दनकौर देहात लेखपाल संबंधित पक्ष से साठगांठ कर रोजाना आजकल कर टरका रहे हैंः राधेश्याम





तबियत खराब चल रही है फिलहाल वे जिम्स में भर्ती हैं। तबियत ठीक हो जाने पर और साथ ही कोरोना महामारी के कुछ शांत हो जाने पर ही इस दिशा में जरूर काम किया जाएगाः सुसेन राम शर्मा




मौहम्मद इल्यास/गौतमबुद्धनगर

गौतमबुद्धनगर के दनकौर कसबे में बंद किए गए रास्ते का मामला एक बार फिर सीएम दरबार में जा पहुंचा है। दनकौर कसबे के तुलसी नगर इलाके में स्नेह गार्डन के पीछे कुछ लोग रहते हैं। बताया गया है कि यहां इन रास्तों से होकर बाबा गुरू द्रोणाचार्य की परिक्रमा यात्रा भी निकाली जाती रही है। गत 10 अप्रैल-2021 को एक पक्ष के लोगों ने इन रास्तों को जेसीबी से बंद कर दिया था। उस समय वहां आस पास रहने वाले लोगों और राष्ट्रीय हिंदू संघ मेरठ मंडल अध्यक्ष राधेश्याम प्रजापति ने इस मामले की शिकायत पुलिस से लेकर आला अफसरों से की गई थी और साथ में शिकायत को मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल पर भी भेज दिया गया था। तत्पश्चात इस जिलाधिकारी को लिखे पत्र में राधेश्याम प्रजापति ने रास्ते को पुनः चालू कराए जाने की मांग की थी। उक्त पत्र एसडीम तहसीलदार को मामले की जांच के किए जाने के आदेश दिए थे। तहसीलदार ने मामले की जांच लेखपाल को सौंपी थी। अब शिकायतकर्ता राधेश्याम प्रजापति और आस पास के लोगों ने फिर मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल पर एक बार फिर शिकायत को भेजा है। शिकायतकर्ता की ओर से पत्र में आरोप लगाया है कि लेखपाल द्वारा जांच के नाम पर टरकाया जा रहा है जब कि रास्ता बंद होने से वहां रहने वाले लोग परेशान हैं। मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल पर भी भेजे गए शिकायत पत्र में राधेश्याम पुत्र श्री इंद्रजीत तुलसी नगर बाईपास रोड स्नेहा गार्डन के पीछे श्री गुरु द्रोणाचार्य परिक्रमा मार्ग निकट भूमिया बाबा पूर्व के पास दनकौर ने अवगत कराया है कि बंद रास्ता आज तक नहीं खोला गया है। इस आम रास्ते पर चलने वाले लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है जो कि श्री गुरु द्रोणाचार्य परिक्रमा मार्ग ही है। इस रास्ते पर एक मकान सुनीता देवी पत्नी राधेश्याम का भी है। जब कि इस मकान का हाउस टैक्स और नक्शा स्वीकृत नगर पंचायत दनकौर द्वारा है। प्रार्थी प्रार्थी के परिवार को 10 दिन से काफी निकलने बढ़ने में परेशानी हो रही है। प्रार्थी ने एक प्रार्थना पत्र एसडीएम सदर गौतमबुद्धनगर को भी दिया था। उक्त प्रार्थना पत्र का संज्ञान लेते हुए एसडीएम सदर ने तत्काल ही जांच का आदेश तहसीलदार सदर को दिया। तहसीलदार सदर ने कानूनगो और लेखपाल को तत्काल जांच किए जाने के आदेश दिए। पत्र में शिकायकर्ता राधेश्याम ने आरोप लगाया है कि कानूनगो और लेखपाल द्वारा कोई आख्या रिपोर्ट नहीं दी गई है। दनकौर देहात लेखपाल सुसेन राम शर्मा दोनों पक्षों के बीच साठगांठ कर रोजाना आजकल कर देता है।  संबधित पक्षों के बीच झगड़ा होने की प्रबल संभावना है। अतः श्रीमान जी से प्रार्थना है कि दोषी लेखपाल के खिलाफ जांच कराकर कानूनी कार्रवाई  की जानी अति आवश्यक है। इस बारे में जब दनकौर लेखपाल सुसेन राम शर्मा से संपर्क स्थापित किया गया तो उन्होंने ने बताया कि कोरोनाकाल चल रहा है, इस जमीन की पैमाईश होगी तो संबंधित पक्ष के लोगों को जरूर मौके पर बुलाना पडेगा और दूसरी ओर उनकी तबियत खराब चल रही है फिलहाल वे जिम्स में भर्ती हैं। तबियत ठीक हो जाने पर और साथ ही कोरोना महामारी के कुछ शांत हो जाने पर ही इस दिशा में जरूर काम किया जाएगा। साथ ही शिकायतकर्ता द्वारा लगाए गए सांठ गांठ जैसे सभी आरोप निराधार और बेबुनियाद हैं।