धान की तुलाई न होने पर दनकौर अनाज मंडी में तालबंदी किए जाने की चेतावनी

 


किसान एकता संघ ने जिला विपणन अधिकारी कार्यालय पर तालाबंदी किए जाने का किया ऐलान

 


विजन लाइव/दनकौर

दनकौर अनाज मंडी में धान की तुलाई न होने पर किसानों में भारी रोष व्याप्त है। किसान पिछले करीब डेढ सप्ताह से धान की तुलाई किए जाने की बाट देख रहे हैं। किसान का आरोप है कि धान की खरीद किए जाने वाली एजेंसी धान की तुलाई इसलिए नही कर रही है कि मजबूरी में किसान धान को औन पौने दामों पर आडतियों को बेचने के लिए मजबूर हो जाए। ग्राम अट्टा गूजरान और कई गांवों से आए किसानों ने बताया कि मंडी में धान खुले में पडा हुआ है और अफसर चैन की नींद सो रहे हैं यदि धान की तुलाई जल्द ही नही गई तो सभी किसान एकजुट होकर मंडी के गेट पर तालाबंद किए जाने के लिए मजबूर हो जाएंगे। वहीं किसान एकता संघ ने जिला विपणन अधिकारी कार्यालय पर तालाबंदी किए जाने का ऐलान किया है। किसान एकता संघ का एक प्रतिनिधिमंडल ने उत्तर प्रदेश अध्यक्ष जतन सिंह भाटी के नेतृत्व में कृषि उत्पादन मंडी समिति दनकौर के सचिव मलखान से मिला और डिप्टी आरएमओ के नाम संबोधित एक ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर किसान एकता संघ के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रमेश कसाना ने बताया कि किसानों की धान खरीद के लिए 1 अक्तूबर से आर.एफ.सी व एफ.सी.आई के कांटे लगाकर किसान की धान खरीद के आदेश शासन द्वारा दिए गए हैं, जो अभी तक चालू नहीं किए गए हैं जबकि  पूरे जिले में तीन क्रय केंद्र ही अनुमोदित किए गए हैं जो नाकाफी हैं। पिछले 12 दिनों से किसान दनकौर अनाज मंडी में अपनी धान की फसल को डालकर तुलाई का इंतजार कर रहे हैं, जो किसानों के साथ सरासर अन्याय है। इस अवसर पर जिला अध्यक्ष कृष्ण नागर ने चेतावनी दी कि अगर निश्चित समय पर किसानों की धान की तुलाई नहीं होती है तो किसान एकता संघ के बैनर तले 14 अक्तूबर को जिला विपरण अधिकारी के कार्यालय पर तालाबंदी कर अनिश्चित कालीन धरना दिया जाएगा। इस मौके रमेश कसाना,बले नागर,लोकेश भाटी,बिज्जन नागर,प्रदीप भाटी,श्यामवीर नागर,महेश नागर,सुभाष भाटी आदि पदाधिकारी और कार्यकतागण उपस्थित रहे।

क्या कहते हैं कृषि उत्पादन मंडी समिति सचिव?

 


कृषि उत्पादन मंडी समिति दनकौर सचिव मलखान ने ’’विजन लाइव’’ को बताया कि शासन की ओर से गत 1 अक्टूबर-2020 से ही धान की तुलाई किए जाने के आदेश दिए गए हैं। किसानों की बात बिल्कुल जायज है कि धान की तुलाई समय पर नही की जा रही है। किसान से धान की खरीद एफ.सी.आई जैसी सरकार की एजेंसी करती हैं। कृषि उत्पादन मंडी समिति की जिम्मेदारी किसानों के लिए अनुकूल वातावरण मुहैया कराना होता है, जैसे स्वच्छ पेयजल की व्यवस्था,कांटा बाट, चलना आदि आदि। यह सभी सुविधाएं किसानों को समय पर मंडी परिसर में उपलब्ध कराई जा रही है। इसके अलावा किसानों की धान की तुलाई एजेंसियों को करानी है इस समस्याओं को लेकर भी उनके स्तर से एक पत्र डिप्टी आरएमओ और एस.एम.आई. संबंधित अधिकारियों को भेज दिया गया है, ताकि उक्त अधिकारी वास्तु स्थिति से अवगत हो और किसानों की धान की तुलाई जल्द शुरू हो जाए।

 vidio