गिरोहबंद अधिनियम पर अभियोजन अधिकारियों की राष्ट्रीय वेबीनार संपन्न



विजन लाइव/ग्रेटर नोएडा

प्रत्येक माह के द्वितीय एवं चतुर्थ शनिवार को मेरठ मण्डल के अपर निदेशक अभियोजन चंद्रशेखर त्रिपाठी के मार्ग दर्शन में आयोजित होने वाली इस माह की पहली राष्ट्रीय वेबीनार आज दिनांक 12-09-2020 शनिवार को संपन्न हुई। राष्ट्रीय वेबीनार के मुख्य अतिथि के रुप में बोलते हुए लखनऊ के पुलिस आयुक्त सुजीत पाण्डेय, आई.पी.एस. ने आपराधिक न्याय प्रशासन में अभियोजन की भूमिका के महत्व पर प्रकाश डाला और साथ ही अभियोजन द्वारा पुलिस आयुक्त प्रणाली की सफलता में योगदान की भी सराहना की। उन्होंने कहा कि बडे़ बडे़ गिरोहबंद अपराधियों को न केवल सजा दिला कर, बल्कि अपराध करके उनके द्वारा एकत्रित की गई अवैध सम्पत्ति को राज्य के पक्ष में जब्त करके उनकी गतिविधियों पर अंकुश लगाया जा सकता है। लखनऊ और गौतमबुद्धनगर का उदाहरण देते हुए लखनऊ पुलिस आयुक्त श्री पाण्डेय ने बताया कि इन दो जनपदों में गिरोहबंद अपराधियों की करोड़ों की सम्पत्ति कुर्क की गई है। इस कार्यवाही में अभियोजन का महत्वूपर्ण सहयोग रहा है। लखनऊ के वरिष्ठ अभियोजन अधिकारी एवं उ.प्र. अभियोजन अधिकारी सेवा संघ के अध्यक्ष अवधेश सिंह ने उ.प्र. गिरोहबंद एवं समाज विरोधी क्रियाकलाप निवारण अधिनियम के विभिन्न कानूनी प्रावधानों को विस्तार से समझाया। गैंगेस्टर अधिनियम के मामलों की विवेचना और विचारण के संबन्ध में न्यायालयों की नजीरों, शासनादेश एवं कानूनी प्रावधानों की वेबीनार में विस्तार से चर्चा हुई। प्रतिभागी अधिकारियों द्वारा उ.प्र.सरकार के अपराध मुक्त समाज के उद्देश्य को पूरा करने के लिए गिरोहबंद अधिनियम के अन्तर्गत और अधिक प्रभावी कार्यवाही हेतु महत्त्वपूर्ण सुझाव दिए गए। जनपद गौतमबुद्धनगर के संयुक्त निदेशक अभियोजन उमेश चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि वेबीनार में उ.प्र.,उत्तराखंड, मध्य.प्रदेश.,बिहार और तेलंगाना राज्य के अभियोजकों ने प्रतिभाग किया। उ.प्र.अभियोजन सेवा के कई जनपद एवं मण्डलीय स्तर के अधिकारी भी उपस्थित थे। वेबीनार का संचालन संयुक्त निदेशक अभियोजन बुलंदशहर ललित मुद्दगल ने किया। कार्यक्रम के संयोजक चन्द्र प्रकाश मणि त्रिपाठी, एस.पी.ओ. मेरठ, श्रीमती शैली भारद्वाज, पी.ओ.गाजियाबाद और सुदेश कुमार शर्मा ए.पी.ओ. बागपत थे। जब कि इस मौके पर अभियोजन मुख्यालय के एस.पी.ओ. कुंवर विक्रम सिंह विशेष सलाहाकार के रुप में उपस्थित रहे।