भारतीय किसान यूनियन अखंड द्वारा यमुना प्राधिकरण एवं जेपी ग्रुप के खिलाफ 6 नवंबर 2020 को एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया जाएगा

 


किसानों की समस्याओं को हल नहीं किया तो अनिश्चितकालीन धरना एवं यमुना प्राधिकरण का घेराव किया जाएगाः महेश कसाना

 

विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

भारतीय किसान यूनियन अखंड ने किसानों की समस्याओ के संबंध में जेवर टोल प्लाजा पर 6 नवंबर 2020 को जेपी ग्रुप एवं यमुना प्राधिकरण के खिलाफ धरना प्रदर्शन का ऐलान किया है। इस संबंध में अपर  जिलाधिकारी प्रशासन दिवाकर को राष्ट्रीय अध्यक्ष महेश कसाना के नेतृत्व मे ज्ञापन सौंपा गया है। भारतीय किसान यूनियन अखंड के राष्ट्रीय अध्यक्ष महेश कसाना ने बताया कि भारतीय किसान यूनियन अखंड के प्रतिनिधि मंडल द्वारा यमुना प्राधिकरण एवं जेपी ग्रुप के खिलाफ 6 नवंबर 2020 को एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया जाएगा। जेपी ग्रुप एवं यमुना प्राधिकरण में लंबे समय से किसानों की समस्या लंबित है और जिनको हल नहीं किया गया है। इसको लेकर किसान परेशान है एवं किसानो में काफी रोष है। उन्होंने बताया कि इसको लेकर समय.समय पर किसानो एवं किसानों के संगठन द्वारा धरने प्रदर्शन किए गए हैं लेकिन समस्याएं जस की तस है। इसी कड़ी में भारतीय किसान यूनियन अखंड ने भी संगठन के माध्यम से जेपी प्रशासन से मांग की थी कि वह जल्द से जल्द किसानों की समस्याओं को हल करें। मगर यमुना प्राधिकरण एवं जेपी ग्रुप ने किसानो की समस्याओं को हल नहीं कराया है। भारतीय किसान यूनियन अखंड के द्वारा एक दिवसीय धरने का फैसला लिया गया है। यदि यमुना प्राधिकरण एवं जेपी ग्रुप किसानों की समस्याएं हल नहीं करते हैं तो आगे की रणनीति बना कर आर पार की लडाई लडी जाएगी। उन्होंने बताया कि प्रतिनिधि मंडल द्वारा अपर जिलाधिकारी गौतमबुद्धनगर प्रशासन द्वारा ज्ञापन लिया गया और जेपी ग्रुप एवं यमुना प्राधिकरण एवं आरटीओ गौतमबुद्धनगर को भी प्रतिलिपि भिजवा दी गई है। इस ज्ञापन में मांग की गई हैं कि जिलाधिकारी किसानों की समस्याओं में मध्यस्ता कर सक्षम अधिकारियो के निस्तारण कराएं । इन मांगों में सभी दो पहिया वाहन को टोल फ्री किया जाए, किसानों को आईडी के आधार पर टोल फ्री किया जाए, छोटे टोल जेवर दनकौर आदि पर क्षेत्रीय लोगों को टोल फ्री किया जाए, पत्रकार बंधुओ को टोल फ्री की सुविधा दी जाए,किसानों के खेती से जुड़े उपकरण के लिए टोल फ्री किया जाए, सभी किसानों को 64.07 फीसदी  प्रतिकर एवं 10 प्रतिशत आवासीय भूखंड दिए जाएं जो माननीय सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई ने होने पर अभी नहीं दिए गए हैं, जेपी ग्रुप द्वारा संचालित टोल प्लाजा एवं संस्थानों में क्षेत्रीय युवाओं को रोजगार दिया जाए, किसानों की एवं जनहित से जुड़ी और भी काफी समस्याएं हैं जिनको प्राधिकरण एवं जेपी ग्रुप द्वारा हल किया जाए, अगर  जेपी ग्रुप और यमुना प्राधिकरण किसानों की समस्याओं को हल नहीं कराते हैं तो अनिश्चितकालीन धरना एवं प्राधिकरण का घेराव किया जाएगा, जिसकी जिम्मेदारी जेपी ग्रुप प्रशासन एवं यमुना प्राधिकरण की होगी। इस मौके पर भारतीय किसान यूनियन अखंड के राष्ट्रीय महासचिव सचिन त्यागी बालेश्वर, राष्ट्रीय कार्यकारणी सदस्य सुरेश रावल आदि पदाधिकारी और कार्यकर्तागण मौजूद रहे।