बार अध्यक्ष पद के लिए मुकाबला त्रिकोणीय होने के आसार





 










 

मौहम्मद इल्यास/गौतमबुद्धनगर

---------------------------------

गौतमबुद्धनगर जनपदीय दीपावनी एवं फौजदारी एसोसिएशन चुनाव 2020-21 में इस बार मुकाबला बेहद रोचक है। पिछले करीब 3 वर्षो से यहां की बार एसोसिएशन गुटबाजी का शिकार थी, किंतु इस बार यहां पर बार एसोसिएशन एक प्लेटफार्म पर हैं। यही कारण है कि यह चुनाव दिलचस्म है और कई मायनों में महत्वपूर्ण भी साबित होने जा रहा है। मतदान घडियां भी बिल्कुल नजदीक हैं कल 22 दिसंबर-2020 को मतदान होना तय है। निर्णायक मंडल/ चुनाव प्रबंध समिति के अनुसार इस बार चुनाव मैदान में कूदे प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला 1293 मतदाता/अधिवक्ता करेंगे। सोमवार को दिन भर चुनाव प्रचार और जीत का गुणा भाग प्रत्याशी करते हुए दिखाई दिए। चुनाव में यों तो कई पदो ंके लिए प्रत्याशी मैदान में हैं मगर बार अध्यक्ष पद और सचिव पद के लिए मुकाबला रोचक माना जा रहा है। बार अध्यक्ष पद के लिए इस बार मनोज भाटी, नगसैन चंदेला, प्रमोद कुमार वर्मा, रेशराम चौधरी और सुशील भाटी चुनाव मैदान में हैं। वहीं सचिव पद के लिए नीरज कुमार चौहान, ़ऋषिपाल टाइगर और सुनील कुमार भी अपनी जीत के लिए दावे कर रहे हैं। वरिष्ठ उपाध्यक्ष  पद के लिए प्रमोद कुमार एवं सत्यपाल सिंह ने अपनी दावेदारी ठोकी है। जब कि कनिष्ठ उपाध्यक्ष के पद पर केवल एक ही नामांकन मनोज शर्मा का प्राप्त हुआ। सह सचिव प्रशासन के पद पर भी केवल महेंद्र सिंह यादव का नामांकन प्राप्त हुआ। सह सचिव पुस्तकालय के पद पर केवल राजेंद्र सिंह का नामांकन प्राप्त हुआ। कोषाध्यक्ष पद हेतु प्रवेश कुमार एवं राजेश सिंह लोहिया ने अपनी अपनी जीत के लिए दावे कर रहे हैं। इनमें सचिव पद और अध्यक्ष पद के सभी प्रत्याशियों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी हैं। सचिव पद के लिए बात की जाए तो ़ऋषि टाईगर एडवोकेट दूसरी बार चुनाव मैदान में हैं पिछली बार चुनाव में उन्हेंं कामयाबी नही मिल पाई थी। वहीं नीरज कुमार चौहान भी दूसरी बार चुनाव में हैं। इससे पहले वे मनोज भाटी गुट में वे बतौर सचिव रह चुके हैं। सचिव पद पर तीसरे प्रत्याशी सुनील नागर एडवोकेट इस बार पहली बार चुनाव मैदान में हैं। बार अध्यक्ष पद की बात की जाए तो प्रमोद कुमार वर्मा तीसरी बार चुनाव मैदान में कूदे हैं। इससे पहले वे वर्ष 2005-2006 और वर्ष 2014-2015  में  बार अध्यक्ष पद पर रह चुके हैं। नगसेन चंदेला भी दूसरी बार चुनाव मैदान मेंं हैं। इससे पहले वह भी वर्ष 2001-2002 में बार अध्यक्ष रह चुके हैं। मनोज भाटी की बात की जाए तो जब बार तीन गुटों में बंटी हुई थी एक गुट के खेवनहार मनोज भाटी थे। किंतु समूची और एकजुट बार के चुनाव में वह पहली बार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। सुशील भाटी भी इस बार के चुनाव में तीसरी बार कूदे हैं। इससे पहले सुशील भाटी वर्ष 2002-2003 मेंं बतौर सचिव रह चुके हैं। वर्ष 2013-2014 के चुनाव में सुशील भाटी अध्यक्ष पद के लिए चुनाव मैंदान मेंं कूद थे मगर उन्हें कालूराम चौधरी के सामने हार का मुंहू देखना पडा था। रेशराम चौधरी पहली बार चुनाव मैदान में है। इन प्रत्याशियों ने बार हित, अधिवक्ता कल्याण, चैंबर निमार्ण,विकास और सुरक्षा आदि को मुद्दा बनाया है। चुनाव समीकरणों को देखने से ऐसा लगता है कि मुकाबला बेहद रोचक हैं और चुनाव परिणाम बेहद चौकाने वाले साबित होंगे। त्रिकोणीय संघर्ष की संभावना से भी इंकार नही किया जा सकता है। चुनावी उंट किस करवट बैठता है यह अभी भविष्य के गर्भ में छिपा हुआ है। फिलहाल सभी प्रत्याशी अपनी जीत का दावा करने में लगे हुए हैं।

 

 

मतदान से एक दिन पूर्व ही बार अध्यक्ष पद के प्रत्याशी रेशराम चौधरी की ओर से ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को एक ज्ञापन सौंपा गया

 





गौतमबुद्धनगर जनपदीय दीवानी एवं फौजदारी एसोसिएशन चुनाव-2020-21 चुनाव की सरगर्मी जोरो पर हैं। सभी पदो ंके प्रत्याशियों ने चुनाव के लिए एडी चोटी का जोर लगाना शुरू कर दिया है। मतदान कल 22 दिसंबर-2020 को होगा। उधर मतदान से एक दिन पूर्व ही बार अध्यक्ष पद के प्रत्याशी रेशराम चौधरी की ओर से ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण को एक ज्ञापन सौंपा गया है। बार अध्यक्ष पद प्रत्याशी रेशराम चौधरी द्वारा प्रेषित एक यह ज्ञापन पूर्व बार अध्यक्ष प्रमेंद्र भाटी एडवोकेट के नेतृत्व में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यापालक अधिकारी नरेंद्र भूषण को सौंपा गया है। इस ज्ञापन में रेशराम चौधरी एडवोकेट ने विकास और सुरक्षा आदि मुद्दों को उठाया है। ग्रेटर नोएड़ा विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालक अधिकारी नरेंद्र भूषण  ने आश्वास्त किया है कि जिला न्यायालय में विकास कार्य हेतु जल्दी टेंडर जारी विकास कार्य शुरू कराएं जाएंगे। ज्ञापन में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण के मुख्य कार्यापालक अधिकारी से मांग की गई हैं कि पूर्व में ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण द्वारा अधिवक्ता एवं वादकारियों के हित में गर्मी, सर्दी, बरसात से बचाव हेतु शेड का निर्माण कराया गया था, जिसके लिए समस्त वादकारीगण एवं अधिवक्तागण प्राधिकरण के प्रसशनीय कार्य के लिये अभिभूत हैं। इसके साथ ही विकास कार्य के क्रम में ही ग्रेटर नोएडा विकास प्राधिकरण द्वारा न्यायालय परिसर में निम्नलिखित बिन्दुओं पर कार्य कराए जाने हेतु योजना बनाई गई थी, जो परिस्थितिवश संवादहीनता के कारण उक्त बिन्दुओं पर कार्यों का नियोजन व निर्माण नहीं हो पाया था। अधिवक्तागण व वादकारीगण के हित में अधूरे पड़े निम्नलिखित बिन्दुओं पर कार्यों के नियोजन व निर्माण कार्यों को किए जाने हेतु आपको पूर्ण विश्वास के साथ यह ज्ञापन प्रेषित किया जा रहा है तथा हमें विश्वास है कि आप जनहित में निम्नलिखित बिन्दुओं पर कार्यों के नियोजन एवं निमार्ण कार्यों को संपन्न कराएंगे, जो निम्न प्रकार हैः-1 जिला न्यायालय परिसर एवं कलेक्ट्रेट परिसर के मध्य सूरजपुर.कासना रोड पर अधिवक्तागण व वादकारीगण के लिए सुरक्षा की दृष्टि से फुट ओवर ब्रिज का निर्माण कराया जाना। 2ः-न्यायालय परिसर में महिला एवं पुरुष शौचालयों का निर्माण कराया। 3ः- अधिवक्ता चैंबरों से न्यायालय कक्ष को जाने वाले रास्ते में पड़ने वाली खुली नालियों को ढांपना व नाली व चैम्बरों के मध्य पड़ी खाली भूमि पर इंटरलोकिंग टाइल्स लगाया जाना। 4ः-न्यायालय परिसर में मल्टी स्टोरी चैम्बरों का निर्माण कराया जाना। 5ः- जिला न्यायालय में विधि व्यवसाय में संलग्न अधिवक्ताओं के लिये व विधि व्यवसाय में कार्यरत अधिवक्ताओं को पूर्व में सुपरटेक स्पोर्ट सिटी में 130 मीटर रोड पर आवास हेतु चिन्हित भूमि को नियोजित कर बिना लाभ हानि के आवास निर्माण कराना। 6ः-न्यायालय परिसर में अधिवक्तागण एवं वादकारीगण के हित में पुस्तकालय की स्थापना कराया जाना। 7ः- न्यायालय परिसर में स्थित पार्क में वृक्षारोपण एवं रिक्त स्थानों का सौंदर्यीकरण कराया जाना। 8ः- अधिवक्तागण एवं वादकारीगण के हित में शुद्ध पेय जल हेतु आर00 सहित वाटर कूलर की व्यवस्था कराया जाना।