56 इंच की छाती होते हुए भी पड़ोसी मुल्क भारत पर हावी हो रहे हैं,वहीं झूठ गुमराह नफरत की पोटली लेकर गोदी मीडिया देश की जनता को बरगला रही है





चौधरी शौकत अली चेची

---------------------------


भाजपा सरकार की योजनाएं, घोषणाएं और विकास की उपलब्धियों को चंद बिंदुओं पर समझने की कोशिश करें। 20 लाख करोड रुपए का फार्मूला शायद बादलों में छुप गया, शिक्षा, रोजी, बेरोजगार, महंगाई, डायन देश का हो गया बंटाधार। नोटबंदी, जीएसटी में देश की जनता फंसी, गोदी मीडिया जनता पर हंसी, देश की आर्थिक व्यवस्था गहरे दलदल में धंसी, विकास पुरुष ने चाय बेची 35 साल, भिक्षा मांगी किसी ने नहीं देखा लेकिन अब यहां सरकारी संस्थाएं बेची जा रही हैं। देश की शान लाल किले को पहले ही गिरवी रख दिया गया। अब रेलवे, एयरपोर्ट, सरकारी स्कूल, हॉस्पिटल, बीएसएनएल,एलआईसी का भी नंबर है। बताया तो यह भी जा रहा है कि  268 टन सोना बेच दिया गया। किसान, गरीब, मजदूर, बेसहारा लोग बच्चों की शादी में गहने कैसे खरीदें? सोना 50 हजार रुपए के पार गया। देश में लगभग 60 प्रतिशत कंपनियां बंद हो गईं। बहुत सारी वस्तुओं के दाम 70 प्रतिशत तक बढ़ गए। समझ में नहीं आता लोगों के अच्छे दिन बुरे दिनों में क्यों बदल गए? जाति धर्म का चश्मा चढ़ा कर लोगों से खूब वोट बटोरे, हत्याएं, महंगाई, बेरोजगारी, अत्याचार, भ्रष्टाचार, बलात्कार, जाति धर्म की नफरत से 80 प्रतिशत देशवासी भाजपा सरकार के कारनामों से रो रही है। 56 इंच की छाती होते हुए भी पड़ोसी मुल्क भारत पर हावी हो रहे हैं। झूठ गुमराह नफरत की पोटली लेकर गोदी मीडिया देश की जनता को बरगला रही है। पिछले 6 सालों में किसानों पर लगभग 40 प्रतिशत का भार बढा है। किसानों की दुगनी आय करने का फार्मूला नाली की गैस से नष्ट हो गया।  20 करोड से ज्यादा लोगों के रोजगार समाप्त हो गए। गोबर, गोमूत्र, ताली, थाली, मोमबत्ती, टॉर्च आदि से कौराना समाप्त नहीं हुआ। यह भी खबरें आ रही है कि यूपी में ही कोरोना किट में बड़ा घोटाला हो गया। छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट ने लॉकडाउन में विद्यार्थियों से फीस नहीं लेने का आदेश दिया। मगर स्कूल  कॉलेज छात्रों के  घरवालों पर  धमकी भरे लहजे में  फीस वसूल करने का दबाव बना रहे हैं। खासकर  यूपी के जिला गौतमबुद्धनगर में स्कूलों की तानाशाही  चरम पर है। सीमा पर जवान, खेत में किसान, सबसे ज्यादा परेशान लेकिन हम सबका भारत देश महान सरकारें आती है जाती हैं, सत्ता में रहकर कानून बनाना, सबकी भलाई में अच्छा लगता है, विश्वासघात जहर देने से भी ज्यादा खतरनाक होता है। गरीब के दर्द की आवाज ऊपरवाला जरूर सुनता है। यादें रह जाती हैं अच्छाई की बुराई की कहानियां बन जाती हैं केंद्र सरकार ने नौकरियां देने से इनकार कर दिया। 5 साल के लिए नौकरियों में सरकार ने संविदा लगाकर बेरोजगार नौजवानों को अच्छे दिनों का खुला आईना दिखलाया है। सरकार ने लगभग 1700 नए कानून जनता की बर्बादी के बना दिए हैं। यूपी सरकार ने अयोध्या में सवा लाख दिए जला दिए और यही नहीं ठोको की नीति अपनाकर न जाने कितनों के सुहाग व कितनों के घर उजाड़ दिए। देश में जाति धर्म की द्वेष भावना से लोगों के दिलों में नफरत के दिए जला दिए। काला धन आया नहीं 15 लाख मिले नहीं 12 बैंक बना दिए अब 5 बैंक बनाने की तैयारी गोदी मीडिया बना रही है। यूपी इस बडा जंगलराज क्या होगा कि किसकी जान कब चली जाए, कानून के शिकंजे में कौन कब फस जाग?, अंदाजा लगाना मुश्किल है। यूपी सरकार ने पुलिस प्रशासन को छूट पहले ही दे रखी थी लेकिन अब बिना नोटिस बिना परमिशन किसी को भी शक के दायरे में लेकर जेल में डाल सकती है, किसी के भी घर की तलाशी ले सकती है, नई कोई चीज बनाई नहीं, जाति धर्म के नाम पर सरकारी संस्थाएं पुरानी धरोहर आदि के नाम बदल दिए। अरबों रुपए खर्च कर दिए रेलवे आदि भर्ती के लिए फार्म भरने पर लगभग 20 अरब रुपए से ज्यादा वसूल  लिए। किसान फसल बीमा योजना के नाम पर कंपनी ने लगभग 1000 करोड रुपए कमा लिए, किसान बीमा किश्त के तौर पर किसानों ने 6600 करोड़ रुपए भर दिए। बहनों भाइयों मित्रों बताओ किसानों को वापस कितने दिए 6000 किसानों को 1 साल में देने की घोषणा कर दी। किस.किस की झोली भर दी, मौज कर दी या हद कर दी रसोई गैस की सब्सिडी खत्म कर दी। डीजल, पेट्रोल, बिजली बिल, किराया भाड़ा आदि में महंगाई करके फंड देने वालों की झोली भर दी। कंपनियों में नौकरी नहीं मिलेगी क्षेत्र के लोगों को, 200 किलोमीटर की दूरी तय कर दी। सुशांत रिया कंगना से गोदी मीडिया को इतना लगाव है इनका विदेशों मे डंका बजा दिया। इस भयंकर स्थिति में 24 घंटे में लगभग 60 बलात्कार, 80 आत्म हत्याएं हो रही हैं। इन आत्महत्याओं में लगभग 60 प्रतिशत किसान है जो 70 प्रतिशत देश की आर्थिक व्यवस्था को अपने कंधे पर संभाले हुए हैं। किसान लगभग 90 प्रतिशत सामानों पर जीएसटी व टैक्स देता है। इस समय हमारे देश पर लगभग 600 मिलियन डॉलर का विदेशी कर्जा बताया जा रहा है और देश में 5 ट्रिलियन का ढोल बजाया जा रहा है। देश लगभग 40 साल पीछे चला गया सभी को जागरूक होना  जरूरी है। सभी देशवासी आंखें खोलो उठकर बोलो आगे आने वाली पीढ़ी को क्या जवाब दोगे? आखिर  पूर्वजों की आत्मा  क्या कह रही होंगी? जो सभी धर्म समुदाय के हमारे पूर्वजों ने अपने प्राणों की आहुति दे कर देश को गुलामी से आजाद कर सबके लिए मजबूत संविधान बना कर हमें आजादी देकर दुनिया से चले गए। देश आजाद होने के बाद लगभग 1250 लड़ाकू विमान खरीदे गए, मगर अब तो 5 राफेल खरीद कर ढोल बजाया जा रहा है। विदेशों में भारत की छवि धूमिल हो रही है 90 प्रतिशत देश की जनता अपने वोट का गलत इस्तेमाल कर शायद घुटन महसूस कर रही है। सच्चाई कड़वी होती है बुद्धिजीवी लोग परेशान हैं, झूठ, गुमराह, नफरत का पलड़ा शायद भारी है। सच्चाई अच्छाई इंसानियत डर के साए में जी रही है। सोच विचार कर सब से प्यार करो गलतियों का उद्धार करो, हिंदू मुस्लिम, सिक्ख, ईसाई, हम आपस में भाई भाई। जय जवान, जय किसान हम सबका भारत देश महान इस नारे को सभी मिलकर बुलंद करो। अमन चैन तरक्की भाईचारे की ज्योत जलाओ, एक दूसरे की छोटी गलतियों को माफ कर इंसानियत को जगाओ।

लेखकः- चौधरी शौकत अली चेची भारतीय किसान यूनियन ( बलराज  ) के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष  हैं।