जी.पी.डब्ल्यू.एस.  17 जनवरी को करेगा कैंडल मार्च

विजन लाइव/गौतमबुद्धनगर

गौतमबुद्धनगर पेरेंट्स वेल्फेयर सोसायटी यानी जी.पी.डब्ल्यू.एस. के पदाधिकारियों ने अलग अलग स्कूलो के अभिभावकों की समस्याओं को साझा करते हुए 17 जनवरी को एक बड़े  प्रदर्शन करने का फैसला लिया है। जी. पी. डब्ल्यू. एस. के संस्थापक  मनोज कटारिया ने कहा कि यूपी सरकार ने अभिभावकों के पक्ष मे कोई निर्णय नहीं लिया जबकि प्रदेश से सटे लगभग सभी राज्यों ने अभिभावकों को संक्रमण की महामारी के कारण छूट दी है जबकि यूपी मे लाखों/करोड़ों रुपये का रिजर्व फंड रखने वाले स्कूल साहूकारों की तरह पूरी फीस की मांग कर रहे हैं तथा बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा से वंचित कर उनके शिक्षा के अधिकार का हनन कर रहे हैं और साथ ही कुछ स्कूल बच्चों के नाम काटने की धमकी भी दे रहे हैं। रविवार को जी. पी. डब्ल्यू एस  के पदाधिकारियों ने अभिभावकों के साथ  मिलकर 17 जनवरी  यानी रविवार- 2021 को एक बड़ा प्रदर्शन करने का निर्णय लिया है। संस्था के अध्यक्ष कपिल शर्मा व कोषाध्यक्ष गीता विद्यार्थी ने  बताया है कि स्कूल सरकारी आदेश की व्याख्या अपनी सहूलियत के हिसाब से कर रहे हैं। फीस रेग्युलेशन ऐक्ट 2018 के अनुसार स्कूल की फीस का नियंत्रण जिला शुल्क नियामक समिति के पास होता है और महामारी की स्थिति में राज्य सरकार के पास, फिर भी शासन प्रशासन अभिभावकों की नहीं सुन रहे है। बैठक मे विभिन्न स्कूलो के करीब दर्जनों अभिभावकों के ने एकमत से कैंडिल मार्च करने की सहमति दी। इस मौके पर विकास शर्मा, रणधीर सिंह, राम अवतार शर्मा, देवेन्द्र रावत, सुखपाल सिंह, दीपक श्रीवास्तव, अश्विनी सिंह, दिग्विजय सिंह, मोहित, शेर सिंह, रवीन्द्रनाथ, पूरन सिंह, रमेश प्रसाद, बी.एस. नेगी, आनंद बिश्नोई, सूरज सिंह, विनीत कुमार, किशोर कुमार, राकेश भट्ट, गोपाल रावत, रूपेश, हरीश रौतेला, अमित शिशोदिया, अनिल किशन और डी0 शर्मा  आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण उपस्थित रहे।