुके हैं कुछ पेडों की पेडों़ की जड़ें हिल चुकी हैं, किंतु संबंधित अधिकारी इस ओर ध्यान देने तक तैयार नही है। इसके साथ ही ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण द्वारा सुभाष चंद्र बोस पार्क अल्फा 2 में 7 पेड़ लगाए थे। इसी क्रम में सेक्टरवासियों की ओर से सुभाष चंद्र बोस पार्क अल्फा-.2 में व नॉलेज पार्क फर्स्ट पार्क में 21 पेड़ लगाए,लेकिन दोनों पार्कों में पानी की व्यवस्था ना होने के कारण वह सूखने के कगार पर पहुंच चुके हैं। निवेदन है कि दोनों पार्कों में एक एक माली हमेशा तैनात रहे ताकि वहां के पेड़ पौधे में पानी की व्यवस्था व पार्कों की साफ.सफाई पर ध्यान दे सके। इसके साथ ही पेड़ों की कटिंग कराई जाए और जो पेड़ सूख गए हैं उनको निकलवाया जाए। कुछ पेड़ जड़ से कमजोर हो गए हैं वह मिट्टी डलवा कर उन जड़ों को मजबूत कराया जाए।