तकनीकी, लोकेशन और सुविधाओं के लिहाज से दुनिया की सबसे शानदार फिल्म सिटी बनाया जाएगाः राजू श्रीवास्तव





यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण में फिल्म सिटी प्रोजेक्ट और कंसेप्ट  को लेकर फिल्म बंधु की बैठक संपन्न




फिल्म सिटी की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) बनाने की जिम्मेदारी शासन की ओर से यमुना प्राधिकरण को दी गईः डा0 अरूणवीर सिंह

 



मौहम्मद इल्यास/यीडा

फिल्म सिटी प्रोजेक्ट और कंसेप्ट पर मंथन शुरू हो गया है। यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण में फिल्म सिटी प्रोजेक्ट और कंसेप्ट  को लेकर फिल्म बंधु की बैठक संपन्न हुई। बैठक में उत्तर प्रदेश फिल्म निर्माण परिषद के अध्यक्ष राजू श्रीवास्तव भी शामिल हुए। इस मौके पर राजू श्रीवास्तव ने कहा कि यमुना सिटी में बनने जा रही फिल्म सिटी को तकनीकी, लोकेशन और सुविधाओं के लिहाज से दुनिया में सबसे शानदार बनाया जाएगा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का यह सपना बहुत जल्दी साकार होने जा रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश कला और संस्कृति के दृष्टिकोण से बेहद समृद्ध राज्य है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सकारात्मक नीतियों का परिणाम है कि इस वक्त उत्तर प्रदेश में 100 से ज्यादा फिल्मों का निर्माण चल रहा है। जब से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे एक विश्वस्तरीय फिल्म सिटी का निर्माण करने की घोषणा की है, तब से भारत ही नहीं पूरी दुनिया के फिल्म निर्माता इस ओर देख रहे हैं। यहां अंतरराष्ट्रीय रूप से समृद्ध फिल्म सिटी बनाने का फैसला लिया है। बैठक में उन्होंने यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डा0 अरुणवीर सिंह के साथ फिलम सिटी प्रोजेक्ट पर चर्चा की। यमुना एक्सप्रेसवे औद्योगिक विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी डा0 .अरुणवीर सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश फिल्म विकास परिषद के चेयरमैन राजू श्रीवास्तव के साथ फिल्म बंधु की बैठक हुई। उन्हें फिल्म सिटी प्रोजेक्ट के बारे में विस्तार से जानकारी दी है। उन्होंने भी कई महत्वपूर्ण सुझाव दिए हैं। उनके सुझावों को समाहित किया जाएगा। फिल्म सिटी की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनाने का काम तेजी से चल रहा है। बहुत जल्दी मौके पर भी काम शुरू हो जाएगा। फिल्म सिटी के लिए सेक्टर-21 मे 1000 एकड़ जमीन आरक्षित कर दी गई है। यहां 1,000 एकड़ में फिल्म सिटी बसाई जाएगी। इसमें 780 एकड़ जमीन औद्योगिक उपयोग की और 220 एकड़ जमीन व्यवसायिक उपयोग के लिए है उन्होंने कहा कि फिल्म निर्माण से जुड़ी कंपनियां परियोजना में दिलचस्पी ले रही हैं। बड़ी संख्या में देशभर की कंपनियों ने जानकारी हासिल की हैं। कई विदेशी कंपनियों ने भी परियोजना को लेकर पूछताछ की है। फिल्म सिटी की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) बनाने की जिम्मेदारी शासन की ओर से यमुना प्राधिकरण को दी गई है।