एमएसपी को  कानून के दायरे में लाते हुए स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को तत्काल लागू किया जाए और किसान आयोग का गठन करेंः गीता भाटी




विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

8 दिसंबर मंगलवार को भारत बंद के मौके पर फिर एक बार किसान एकता संघ के कार्यकर्ताओं ने सरकार को नई शक्ति का अहसास कराया। इस बार किसान एकता संघ के कार्यकर्ताओं ने गौतमबुद्धनगर के दनकौर कसबे में तीन काले कानूनों की शव यात्रा निकाली। किसान एकता संघ के  राष्ट्रीय अध्यक्ष सोरन प्रधान के नेतृत्व में आज भारत बंद पर कैंप कार्यालय से तीन काले कानूनों की शवयात्रा निकाल कर दनकौर मैन बाजार से होते हुए बिहारी लाल इंटर कालेज चौक पर पहुंचे। जैसे ही शवयात्रा को किसान एकता संघ कार्यकर्ताओं ने दाह संस्कार करना चाहे उसी बीच शवयात्रा को लेकर किसान और पुलिस के बीच खींचा तानी हुई और शवयात्रा की अर्थी को पुलिस अपने कब्जे में लेकर भाग गई। इस मौके पर महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष गीता भाटी ने कहा की एमएसपी को  कानून के दायरे में लाया जाए। इसके साथ ही स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को तत्काल लागू किया और किसान आयोग का गठन किया जाए, ताकि किसान को अपनी फसल का स्वंय रेट तय करने का अधिकार मिले। जब तक इन सभी मांगों को सरकार नहीं मान लेती, किसानों आंदोलन जारी रहेगा। इस मौके पर देशराज नागर,रमेश कसाना,राजेंद्र सिंह नागर,ब्रिजेश भाटी,श्री कृष्ण बैसला,जतन सिंह,सतीश कनारसी, जगदीश शर्मा,कृष्ण पंडित,आलोक नागर,जयबीर नागर,कृष्ण नागर,महेन्द्र कसाना,मोहनपाल नागर,जयप्रकाश नागर,छोटे खां,हेमराज बी.डी.सी.,डा0 जाफर खान,अमित नागर,प्रदीप भाटी,दुर्गेश शर्मा,मनोज नागर आदि पदाधिकारी और कार्यकर्ता उपस्थित रहे।