ये बिल पूंजीपतियों के लिए बनाएं  गए हैं, संशोधन नहीं होता है तो यह किसान गरीबों और आम लोगों के लिए हानिकारक सिद्ध होगाः चौधरी महेश कसाना

 


विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

8 दिसंबर-2020 को भारत बंद के मौके पर भारतीय किसान यूनियन अखंड के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी महेश कसाना को उनके निवास स्थान बदौली में ही नजरबंद कर लिया गया। केंद्र सरकार द्वारा किसानों के 3 बिलों को लेकर पिछले कई दिनों से किसान सड़को पर हैं। सरकार और किसानों की वार्ता विफल होने के बाद 8 तारीख को भारत बंद का आहवान था। जिसको लेकर भारतीय किसान यूनियन अखंड के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी महेश कसाना के नेतृत्व में सेक्टर 150 गोलचक्कर पर हाईवे को बंद करना था। लेकिन योगी सरकार और प्रशासन की तानाशाही से राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी महेश कसाना को उनके घर ही नजर बंद व गिरफ्तार कर लिया गया। उधर भारतीय किसान यूनियन अखंड के राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी महेश कसाना के आह्वान पर किसान गोल चक्कर पर ही बैठ गए और मांगों के संबंध में नारेबाजी करने लगे। इस मौके पर राष्ट्रीय अध्यक्ष चौधरी महेश कसाना ने कहा कि जब तक केंद्र सरकार किसानों के खिलाफ जो अध्यादेश लाई है उन अध्यादेश में किसानों की समस्याओं का संशोधन करके समाधान नहीं करते तब तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि ये बिल पूंजीपतियों के लिए बनाएं  गए हैं। अगर इन बिलों में संशोधन नहीं होता है तो यह किसान गरीबों और आम लोगों के लिए हानिकारक सिद्ध होगा। उन्होंने कहा कि सरकार एम.एस.पी. कानून लागू करें,एस्वामी नाथन आयोग की रिपोर्ट लागू की जाए। इसके साथ ही किसानों का कर्ज माफ किया जाए। किसानों को उनकी जमीन का मालीकाना हक दिया जाए। 60 वर्ष से ऊपर किसानों को 5000 रुपये की पेंशन दी जाए। किसानों को बिजली पानी मुफ्त किए जाएं। ग्रेटर नोएडा के एसीपी ब्रजनंदन रॉय किसानों के बीच पहुंचे और उन्होंने किसानों को समझाने का प्रयत्न किया। काफी समझाने के बाद किसानों ने अपनी मांगों का ज्ञापन प्रधानमंत्री के नाम ग्रेटर नोएडा के एसीपी ब्रजनंदन रॉय को सौंपा। इस मौके पर भारी पुलिस बल एवं भारतीय किसान यूनियन अखंड के राष्ट्रीय महासचिव सचिन त्यागी, राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य मनोज अवाना, प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य रवि भाटी, मंडल प्रवक्ता मनोज वर्मा, नोएडा महानगर अध्यक्ष बालेश्वर त्यागी, जेवर तहसील अध्यक्ष दिनेश, प्रदेश सचिव सतबीर त्यागी, तहसील अध्यक्ष पप्पी भाटी और सुनील नागर, जेपी पहलवान, हेमंत अवाना, शादी राम प्रधान, अनिल कसाना, मनोज कसाना, प्रकाश कसाना, भारत चेची आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण मौजूद रहे।